आमतौर पर, गुर्दे की बीमारियों वाले लोगों के लिए एक स्वस्थ आहार उन खाद्य पदार्थों के सेवन को सीमित करता है जो सोडियम, पोटेशियम और फास्फोरस में उच्च होते हैं। गुर्दे की विफलता के कारण आपके गुर्दे यदि इन सूक्ष्म पोषक तत्वों के अनुपात को संतुलित करने में वृद्धि करते हैं, जिससे उच्च रक्तचाप, शरीर में द्रव प्रतिधारण (सूजन के लिए अग्रणी), अनियमित धड़कन, अस्थि रोग इत्‍यादि जैसी स्थितियों से पीड़ित हो सकते हैं।

"/>

गुर्दे की बीमारियों में रोजाना खाएं ये 5 फूड, जल्‍दी मिलेगा रोग से छुटकारा

आमतौर पर, गुर्दे की बीमारियों वाले लोगों के लिए एक स्वस्थ आहार उन खाद्य पदार्थों के सेवन को सीमित करता है जो सोडियम, पोटेशियम और फास्फोरस में उच्च होते हैं। गुर्दे की विफलता के कारण आपके गुर्दे यदि इन सूक्ष्म पोष

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Apr 09, 2019Updated at: Apr 09, 2019
गुर्दे की बीमारियों में रोजाना खाएं ये 5 फूड, जल्‍दी मिलेगा रोग से छुटकारा

वर्तमान में, गुर्दे की बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए आमतौर पर दो उपचार उपलब्ध हैं: रीनल ट्रांसप्लांट और डायलिसिस। हालांकि, इन उपचारों को स्थिति को स्थिर और स्वस्थ रखने के लिए उचित पोषण विकल्पों का समर्थन करने की आवश्यकता होती है। चूंकि गुर्दे के बिगड़े कार्य शरीर में अपशिष्ट निर्माण को जन्म देते हैं, जिनके गुर्दे फेल हो जाते हैं उन्‍हें कुछ आहार संबंधी सिफारिशें दी जाती है, जिसका उद्देश्‍य रक्त में कुछ पोषक तत्वों और खनिजों के स्तर को कम रखना है जो रक्‍त में विषाक्‍त पदार्थों के स्‍तर को बढ़ाते हैं।

आमतौर पर, गुर्दे की बीमारियों वाले लोगों के लिए एक स्वस्थ आहार उन खाद्य पदार्थों के सेवन को सीमित करता है जो सोडियम, पोटेशियम और फास्फोरस में उच्च होते हैं। गुर्दे की विफलता के कारण आपके गुर्दे यदि इन सूक्ष्म पोषक तत्वों के अनुपात को संतुलित करने में वृद्धि करते हैं, जिससे उच्च रक्तचाप, शरीर में द्रव प्रतिधारण (सूजन के लिए अग्रणी), अनियमित धड़कन, अस्थि रोग इत्‍यादि जैसी स्थितियों से पीड़ित हो सकते हैं।

berry 

जब आपके गुर्दे शरीर से अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को खत्म करने के अपने आवश्यक कार्य में विफल रहते हैं, तो आपको अपने आहार विकल्पों के बारे में बहुत सतर्क रहने की आवश्यकता होती है। यहां, हम उन खाद्य पदार्थों पर आपका मार्गदर्शन कर रहे हैं जिन्हें आपको गुर्दे की विफलता और अन्य गुर्दे की बीमारियों से जूझते समय अपने भोजन में शामिल करने और न करने की आवश्यकता होती है।

हरी पत्‍तेदार सब्जियां 

विभिन्न प्रकार की सब्जियां (कच्ची और पकी) आपके रोजमर्रा के भोजन का हिस्सा होनी चाहिए। पालक, बीट, टमाटर और अजवाइन अच्छे विकल्प हैं। बीट को नाइट्रिक ऑक्साइड में समृद्ध माना जाता है, जो इसे एक प्राकृतिक रक्त क्लीन्ज़र बनाता है। इंडियन जर्नल ऑफ नेफ्रोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया है कि रक्त में नाइट्रिक ऑक्साइड के घटते स्तर से आपकी किडनी खराब हो सकती है। दूसरी ओर, पालक, आपके गुर्दे के विषहरण के लिए एक बहुत अच्छा विकल्प है क्योंकि यह विटामिन बी और अन्य एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध होते हैं। हालांकि, अधिकता में न लें। पालक की अधिकता से गुर्दे की पथरी भी हो सकती है।

