Doctor Verified

ठंड में दिल की धड़कन का बढ़ना-घटना न करें नजरअंदाज, जानें Arrhythmia के कारण और बचाव

Heart Arrhythmia in Hindi: अनियमित दिल की धड़कन की समस्या के कई कारण हो सकते हैं, जानें इसके लक्षण और बचाव।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Jan 13, 2023 18:58 IST
ठंड में दिल की धड़कन का बढ़ना-घटना न करें नजरअंदाज, जानें Arrhythmia के कारण और बचाव

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

Heart Arrhythmia in Hindi: दिल की धड़कन का अनियमित होना एक गंभीर समस्या है। सर्दियों के मौसम में इस बीमारी का खतरा ज्यादातर लोगों में देखा जाता है। ऐसे लोग जो पहले से दिल से जुड़ी किसी गंभीर बीमारी के शिकार हैं, उन्हें इस समस्या का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। तापमान में गिरावट और जीवनशैली का ध्यान सही से न रखने की वजह से इस समस्या का खतरा बहुत ज्यादा रहता है। दिल की धड़कन वैसे तो दौड़ने, खेलने, कूदने या किसी आघात की वजह से घट या बढ़ सकती है। लेकिन इसके अलावा भी हार्ट से जुड़ी कुछ स्थितियों के कारण भी आपको इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है। अनियमित दिल की धड़कन (Heart Arrhythmia) को हृदय अतालता भी कहते हैं। आइए इस लेख में विस्तार से जानते हैं इस गंभीर समस्या के बारे में।

अनियमित दिल की धड़कन (हृदय अतालता) के कारण- What Causes Heart Arrhythmia in Hindi

जब किसी भी व्यक्ति का हृदय सामान्य से ज्यादा तेज धड़कता है तो इस समस्या को अनियमित दिल की धड़कन या हृदय अतालता कहते हैं। इस स्थिति के कारण आपके शरीर में ब्लड सर्कुलेशन प्रभावित होता है और इसकी वजह से स्ट्रोक, हार्ट अटैक जैसी गंभीर परेशानियों का खतरा रहता है। जब आपके हार्ट में दिल की धड़कन को कंट्रोल करने वाले इलेक्ट्रिक सिग्नल्स सही से काम नहीं करते हैं, तो इसकी वजह से हृदय अतालता का खतरा बढ़ जाता है। इस समस्या से बचने के लिए डॉक्टर हमेशा सही जीवनशैली और खानपान में सुधार की सलाह देते हैं। लखनऊ के मशहूर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. के के कपूर कहते हैं कि एरिथमिया या अनियमित दिल की धड़कन की समस्या के कई कारण हो सकते हैं। अलग-अलग व्यक्तियों में उसकी शारीरिक स्थिति और स्वास्थ्य या खानपान के आधार पर इसके कारण और लक्षण भी अलग-अलग होते हैं। अनियमित दिल की धड़कन की समस्या के प्रमुख कारण इस तरह से हैं-

  • स्ट्रोक या कार्डियक अरेस्ट की वजह से
  • कार्डियोमायपैथी के कारण
  • कोरोनरी आर्टरी डिजीज की वजह से
  • लंबे समय से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या
  • थायराइड या हाइपरथायरायडिज्म की वजह से
  • डायबिटीज की बीमारी
  • एलर्जी और दवाओं के रिएक्शन की वजह से
  • शराब का बहुत ज्यादा सेवन
Heart Arrhythmia in Hindi
 

अनियमित दिल की धड़कन के लक्षण- Heart Arrhythmia Symptoms in Hindi

अनियमित दिल की धड़कन की समस्या के हर व्यक्ति में अलग-अलग लक्षण हो सकते हैं। कुछ मरीजों में शुरुआती लक्षण न के बराबर दिखते हैं। लेकिन धीरे-धीरे जैसे यह समस्या बढ़ने लगती है वैसे ही इसके लक्षण भी गंभीर होने लगते हैं। अनियमित दिल की धड़कन की समस्या के कुछ प्रमुख लक्षण इस तरह से है-

  • दिल की धड़कन बढ़ना-घटना 
  • सीने में अजीब मूवमेंट
  • सांस फूलना
  • बेहोशी के लक्षण
  • सांस लेने में परेशानी
  • सीने में दर्द और बेचैनी

अनियमित दिल की धड़कन (हृदय अतालता) के प्रकार- Types Of Heart Arrhythmia in Hindi

अनियमित दिल की धड़कन की समस्या के कई प्रकार होते हैं जो कि इस तरह से हैं-

  • एट्रियल विकम्पन
  • एट्रियल स्पंदन
  • सुपरवेंट्रिकल टेकीकार्डिया
  • वेंट्रीकुलर टेचिकार्डिया
  • वेंट्रिकुलर फिब्रिलेशन
  • लांग क्यूटी सिंड्रोम

हृदय अतालता से बचाव के उपाय- Heart Arrhythmia Prevention in Hindi

हृदय अतालता या अनियमित दिल की धड़कन की समस्या से बचाव के लिए आपको अपनी जीवनशैली में सुधार करने की जरूरत है। वजन को संतुलित रखना, धूम्रपान से बचना, कैफीन और अल्कोहल का सेवन से परहेज करना फायदेमंद होता है। बहुत ज्यादा तनाव या गुस्सा करने की वजह से भी आपको यह समस्या हो सकती है। इस समस्या में बिना डॉक्टर की सलाह के बिना किसी भी तरह के ओवर द काउंटर दवाओं का सेवन करने से बचना चाहिए।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer