ब्लड में प्रोटीन क्यों बढ़ जाता है? जानें इसके कारण और बचाव

High Protein Levels in Blood Causes: खून में प्रोटीन की मात्रा बढ़ने के लिए कई कारण जिम्मेदार होते हैं, जानें इसके लक्षण। 

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Dec 14, 2022 19:26 IST
ब्लड में प्रोटीन क्यों बढ़ जाता है? जानें इसके कारण और बचाव

High Protein Levels in Blood Causes: शरीर में कोशिकाओं और मांसपेशियों के सही कामकाज और विकास के लिए प्रोटीन की सही मात्रा जरूरी है। शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर कई गंभीर परेशानियों का खतरा रहता है। यही नहीं अगर शरीर में प्रोटीन की मात्रा बहुत ज्यादा हो जाए, तो वह स्थिति भी बहुत गंभीर मानी जाती है। ब्लड में प्रोटीन की मात्रा बढ़ने को हाइपरप्रोटीनेमिया कहा जाता है। यह स्थिति कई गंभीर बीमारियों को जन्म दे सकती है। इसकी वजह से आपके शरीर में सूजन होने लगती है और लिवर आदि पर भी गंभीर प्रभाव पड़ता है। ब्लड में प्रोटीन की मात्रा बढ़ने के पीछे कई कारण जिम्मेदार होते हैं। असंतुलित खानपान, बीमारी और खराब जीवनशैली के कारण भी आपको यह समस्या हो सकती है। 

ब्लड में प्रोटीन बढ़ने के कारण- What Causes High Protein Level in Blood?

शरीर में हाई ब्लड प्रोटीन के लिए कई कारण जिम्मेदार होते हैं। ऐसा नहीं है कि यह समस्या हाई प्रोटीन डाइट लेने की वजह से होती है। दरअसल जब आपका शरीर किसी तरह के संक्रमण आदि से लड़ता है तो ब्लड में प्रोटीन की मात्रा बढ़ जाती है। इसके अलावा ब्लड में प्रोटीन की मात्रा बढ़ने के पीछे ये कारण प्रमुखता से जिम्मेदार माने जाते हैं-

  • शरीर में पानी की कमी यानी डिहाइड्रेशन के कारण
  • हेपेटाइटिस बी और सी की वजह से
  • एचआईवी/एड्स के कारण
  • अमाइलॉइडोसिस की समस्या
  • इन्फ्लेमेशन की वजह से
  • न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट के कारण
High Protein Levels in Blood Causes
 

ब्लड में प्रोटीन बढ़ने के लक्षण- High Protein Levels in Blood Symptoms

ब्लड में प्रोटीन की मात्रा बढ़ने पर कई लक्षण दिखाई देते हैं। इस समस्या में दिखने वाले कुछ प्रमुख लक्षण इस तरह से हैं-

  • भूख कम लगना
  • बहुत ज्यादा थकान
  • पाचन तंत्र से जुड़ी समस्या
  • उल्टी और दस्त
  • लगातार बुखार
  • वजन तेजी से कम होना
  • खड़े होने पर चक्कर आना
  • उंगलियों में झुनझुनी

ब्लड में प्रोटीन की मात्रा बढ़ने के लक्षण दिखने पर आपको सबसे पहले डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। डॉक्टर लक्षणों के आधार पर आपको ब्लड प्रोटीन टेस्ट या टोटल प्रोटीन टेस्ट की सलाह देंगे। इस टेस्ट की रिपोर्ट के आधार पर आपका इलाज किया जाएगा।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer