Lockdown: लंबे समय तक बचाना है खाना? जानें किस चीज को कैसे करें प्रिजर्व

लॉकडाउन के दौरान अधिक समय तक भोजन को संरक्षित करके रखना आज लोगों की जरूरत बन गई है। आइए चीजों को प्रिजर्व करना सीखें।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Mar 27, 2020
Lockdown: लंबे समय तक बचाना है खाना? जानें किस चीज को कैसे करें प्रिजर्व

कोरोनोवायरस महामारी के मद्देनजर कई लोगों ने बाहर जाने से बचने के लिए कुछ सब्जियों और अन्य खाद्य पदार्थों को संग्रहीत कर लिया हैं। वहीं कुछ जिन्होंने खाने की चीजों को अभी तक संग्रहीत करके नहीं रखा था अब वो ये काम कर रहे हैं। पर खाने की चीजों को संग्रहीत करके रखन ही सिर्फ काफी नहीं है, बल्कि आपको यह भी सुनिश्चित करना होगा कि वे खपत के लिए ताजा रहें। आपने कई बार सब्जियों और अन्य खाद्य पदार्थों को फ्रिज में रखने पर भी सूखा या सड़ा हुआ पाया होगा। तो फ्रिज में आपके द्वारा खरीदे गए सभी सामानों को प्रिजर्व करके रखना काफी नहीं हैष वहीं कुछ फल और सब्जियां और अन्य चीजें भी फ्रिज में रखे-रखे खराब हो सकती हैं। इसलिए आपको पता होना चाहिए कि किन चीजों को कैसे प्रिजर्व करके रखा जाए ताकि वो लंबे समय तक इस्तेमाल के लायक बने रहें। आज हम आपको कुछ तरीके बता रहे हैं, जिससे आप अपने फलों और सब्जियों को अधिक समय तक सुरक्षित रख सकते हैं और सुनिश्चित कर सकते हैं कि आप ताजा और स्वस्थ भोजन खा रहे हैं। 

insideboilingfoods

सब्जियों को प्रिजर्व से पहले उन्हें उबाल लें

अगर आप ब्रोकोली, मटर और फ्रेंच बीन्स जैसी सब्जियों को प्रिजर्व करना चाहते हैं तो उन्हें यूंही फ्रिज में रखने से पहले 30 सेकंड के लिए उबाल लें। वहीं बात अगर गाजर की करें, तो उबाल कर आप उन्हें रख लें और जब इस्तेमल करना चाहें, तो कटा कर इसे इस्तेमाल कर लें। तब तक स्पंजी हो सकते हैं जब उनकी कोशिकाओं में पानी फैलता है और इस तरह वो सूखते नहीं हैं।

पत्तेदार सब्जियों को लपेट कर रखें

पत्तेदार सब्जियों को संग्रहीत करने से पहले, उन्हें धुल कर और सूखा कर रखना एक अच्छा तरीका है। वहीं थोड़ा सूख जाने के बाद इसे कागज तौलिया में लपेटें जो नमी को अवशोषित करेगा। फिर आप उन्हें एक सील प्लास्टिक बैग या कंटेनर में ठंडा कर सकते हैं। इस तरह पत्तेदार सब्जियां जल्दी खराब नहीं होंगी और लंबे समय तक रही रहेंगी। हमेशा कोशिश करें कि इन्हें हल्के ठंड वाली जगह पर रखें क्योंकि ज्यादा ठंड और गर्म से भी ये खराब हो सकती हैं। वहीं गीले तौलिए में इसे रखना इसे लंबे समय तक हरा-भरा बनाए रखेगा।

insideplantsproducts

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस के खतरों के बीच बाहर निकलकर समान खरीदते समय न करें रश्मि देसाई जैसी गलतियां, सेहत पर पड़ेंगी भारी

खाद्य पदार्थों का अचार

यह बैक्टीरिया की वृद्धि को रोकने के लिए सिरका या वनस्पति तेल में डुबो कर खाद्य पदार्थों के जीवन का विस्तार करने की प्रक्रिया है। यानी कि इन चीजों को आप लंबे समय तक चला सकते हैं। आप सरसों के बीज, लहसुन, दालचीनी या लौंग जैसे रोगाणुरोधी जड़ी बूटियों और मसालों को भी इसमें जोड़ सकते हैं। आप ककड़ी, चुकंदर, शिमला मिर्च, टमाटर, मशरूम और इतने जैसे खाद्य पदार्थों को अचार बना कर लंबे समय तक रख सकते हैं।

फलों का रस

फलों को खराब होने से बचाने के लिए, उनका रस बना लें और उन्हें एयरटाइट ग्लास कंटेनर में स्टोर करें और फ्रिज में रख दें। दूसरी ओर, केले को सीधे रेफ्रिजरेटर में संग्रहीत किया जा सकता है। अगर छिलका भूरा हो जाए, तब भी ये फल पूरी तरह से खाने योग्य रहेगा। ठंडे तापमान से केले में पाए जाने वाले एंजाइम पॉलीफेनोल में पॉलीफेनाइल ऑक्सीडेज विकसित हो जाता है, जो केले की त्वचा में फेनोल्स को पोलीमराइज करता है। यही केले की त्वचा को काला करता है। इसी कारण है कि ठंडा तापमान फल को अधिक पकने से बचाता है।

insidemilk

इसे भी पढ़ें: कोरोनावायरस के कारण हुए लॉकडाउन के बारे में आपके मन में भी हैं कई सवाल? जानें उन सभी के जवाब

फ्रिज के दरवाजे के पास न रखें दूध और डेयरी खाद्य पदार्थ

फ्रिज के दरवाजे पर दूध और अन्य डेयरी खाद्य पदार्थों को संग्रहीत करने के बजाय, आप उन्हें पीछे की ओर रखें क्योंकि क्षेत्र ज्यादा ठंडा होता है। न केवल दरवाजे पर तापमान अधिक होता है, बल्कि हर बार गर्म हवा के संपर्क में आने से आप इसे खोलते हैं, जिससे बैक्टीरिया के बढ़ने और दूध खराब होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए कोशिश करें कि जब भी फिर्ज में दूध या कोई भी दूध वाली चीजें संग्रहित कर रहे हैं, तो उन्हें पीछे ही रखें क्योंकि सामने रखना उन्हें जल्दी खराब कर सकता है।

कमरे के तापमान में क्या रखें

कमरे के तापमान पर टमाटर, आलू, प्याज और लहसुन रखें। क्योंकि इनको सीधे धूप से दूर रखना चाहिए नहीं तो ये खराब हो जाते हैं। वहीं नमी के कारण भी आलू, प्याज लहसुन सड़ सकते हैं।

Read more articles on Home-Remedies in Hindi

Disclaimer