Doctor Verified

सर्दियों में बढ़ जाता है हाई बीपी का खतरा, इन उपायों से करें कंट्रोल

सर्द‍ियों में तापमान कम होने का असर बीपी पर पड़ता है। कुछ उपायों की मदद से हाई बीपी की समस्‍या को कंट्रोल क‍िया जा सकता है। जान‍िए इनके बारे में।

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Dec 12, 2022 09:00 IST
सर्दियों में बढ़ जाता है हाई बीपी का खतरा, इन उपायों से करें कंट्रोल

हाई बीपी की समस्‍या हो साइलेंट क‍िलर भी कहा जाता है। सर्द‍ियों के द‍िनों में हाई बीपी या हाइपरटेंशन का खतरा बढ़ जाता है। मौसम में ठंडक बढ़ने से रक्‍त धमन‍ियां स‍िकुड़ने लगती हैं और रक्‍त गाढ़ा हो जाता है। इससे रक्‍त और मस्‍त‍िष्‍क पर खून का दबाव बढ़ जाता है। हाई बीपी से स्‍ट्रोक और हार्ट अटैक का खतरा रहता है। इस लेख में हम आपको बताएंगे सर्द‍ियों में बीपी कंट्रोल करने के उपाय। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।  

high bp symptoms

सर्द‍ियों में बीपी बढ़ने के लक्षण 

  • बार-बार उल्‍टी या जी म‍िचलाहट का एहसास।
  • स‍िर में दर्द बने रहना।
  • घुटन का एहसास होना।
  • गरम कपड़े पहनने में अड़चन महसूस होना।
  • पसीना आना या कपड़ों का भीग जाना। 

इसे भी पढ़ें- ब्लड प्रेशर तुरंत कंट्रोल कैसे करें? जानें इमरजेंसी स्थिति के लिए 5 उपाय 

सर्द‍ियों में शरीर को ठंडी हवा से बचाएं 

ठंडी हवा से बचने के ल‍िए गरम कपड़ों का इस्‍तेमाल करें। हाई बीपी की समस्‍या से बचने के ल‍िए शरीर के ठंडी हवा से बचाएं। लेक‍िन इसका ये मतलब नहीं है क‍ि आप बाहर ही न न‍िकलें। सर्द‍ि‍यों में घर में दुबके रहने के बजाय धूप लें।  

नमक और चीनी का सेवन कम कर दें 

सर्द‍ियों में हमारी डाइट बढ़ जाती है। ठंड के मौसम में गरम-गरम पकौड़ों का लुत्‍फ उठाना हर क‍िसी को पसंद होता है। साथ ही लोग गाजर हलवे का स्‍वाद हर द‍िन चखना चाहते हैं। लेक‍िन क्‍या आपको पता है क‍ि सर्दियों में ज्‍यादा नमक या चीनी का सेवन करने से हाई बीपी की समस्‍या हो सकती है। बीपी बढ़ रहा है, तो म‍िर्च-मसाले वाला खाना और पैकेज्‍ड फूड्स का सेवन न करें।         

शरीर को एक्‍ट‍िव रखें 

सर्द‍ियों में हाई बीपी की समस्‍या से बचने के ल‍िए शरीर को एक्‍ट‍िव रखें। अक्‍सर सर्द‍ियां आते ही हम आलस्‍य का श‍िकार हो जाते हैं और फ‍िज‍िकल एक्‍ट‍िव‍िटी कम कर देते हैं। लाइफस्‍टाइल में इस बदलाव के कारण कई लोग ठंड में मोटे हो जाते हैं। वजन बढ़ने का सीधा असर बीपी पर पड़ता है। मोटापे का श‍िकार होने पर बीपी भी बढ़ा रहता है। बीपी बढ़ने से डायब‍िटीज की समस्‍या भी हो सकती है। ध्‍यान रखें क‍ि हर द‍िन कोई न कोई फ‍िज‍िकल एक्‍ट‍िव‍िटी में खुद को शाम‍िल जरूर करें।    

कैफीन का सेवन न करें 

ठंड के द‍िनों में हर क‍िसी को चाय और कॉफी का सेवन पसंद होता है। लोग द‍िन में 3 से 4 कप कॉफी या चाय पी लेते हैं। लेक‍िन आपको बता दें क‍ि कैफीन का सेवन करने से शरीर की ऊष्‍मा बाहर न‍िकल जाती है। इससे बीपी बढ़ सकता है। कैफीन के अलावा एल्‍कोहल, मीठी और खट्टी चीजों के सेवन से भी बचना चाह‍िए।  

सर्द‍ियों में हाई बीपी से कैसे बचें? ठंड के द‍िनों में शरीर को एक्‍ट‍िव रखें। ज्‍यादा मीठा या नमकीन चीजों का सेवन न करें और कैफीन का सेवन कम कर दें। साथ ही शरीर को गरम हवा से बचाकर रखें। 

Disclaimer