फ्रूट्स 

एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर पोषक से भरे फलों के लिए आपके गुर्दे आपको धन्यवाद करेंगे। गुर्दे के अनुकूल फलों की श्रेणी में क्रैनबेरी, काली चेरी और ब्लूबेरी शामिल हैं। नींबू और अनार का रस भी आपको किडनी के संक्रमण से लड़ने में मदद करेगा। न्यूट्रिशन जर्नल के एक अध्ययन ने मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई) की रोकथाम और उपचार के लिए सबसे अच्छे विकल्पों में से एक के रूप में क्रैनबेरी की पहचान की है। अध्ययन के प्रतिभागियों, जो यूटीआई के बार-बार संक्रमण से पीड़ित थे, को दो सप्ताह के लिए एक बार सूखे और मीठे क्रैनबेरी खिलाया गया। उनमें से आधे लोग छह महीने के भीतर यूटीआई से पीड़ित नहीं थे। तो आप अपने स्थानीय डिपार्टमेंटल स्टोर से क्रैनबेरी खरीदें और एक रस बनाएं या उन्हें अपनी सुबह की स्मूदी में डालकर पीएं। यह आपकी किडनी की सुरक्षा करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। 

Buy Online: Kapiva Ayurveda 100% Organic Stone Go Juice Cleanses Kidney And Urinary Bladder- 1L, MRP: 380/-, Deal Price: 280/- 

अन्‍य विकल्‍प भी हैं मौजूद 

इन फलों और सब्जियों के अलावा, अन्य खाद्य पदार्थों की एक पूरी श्रृंखला है जो किडनी रोगों से पीड़ित लोग चुन सकते हैं। इनमें 100 फीसदी साबुत अनाज, अंडे, नट्स, फलियां, फ्लैक्स सीड्स, डार्क चॉकलेट, तिल का तेल आदि शामिल हैं। ताजा जड़ी-बूटियां और मसाले जैसे कि धनिया, हल्दी, अदरक, दालचीनी, अजवायन और अजमोद भी गुर्दे की बीमारी के खिलाफ आपकी मदद करते हैं। आपको अपने गुर्दे को पानी और अन्य तरल पदार्थों जैसे हर्बल चाय और पानी युक्‍त फलों से हाइड्रेटेड रखने के लिए नहीं भूलना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: पोषक तत्व देने के साथ इन 5 बीमारियों से भी बचाता है अनार, जानकर हो जाएंगे खुश

इन खाद्य पदार्थों से रहें दूर  

  • कोशर सॉल्‍ट, समुद्री नमक, फ्लेवर्ड सॉल्‍ट जैसे कि गार्लिक और ऑनियन  
  • कोल्ड कट्स, चिकन नगेट्स, हैम, बेकन, सॉसेज सहित प्रोसेस्ड मीट
  • डिब्बाबंद सूप और फ्रोजन फूड नहीं खाने चाहिए क्‍योंकि वे सोडियम से भरे हुए हैं।
  • सरसों और सोया सॉस जैसे मसालों।
  • परिष्कृत तेल: सोयाबीन, सूरजमुखी तेल
  • बीयर और सोडा
  • फास्फोरस में उच्च खाद्य पदार्थ: सूखे सेम, ब्रोकोली, मशरूम और अंकुरित। अगर आप इन्‍हें खाना ही चाहते हैं तो कम से कम करें। 
  • एवोकैडो, केले और संतरे जैसे उच्च पोटेशियम फल का सेवन न करें। 
Read More Articles On Diet & Nutrition In Hindi
Disclaimer