व्हाइट ब्लड सेल्स को प्राकृतिक रूप से बढ़ाते हैं ये 5 आहार, रोज करें सेवन

व्हाइट ब्लड सेल्स हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। जब कभी हमारे शरीर में कोई संक्रमण प्रवेश करता है, तो व्हाइट ब्लड सेल उसे रोकता है और हमें उस इंफेक्शन से बचाता है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Nov 14, 2018
व्हाइट ब्लड सेल्स को प्राकृतिक रूप से बढ़ाते हैं ये 5 आहार, रोज करें सेवन

क्या आपको पता है कि व्हाइट ब्लड सेल्स हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी हैं? व्हाइट ब्लड सेल्स हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। जब कभी हमारे शरीर में कोई संक्रमण प्रवेश करता है, तो व्हाइट ब्लड सेल उसे रोकता है और हमें उस इंफेक्शन से बचाता है। जिन लोगों के शरीर में व्हाइट ब्लड सेल्स की संख्या कम होती है, उन्हें रोगों और संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है। कुछ प्राकृतिक आहारों की मदद से आपके शरीर में व्हाइट ब्लड सेल्स की संख्या बढ़ाई जा सकती है।

ग्रीन टी पिएं

ग्रीन टी में ढेर सारे एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो पूरे शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं। इसे पीने से आपका मेटाबॉलिज्म अच्छा रहता है और इम्यूनिटी बेहतर होती है। खास बात ये है कि इसमें कैलोरी बिल्‍कुल भी नहीं होती और रेगुलर पीने से ये वजन भी घटाती है। ग्रीन टी में विटामिन सी और पॉलीफिनॉल के अलावा अन्य एंटी ऑक्सीडेंट भी मौजूद होते हैं जो शरीर में बैक्टीरिया नष्ट करके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं तथा व्हाइट ब्‍लड सेल्स को बढ़ाते हैं।

इसे भी पढ़ें:- प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों से बचाएगा गुड़, जानें कैसे करें प्रयोग

लहसुन खाएं

लहसुन बहुत गुणकारी होता है क्योंकि इसमें एंटीबैक्टीरियल, एंटीइंफ्लेमेट्री और एंटीवायरल गुण होते हैं। लहसुन में काफी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट होता है, जो हमारे इम्यून सिस्टम को बीमारियों से लड़ने की ताकत देता है। इसमें मौजूद एलिसिन नामक तत्व शरीर को इन्फेक्शन और बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करता है। प्रतिदिन भोजन में लहसुन का इस्तेमाल करने से पेट के अल्सर और कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से बचाव होता है। लहसुन के सेवन से व्हाइट ब्‍लड सेल्स की संख्या बढ़ती है।

दही भी है फायदेमंद

दही में भी ढेर सारे गुण होते हैं। दही पेट के लिए फायदेमंद होती है। इसके रोजाना सेवन से शरीर की बीमारियों से लड़ने की क्षमता और व्हाइट ब्‍लड सेल की संख्या भी बढ़ती है। दही में दूध के मुकाबले कैल्शियम की मात्रा बहुत अधिक होती है। दही में मौजूद बैक्टीरिया तथा पोषक तत्व शरीर के लिए एंटीबायोटिक का काम करते हैं, और रोगों से लड़ने की क्षमता भी प्रदान करते हैं।

इसे भी पढ़ें:- अदरक का इस तरह करें इस्तेमाल, हर तरह का दर्द होगा दूर

जिंक वाले आहार

ब्‍लड सेल में मौजूद एंजाइम का सबसे महत्वपूर्ण घटक जिंक होता है। जिंक की कमी से शरीर में व्हाइट ब्‍लड सेल की संख्या कम होने लगती है, जिससे व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कम होने लगती है। इसलिए अपने आहार में जिंक को शामिल करें। जिंक के लिए मांस, मछली, और दूध का सेवन लाभदायक होता है। इसके अलावा समुद्री आहारों और मीट में भी जिंक होता है।

विटामिन सी वाले आहार

विटामिन सी ब्‍लड में बैड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है। इसके अलावा विटामिन सी व्हाइट ब्‍लड सेल्स के ठीक प्रकार से काम करने में मदद करता है और इनकी संख्या को बढ़ाता है। इसलिए इसके सेवन से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और बीमारियां दूर रहती हैं। विटामिन सी फलों, हरी सब्जियों, टमाटर, शिमला मिर्च, रसीले व खट्टे फलों में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Alternate Therapy In Hindi

Disclaimer