क्या नॉनस्टिक पैन में खाना पकाना हेल्दी है? एक्सपर्ट से जानें कितना सही है ये और कितनी आंच पर पकाएं खाना

नॉनस्टिक बर्तनों का प्रयोग करना चाहिए या नहीं इस बात को लेकर अक्सर लोगों के बीच होती है, एक्सपर्ट से जानें क्या है सही। 

 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Mar 03, 2020Updated at: Mar 03, 2020
क्या नॉनस्टिक पैन में खाना पकाना हेल्दी है? एक्सपर्ट से जानें कितना सही है ये और कितनी आंच पर पकाएं खाना

वर्तमान समय में  हम कई ऐसी बनावटी चीजों से घिरे हैं, जिन्हें प्रयोग करना हमारी आदत सी बन गई है फिर चाहे बात खान-पान की हो या फिर खाने से जुड़ी वस्तुओं की। मौजूदा वक्त में तमाम ऐसी चीजें हैं, जो हमारे रोजाना के प्रयोग में आती है लेकिन हमारे स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव डालती हैं। हम भले ही इन छोटी-मोटी चीजों को नजरअंदाज कर देते हैं लेकिन ये चीजें हमारे स्वास्थ्य पर कई तरीके से प्रभाव डालती हैं। इन्हीं में से एक है नॉनस्टिक बर्तनों और पैन का प्रयोग, जिनका लोग बहुत ज्यादा प्रयोग करने लगे हैं। आपकी रसोई में रखे नॉनस्टिक बर्तन क्या आपके स्वास्थ्य के लिए हेल्दी हैं इसके बारे में आपने कभी सोचा है? अगर नहीं तो आपके लिए ये जानना बहुत ही जरूरी है कि इन नॉनस्टिक का प्रयोग आपकी सेहत के लिए कितना फायदेमंद है और अगर नहीं तो क्यों नहीं है। 

non stick pan

नॉनस्टिक के बारे में क्या है दावें?

दुनियाभर में नॉनस्टिक पैन और बर्तनों का इस्तेमाल बहुत तेजी से बढ़ रहा है और हम अपने रोजमर्या के जीवन में इनका बखूबी इस्तेमाल करते भी हैं। लेकिन इन पैन पर चढ़ी नॉनस्टिक कोटिंग को लेकर अक्सर लोगों के बीच बहस होती है। इस नॉनस्टिक कोटिंग को टेफलोन कहते हैं। कई स्त्रोतों का दावा है कि ये हानिकारक होती है और कैंसर जैसी कई स्वास्थ्य स्थितियों से जुड़ी हुई होती है। जबकि कुछ नॉनस्टिक बर्तनों में खाना पकाने को पूर्ण रूप से सुरक्षित मानते हैं। नॉनस्टिक कूकवेयर जैसे फ्राइपैन, सॉसपैन पर एक तरह की परत चढ़ी हुई होती है, जिसे पॉलीटेट्राफ्लोरोथेलीन कहते हैं, जिसकों आम भाषा में टेफलोन के रूप में जाना जाता है।

इसे भी पढ़ेंः किस सब्जी को ज्यादा पकाने से हमारी सेहत को पहुंच रहा नुकसान, न्यूट्रिशिनिस्ट से जानें उस सब्जी का नाम

क्यों बढ़ रहा है नॉनस्टिक का प्रयोग

नॉनस्टिक बर्तनों की सतह को टेफलोन कोटेड इसलिए बनाया जाता है क्योंकि ये प्रयोग करने और खाना पकाए जाने के बाद साफ करने में आसान होती हैं। इसके साथ ही इसमें बहुत कम तेल या मक्खन की जरूरत होती है, जिसके कारण आपका खाना हेल्दी तरीके से पका होता है। मौजूदा वक्त में सभी टेफलोन उत्पाद पीएफओए (PFOA-free) मुक्त होते हैं। इसलिए PFOA के स्वास्थ्य प्रभाव अब चिंता का विषय नहीं रह गए हैं। इसके बावजूद कई शोध में पाया गया है कि टेफलोन कूकवेयर PFOA का कोई जरूरी स्त्रोत नहीं है।

nonstick

कितने तापमान पर पकाएं भोजन 

एक्सपर्ट का कहना है कि सभी कंपनियां तय नियमों को पूरा कर रही है इसलिए नॉनस्टिक कूकवेयर सहित सभी टेफलोन उत्पाद 2013 के बाद से (PFOA-free) हो चुके हैं। एक्सपर्ट मानते हैं कि टेफलोन एक सुरक्षित और स्टेबल कंपाउंड है। हालांकि 570 फेरनहाइट (300 डिग्री सेल्सियस) से ज्यादा के तापमान पर खाना नहीं पकाया जाना चाहिए क्योंकि इससे ज्यादा तापमान पर नॉनस्टिक कूकवेयर पर चढ़ी टेफलोन कोटिंग टूटना शुरू हो जाती है और हवा में विषाक्त रसायन छोड़ने लगती है। इसलिए कभी भी नॉनस्टिक पैन को जरूरत से ज्यादा गर्म नहीं करना चाहिए। 

इसे भी पढ़ेंः फ्रिज में कितनी देर रखें सामान ताकि आपके स्वास्थ्य को न हो नुकसान, जानें इससे जुड़ी सभी बातें

कैसे करें सही कूकवेयर की पहचान

अगर आप नॉनस्टिक पैन खरीदना ही चाहते हैं तो सुनिश्चित करें कि आपका पैन अच्छी कंपनी का हो। इसके साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि पैन को बनाने में अच्छी गुणवत्ता का इस्तेमाल किया गया हो। दरअसल आप सिर्फ बर्तन नहीं बल्कि अपने स्वास्थ्य से जुड़ी एक जरूरी चीज खरीदने जा रहे हैं। जब आपके बर्तन ही स्वस्थ नहीं होंगे तो आप कैसे स्वस्थ रहेंगे।

इस तरीके से कम करें खाना पकाते वक्त खतरा

  • बेवजह खाली पैन को पहले से ही गर्म न करें। 
  • तेज आंच पर खाना पकाने से बचें। 
  • जब आप खाना पका रही हों तो अपने एग्जॉस्ट फैन को ऑन करें। 
  • किसी प्रकार की घटना से बचने के लिए रसोई की खिड़की भी खोल दें। 
  • बर्तनों को धीरे-धीरे धोएं। बर्तन धोने के लिए स्पंज, साबुन और गर्म पानी का इस्तेमाल करें। 
  • स्टील के जूने से बर्तन न मांझे क्योंकि ये कोटिंग को खराब कर सकते हैं। 
  • पुराने बर्तन बदल दें क्योंकि इनकी सतह हल्की होकर जल्दी गर्म हो जाती है, जिस कारण खाना सही से नहीं पक पाता है।

सोर्स (फिटनेस एंड न्यूट्रिशिनिस्ट रोहन मोंगा की Quora वॉल से)

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

Disclaimer