वायु प्रदूषण के प्रभाव को कम करता है गुड़, जानें सेवन का तरीका

Jaggery Benefits in Air Pollution: गुड़ में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर को अंदर से मजबूत बनाने का काम करते हैं।

 
Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasUpdated at: Nov 11, 2022 18:35 IST
वायु प्रदूषण के प्रभाव को कम करता है गुड़, जानें सेवन का तरीका

Gud can save you from the harmful air pollution: सर्दियों का मौसम आते ही दिल्ली-एनसीआर की हवा प्रदूषित हो चुकी है। वायु प्रदूषण के कारण लोगों को अस्थमा, सांस लेने में परेशानी, फेफड़ों से संबंधित परेशानियां हो रही हैं। हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि दूषित हवा (Side Effect of Air Pollutants) में सांस लेना किसी जहर का सेवन करने के समान माना जाता है। वायु प्रदूषण के प्रभाव से बचने के लिए कुछ लोग मास्क लगा रहे हैं, तो कुछ घर में हजारों रुपये खर्च करके एयर प्यूरीफायर लगवा रहे हैं। हालांकि मिडिल क्लास परिवार के लिए एयर प्यूरीफायर का इस्तेमाल करना आज भी थोड़ा मुश्किल है। 

लेकिन क्या आप जानते हैं रोजाना एक छोटा सा टुकड़ा गुड़ का खाने से वायु प्रदूषण के प्रभाव को कम किया जा सकता है। सर्दियों में आमतौर पर वैसे भी मां और दादी गुड़ खाने की सलाह देती हैं। गुड़ खाने से सेहत को अनगिनत लाभ मिलते हैं। प्रतिदिन गुड़ का सेवन करने से पाचन संबंधी समस्याओं को ठीक करने और दूषित हवा के कारण होने वाली एलर्जी से भी राहत मिल सकती है। आइए जानते हैं गुड़ कैसे वायु प्रदूषण के प्रभाव को कम करता है और इसका सेवन कब करना चाहिए (gud kab khana chahiye)।

इसे भी पढ़ेंः 46 साल के टीवी एक्टर सिद्धांत वीर सूर्यवंशी की जिम करते हुए हार्ट अटैक से मौत, क्यों बढ़ रहे हैं ऐसे मामले?

Jaggery-Gud-can-save-you-from-the-harmful

वायु प्रदूषण के प्रभाव से बचने के लिए खाएं गुड़ - Jaggery or Gud can save you from the harmful air pollution

वायु प्रदूषण के प्रभाव से बचने के लिए गुड़ को बहुत गुणकारी माना जाता है। गुड़ में एंटी एलर्जिक गुण पाए जाते हैं, जो फेफड़ों को साफ करने में मदद करते हैं। यही कारण है कि सर्दियों के मौसम में अस्थमा रोगियों को प्रतिदिन गुड़ खाने की सलाह दी जाती है। गुड़ में आयरन की भरपूर मात्रा पाई जाती है। आयरन खून में हीमोग्लोबिन का लेवल सामान्य करता है। जिस वजह से खून में ऑक्सीजन का स्तर बढ़ जाता है। यह बात कई स्टडीज में भी साबित हो चुकी है कि हर दिन गुड़ खाने से हवा में फैले प्रदूषण का सेहत पर ज्यादा असर नहीं होता है।

आयुर्वेद भी करता है गुड़ खाने की सिफारिश 

सिर्फ घर के बड़े-बुजुर्ग ही नहीं बल्कि आयुर्वेद में भी गुड़ खाने के बहुत सारे फायदे  बताए गए हैं। सर्दियों के मौसम में गुड़ खाने से सर्दी-जुकाम, अपच, एसिडिटी जैसी परेशानियों से बचा जा सकता है। गन्ने के रस एवं ताड़ जैसे नेचुरल स्रोतों से प्राप्त गुड़ रिफाइंड शुगर का एक स्वस्थ विकल्प है। यही कारण है कि गुड़ को सुपर फूड कहा जाता है। आप बिना किसी संकोच के गुड़ का सेवन कर सकते हैं।

गुड़ का सेवन कैसे करें?

वायु प्रदूषण के प्रभाव से बचने के लिए आप रोजाना सुबह खाली पेट गुड़ को गुनगुने पानी में साथ ले सकते हैं। आप चाहें तो रोजाना लंच के बाद एक टुकड़ा गुड़ का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा आप चाय में चीनी की जगह गुड़ का सेवन कर सकते हैं। 

1 दिन में कितने ग्राम गुड़ खाना चाहिए?

गुड़ की तासीर गर्म मानी जाती है, इसलिए इसका सेवन मुख्य तौर पर सर्दियों में किया जाता है। एक स्वस्थ व्यक्ति को एक दिन में 10 से 15 ग्राम से ज्यादा गुड़ का सेवन नहीं करना चाहिए। अगर आप डायबिटीज, कैंसर या ब्लड प्रेशर की बीमारी से ग्रस्त हैं तो गुड़ का रोजाना सेवन करने से पहले डॉक्टर या डाइटिशियन की सलाह लें।

 

Disclaimer