मार्केट में मिलने वाली मछली ताजी है या बासी? जानें परीक्षण करने का ये आसान फॉर्मूला

अगली बार जब आप एक मछली खरीदने जाएं तो ये जरूर देखें कि वह फ्रेश है या नहीं। FSSAI ने ताजी मछली के परीक्षण के बारे में बताया है। 

Atul Modi
Written by: Atul ModiUpdated at: Jan 06, 2020 19:56 IST
मार्केट में मिलने वाली मछली ताजी है या बासी? जानें परीक्षण करने का ये आसान फॉर्मूला

आप मछली कैसे खरीदना पसंद करते हैं? क्या आप मछली बाजार जाते हैं या आप मछली की खरीदारी सुपरमार्केट से करते हैं? आप कहीं से भी शॉपिंग करें, मगर इस बात का ध्‍यान रखें कि, ताजा मांस सेहत के लिए अच्छा होता है। फ्रोजेन मीट (पैक्‍ड मीट) की तुलना में फ्रेश मीट स्वाद और पोषण में बेहतर होते हैं। लेकिन ये कैसे पता किया जाए कि आपने मार्केट से जो मछली खरीदी है वह ताजी है या कई दिनों पुरानी। अगर जानकारी न हो तो, मछली की ताजगी का परीक्षण करना लोगों के लिए मुश्किल होता है। यहां हम आपको भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) के माध्‍यम से कुछ सुझाव साझा कर रहे हैं जो आपको मछली की ताजगी का परीक्षण करने में आपकी मदद करेंगे।

fish

ईएनटी टेस्ट (ENT Test)

1: देखकर

मछली की आंखें: जो मछलियां ताजी पकड़ी गई होती हैं उनकी आंखें चमकीली और साफ होती हैं। इसलिए मछली खरीदते समय यह जरूर जांच लें कि मछली आँखें लाल या सफेद तो नहीं है। लाल आंखों वाली मछली पकड़े जाने के समय तनाव का संकेत देती हैं साथ ही आंखों सफेद रंग होने का मतलब हो सकता है कि मछली बासी है। सिर्फ एक 'सी बेस' (Sea Bass) की आंखें ही प्राकृतिक रूप से अपारदर्शी हो सकती हैं।

गलफड़े: चमकीले लाल रंग के गलफड़े ताजगी का संकेत देते हैं। इसिलिए खरीदते समय आप मछली के गलफड़ों की जांच जरूर कर लें। बासी मछलियों के गलफड़े लाल या काले रंग के होते हैं।

शल्‍क: शल्क ऐसे छोटे खंड को कहते हैं जो मछली के शरीर की त्वचा से बाहर उगा हुआ होता है, वह चमकदार दिखने चाहिए। वह उलझे हुए नहीं होने चाहिए।

मछली का पेट: मछली का पेट फूला हुआ होना भी उसके बासी होने का संकेत हो सकता है। ऐसा होने की कारण हो सकता है कि मछली लंबे समय मृत हो या मृत ही पकड़ी गई हो।

पंख और पूंछ: ताजी मछलियों में पंख और पूंछ बिल्‍कुल स्‍पष्‍ठ दिखते हैं, शल्‍क की तरह।

fishinhindi

2: सूंघकर

ताजी मछली में से मछली के जैसी गंध नहीं आती। यह हैरानी की बात जरूर है लेकिन सच है। तालाब से तुरंत पकड़ी गई मछली में समुद्र के पानी या ककड़ी जैसी अधिक गंध आती है। इसमें से सिर्फ ताजी खुशबू आती है बदबूदार गंध नहीं। इसकी खुशबू बहुत ही हल्की होती है।

इसके अलावा यदि किसी मछली में से तेज या खट्टी गंध है आती है तो वह ताजी नहीं है। सिर्फ एक पुरानी-बासी मछली में ही ट्राइमेथिलैमाइन यौगिक को छोड़ने के कारण तीखी गंध होती है।

इसे भी पढ़ें: गले में मछली का कांटा फंस जाए तो करें ये 2 काम, तुरंत मिलेगा आराम

3: छूकर

एक ताजा और अच्छी गुणवत्ता (Quality) वाली मछली चमकदार, गीली, फिसलन या रबरयुक्त होती है। जब आप इसे छूते हैं तो आप इसकी गुणवत्ता (Quality) को महसूस कर सकते हैं। यदि मछली आसानी से आपके हाथ से फिसल जाती है, तो यह 100% ताजी है। आप मछली को दबाकर भी इसकी ताजगी की जांच कर सकते हैं। इसे दबाएं और देखें कि क्या यह सख्‍त है। एक ताजी मछली सख्‍त होती है। यह ताजगी की गारंटी देता है।

fish

परीक्षण करने के अन्‍य तरीके

मछली की ताजगी की पुष्टि करने के लिए यहां कुछ अन्य परीक्षण हैं।

मांस का रंग जांचें- केवल एक कॉड में सफेद मांस होता है, अन्य मछलियों में गुलाबी या लाल मांस होता है।

रक्त के थक्कों का रंग- यहां तक कि मछली की हड्डियों के आसपास के रक्त के थक्के भी बता सकते हैं कि क्या मछली ताजी है। ताजी मछली में चमकदार लाल थक्के होते हैं जबकि एक पुरानी मछली में हड्डियों पर गहरे लाल या काले रंग के थक्के होते हैं।

Read More Articles On Healthy Eating In Hindi

Disclaimer