क्या हार्ट के रोगों से बचाव के लिए हफ्ते में 75 मिनट की एक्सरसाइज काफी है? जानें डॉक्टर की राय

हाल ही में हुए अध्ययन से पता चलता है कि हफ्ते में की गई 75 मिनट की एक्सरसाइज हार्ट रोग से बचाव में कारगर है। जानते हैं इस पर डॉक्टर की राय...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jun 14, 2021Updated at: Jun 14, 2021
क्या हार्ट के रोगों से बचाव के लिए हफ्ते में 75 मिनट की एक्सरसाइज काफी है? जानें डॉक्टर की राय

आज के समय में ज्यादातर लोग दिल की बीमारी, मानसिक बीमारी, पाचन संबंधित समस्या, बालों की समस्या, त्वचा की परेशानी आदि से ग्रस्त रहते हैं। यह बीमारियां आम होती जा रही हैं। ऐसे में इन बीमारियों पर बड़े-बड़े अध्ययन भी किए जाते हैं, जिनके परिणाम हमें यह बताते हैं कि जीवन में क्या बदलाव करके हम इन बीमारियों से छुटकारा पा सकते हैं। आज हम फिर एक रिसर्च के ऊपर बात कर रहे हैं, जिसमें हार्ट रोग से बचाव में एक हफ्ते में की गई 75 मिनट की एक्सरसाइज लाभदायक है। जी हां, आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि क्या है पूरी रिसर्च और क्या है इस रिसर्च पर डॉक्टर की राय। इसके लिए हमने नोएडा के कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर निशिथ चंद्रा (Cardiologist Dr. Nishith Chandra) से भी बात की है। पढ़ते हैं आगे...

क्या है रिसर्च

स्टडी नीदरलैंड के रैडबाउड यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर (Radboud University Medical Center, Nijmegen, the Netherlands) के अध्ययन लेखन डॉक्टर बक्कर (Study author Dr. Esmée Bakker) के द्वारा की गई है। इसे स्टडी को ईएससी कार्डियोलॉजी 2021 (ESC Preventive Cardiology 2021) में प्रस्तुत किया गया है।

ये भी पढ़ें- एंटीबायोटिक दवाओं को दूध के साथ खाना कितना सही? जानें डॉक्टर से

  • इस अध्ययन में 88,320 लोगों ने भाग लिया। बता दें कि शोधकर्ताओं ने शामिल हुए अभ्यर्थियों की दिनचर्या में शारीरिक गतिविधियों और व्यायाम को जोड़ा।
  • जीवन शैली में किए गए बदलावों का 4 साल तक पालन किया।
  • 4 साल बाद इस प्रक्रिया को फिर दोहराया गया, जिसमें इन लोगों के 2 भाग किए गए।
  • पहले भाग में 18,502 यानी 21% लोग थे, जिन्हें हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल या डायबिटीज था। इन लोगों की आयु 55 वर्ष के आसपास थी।
  • जब इस ग्रुप के परिणाम सामने आए तो पता चला कि शारीरिक गतिविधि के चलते ह्रदय रोग का खतरा 30% तक कम पाया गया। वहीं जब इन लोगों का फॉलोअप किया गया तो हार्ट डिजीज से मरने वालों की तुलना भी कम पाई गई।
  • वहीं दूसरा ग्रुप 69,808 यानी 79% लोगों का बना। इन ग्रुपों के लोगों में किसी को भी हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल या डायबिटीज नहीं था और इनकी आयु भी 43 वर्ष के आसपास थी।
  • जब परिणाम निकाले गए तो पाया गया कि जिन लोगों ने अपनी दिनचर्या में शारीरिक गतिविधियों को शामिल नहीं किया है वह हृदय रोग से ग्रस्त पाए गए और मृत्यु दर 40% तक बढ़ गया। 

क्या कहते हैं शोधकर्ता

डॉक्टर बक्कर कहते हैं कि अध्ययन के अनुसार, दिल के दौरे और स्ट्रोक को रोकने के लिए रोज की गई एक्सरसाइज बेहद उपयोगी है। यूरोपीय दिशा निर्देशों के अनुसार हफ्ते में सामान्य गतिविधि 150 मिनट एक्सरसाइज या 75 मिनट हाई गतिविधि एक्सरसाइज जैसे- एरोबिक्स आदि को जोड़ें। वही जो लोग वर्तमान में किसी भी गतिविधि का हिस्सा नहीं है वे सबसे पहले चलना शुरू करें। उसके बाद हर दिन अपनी गतिविधियों को 10 मिनट के लिए बढ़ाते रहें।

स्टडी को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

क्या है डॉक्टर की राय

नोएडा के कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर निशिथ चंद्रा (Cardiologist Dr. Nishith Chandra) कहते हैं कि यह स्टडी बिल्कुल सही है। अगर व्यक्ति हफ्ते में 75 मिनट एक्सरसाइज कर ले या दिन में 30 मिनट रोज एक्सरसाइज करे तो ऐसा करने से हार्ट अटैक, स्ट्रोक, डायबिटीज आदि का खतरा कम होता है। इसके अलावा संतुलित आहार का होना भी बेहद जरूरी है। वहीं दिनचर्या में कुछ बदलाव जैसे- स्मोकिंग ना करना, मोटापे से बचाव, हर वक्त एक्टिव रहना आदि यह सब भी हार्ट के लिए एक अच्छी आदतों में से एक हैं।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि रोज की गई एक्सरसाइज हमें दिल के रोगों से मुक्त रख सकती है। अब तो इस स्टडी पर डॉक्टर ने भी हरी झंड़ी दिखा दी है। 

ये लेख नोएडा के कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर निशिथ चंद्रा (Cardiologist Dr. Nishith Chandra) से बातचीत पर आधारित है।

Read More Articles on miscellaneous in hindi

Disclaimer