Healthy Flour: मैदे की जग‍ह करें इन 5 आटों का इस्‍तेमाल, ब्‍लड शुगर से लेकर ब्‍लड प्रेशर रहेगा कंट्रोल

आप जानते ही होंगे कि मैदे का ज्‍यादा इस्‍तेमाल आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा नहीं है। आइए यहां हम आपको मैदे की जगह आटे के 5 स्वस्थ विकल्प बता रहे है

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Mar 11, 2020Updated at: Mar 11, 2020
Healthy Flour: मैदे की जग‍ह करें इन 5 आटों का इस्‍तेमाल, ब्‍लड शुगर से लेकर ब्‍लड प्रेशर रहेगा कंट्रोल

यदि आप भी मैदे का ज्‍यादा इस्‍तेमाल करते हैं, तो आप उसे छोड़ मैदे के कुछ स्वस्थ विकल्पों को चुन सकते हैं। आपने सुना होगा कि रिफाइंड आटा सेहत के लिए अच्छा नहीं होता है, मैदा भी रिफाइंड आटे में आता है। हालाँकि, हम सब समोसा बनाना हो या फिर नान या कुल्‍चे सभी को मैदे से ही बनाते हैं। इसके अलावा, रिफाइंड आटे का उपयोग बेक किए गए चीजों, जैसे- केक, पेस्ट्री, टार्ट और ब्रेड के लिए भी किया जाता है। लेकिन यदि आप चाहें, तो इसकी जगह एक स्‍वस्‍थ विकल्प को भी चुन सकते हैं। आइए यहां हम आपको मैदे के कुछ विकल्प बता रहे हैं। 

मैदे के ये विकल्प आपके पाचन से लेकर मैटाबॉलिज्‍म, डायबिटीज और कोलेस्‍ट्रॉल सहित कई समस्‍याओं के लिए भी फायदेमंद हैं।  

1. रागी का आटा

Ragi Flour

रागी को सुपरफूड माना जाता है, ठीक इसी प्रकार रागी का आटा सुपर स्वस्थ और मैदे का आदर्श विकल्प है। रागी का आटा आयरन, प्रोटीन, कैल्शियम, एंटीऑक्सिडेंट्स और डाइट्री फाइबर से भरपू होने के साथ-साथ डायबिटीज रोगियों के लिए अच्‍छा होता है। डायबिटीज रोगी हों या फिर वेट वॉचर्स, उन्‍हें अपनी डाइट में रागी के आटे को शामिल करना चाहिए। यह आपको लंबे समय तक फुलर रखता है। इसके अलावा, यह ग्‍लुटेन फ्री और पाचन में हल्‍का होता है। आप चाहें, तो रागी का डोसा या कुकीज बनाकर भी सेचन कर सकते हैं।

इसे भी पढें: डायबिटीज में बहुत फायदेमंद है रागी का आटा, जानें हेल्दी रागी डोसा बनाने की आसान रेसिपी

2. ज्वार का आटा

मैदा के आटे के बजाय आप ज्‍वार के आटे का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं, यह सबसे अच्छे विकल्पों में से एक। ज्‍वार का आटा बनाने के लिए आप ज्वार और गेहूं के आटे को मिला सकते हैं। ज्वार कैल्शियम, फाइबर, आयरन, फॉस्फोरस, प्रोटीन, एंटीऑक्सिडेंट्स और कई विटामिन का सबसे अच्छा स्रोत है।

3. कुट्टू का आटा

कुट्टू के आटे का सेवन अधिकतर लोग उपवास के दिनों में करते हैं। हालांकि इसके आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ भी हैं, जिसकी वजह से इसे आप दैनिक आहार में गेंहू के आटे या फिर मैदे की जगह इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कुट्टू का आटा ग्‍लुटेन फ्री होता है, जिसकी वजह से जिन लोगों को सीलिएक रोग या ग्‍लुटेन संवेदनशीलता होती है, वे इसका सेवन कर सकते हैं। कुट्टू का आटा भी जरूरी खनिज और पोषक तत्‍वों का भंडार है, इसमें  मैंगनीज, मैग्नीशियम और कॉपर के अलावा, बी विटामिन होता है। आप इसका केक, ब्रेड या रोटी बनाने में इस्‍तेमाल कर सकते हैं। 

इसे भी पढें: डायबिटीज रोगी डाइट में शामिल करें ये 5 आटे, ब्‍लड शुगर रहेगा कंट्रोल

Millet Flour

4. बाजरे का आटा

बाजरा, भारत का पारंपरिक अनाजों में से एक है, जो कि भारत के उत्तरी क्षेत्रों में काफी आम है। बाजरा आपकी संपूर्ण सेहत के लिए अच्‍छा है। यह अमीनो एसिड, कार्ब्स, कैल्शियम, फॉस्फोरस, एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है और बल्‍ड शुगर और ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद करता है। इतना ही नहीं, यह आपके हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में भी मददगार है।  

5. सोया आटा

Soya Flour

सोया आटा भी एक स्वस्थ आटे में से एक है। सोया आटे को डायबिटीज रोगियों के लिए फायदेमंद माना जाता है। क्‍योंकि यह कई विटामिन्‍स, प्रोटीन, कैल्शियम, मैंगनीज, आयरन, फोलेट और जस्ता का अच्‍छा स्रोत है। इस आटे का उपयोग आप रोटी या परांठा बनाने से लेकर डोसा, केक, दाल ढोकली और पैनकेक बनाने तक कर सकते हैं। 

Read More Article on Healthy Diet In Hindi 

Disclaimer