नर्व्‍स और त्‍वचा की बीमारियों के लिए आनुवांशिक कारण भी जिम्‍मेदार

सामान्‍यत त्‍वचा और नर्व्‍स सिस्‍टम की बीमारियों के लिए खान-पान, एलर्जी, प्रदूषण और केमिकल को दोषी माना जाता है, लेकिन एक नए शोध के अनुसार त्‍वचा और नर्व्‍स सिस्‍टम की बीमारियों के लिए आनुवांशिक कारण भी जिम्‍मेदा

Pooja Sinha
अन्य़ बीमारियांWritten by: Pooja SinhaPublished at: Jan 28, 2016
नर्व्‍स और त्‍वचा की बीमारियों के लिए आनुवांशिक कारण भी जिम्‍मेदार

सामान्‍यत लोगों का मानना है कि त्‍वचा और नर्व्‍स सिस्‍टम की बीमारियां खान-पान, एलर्जी, प्रदूषण और केमिकल के कारण होती है, लेकिन एक नए शोध के अनुसार त्‍वचा और नर्व्‍स सिस्‍टम की बीमारियों के लिए आनुवांशिक कारण भी जिम्‍मेदार है। हाल ही में, वैज्ञानिकों की एक टीम ने इंसानों में त्वचा और तंत्रिका तंत्र से संबंधित बीमारियां पैदा करने वाले 60 आनुवंशिक विकारों (जेनेटिक डिसॉर्डर) की पहचान कर ली है। शिकागो की लोयोला यूनिवर्सिटी के शोधार्थियों के अनुसार, न्यूरोक्यूटेनियस विकार के नाम से जानी जाने वाले इन 60 आनुवंशिक बीमारियों में न्यूरोफाइब्रोमैटोसिस सर्वाधिक आम बीमारी है।

skin problem in hindi

आनुवांशिक कारण भी है जिम्‍मेदार

शोधकर्ताओं की टीम ने बताया, ‘न्यूरोफाइब्रोमैटोसिस आनुवशिंक के 60 विकारों में से एक है। यह त्वचा में भूरे धब्बे और मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी तथा तंत्रिका तंत्र के विभिन्न हिस्सों में गैर हानिकारक ट्यूमर के लिए जिम्मेदार होता है।’ भ्रूण के विकास के दौरान कोशिकाओं के असामान्य विकास की वजह से न्यूरोक्यूटेनियस बीमारियां होती हैं और इसके कारण शरीर के विभिन्न हिस्सों में ट्यूमर बन जाते हैं।


क्‍या कहता है शोध

यह समस्‍या विरासत में मिलते हैं और स्वाभाविक उत्परिवर्तन से निर्मित होते हैं। चिकित्सा क्षेत्र में हो रही लगातर प्रगति के बावजूद न्यूरोक्यूटेनियस बरमारियों का स्थायी उपचार नहीं खोजा जा सका है। शोध से जुड़े वैज्ञानिकों एना कैरोलिना पाइवा कोस्टा टी. फिगुएरेडो, निकोलस माटा-माचाडो, मैथ्यू मैक्कॉयड और जोस बिलर ने बताया, “शोध के दौरान हमने न्यूरोफाइब्रोमैटोसिस रोगियों को कई क्षेत्रों के पारंगत चिकित्सकों की देखरेख में रखा और हमारा उद्देश्य उन्हें सर्वश्रेष्ठ स्वास्थ्य विकास मुहैया कराना और बीमारियों को उनके शुरुआती चरण में पहचान कर उपचार करना था।” यह अध्ययन शोध-पत्र ‘करंट न्यूरोलॉजी एंड न्यूरोसाइंस रिपोर्ट्स’ के ताजा अंक में प्रकाशित किया गया है।

इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते है।

Image Source : Getty
Read More Articles on Other Dieseases in Hindi

Disclaimer