क्या सच में सोयाबीन खाने से पुरुषों में बढ़ जाता है "महिलाओं वाला हार्मोन"? जानें सोया से जुड़े मिथ्स और फायदे

क्या सोयाबीन खाने से पुरुषों के स्तनों में उभार आता है और महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर हो जाता है? जानें ऐसे ही सवालों के जवाब डॉ. स्वाती बाथवाल से।

Anurag Anubhav
Reviewed by: स्वाती बाथवालPublished at: Apr 15, 2020Updated at: Apr 15, 2020Written by: Anurag Anubhav
क्या सच में सोयाबीन खाने से पुरुषों में बढ़ जाता है "महिलाओं वाला हार्मोन"? जानें सोया से जुड़े मिथ्स और फायदे

सोयाबीन्स और दूसरे सभी सोया प्रोडक्ट्स बहुत हेल्दी होते हैं और प्रोटीन का बहुत अच्छा स्रोत माने जाते हैं। 100 ग्राम सोया चंक्स (सोया बड़ी) खाने से आपको लगभग 52 ग्राम प्रोटीन मिलता है, जबकि इतने ही प्रोटीन के लिए आपको कम से कम 8-9 अंडे खाने पड़ेंगे। प्रोटीन से भरपूर फूड्स की बात करें तो सोया चंक्स बहुत सस्ते भी होते हैं। इसलिए बॉडी बनाने की चाहत रखने वाले लड़के-लड़कियों के लिए सोयाबीन्स और इससे बने प्रोडक्ट्स बहुत फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

मगर क्या आपने भी ये बात सुनी है कि ज्यादा सोयाबीन ज्यादा खाने से पुरुषों को "मैन बूब्स" यानी महिलाओं की तरह स्तनों में उभार की समस्या हो जाती है? या फिर ये कि सोयाबीन खाने से पुरुषों में एस्ट्रोजन हार्मोन यानी "महिलाओं वाला हार्मोन" बढ़ जाता है? अगर हां, तो सोयाबीन के बारे में आपकी जानकारी न सिर्फ अधूरी है, बल्कि गलत तथ्यों से भरी हुई है।

क्या सच में सोयाबीन से बढ़ता है महिलाओं वाला हार्मोन?

अक्सर सोयाबीन को पुरुषों के लिए बुरा बताने वाले लोग जिस तथ्य का सहारा लेते हैं, वो ये है कि सोयाबीन में आइसोफ्लेवॉन्स  (Isoflavones) होते हैं। ये फाइटो-एस्ट्रोजन होते हैं। बस यही तथ्य इस अफवाह की असल वजह है। दरअसल एस्ट्रोजन हार्मोन वो होता है, जो महिलाओं के शरीर में पाया जाता है और उनमें स्त्रीत्व के गुणों को उभारने में मदद करता है। इसी बात से कुछ लोगों को लगता है कि अगर वो सोयाबीन खाएंगे, तो उनके शरीर में भी एस्ट्रोजन हार्मोन बढ़ जाएगा और उनके स्तन उभर आएंगे। मगर इस बात में कोई सच्चाई नहीं है।

इसे भी पढ़ें:- सुबह के नाश्ते में बनाएं हेल्दी सोया सैंडविच, प्रोटीन से भरपूर ये ब्रेकफास्ट वजन घटाने में करेगा मदद

क्या है एक्सपर्ट की राय?

इंटरनैशनल स्पोर्ट्स डायटीशियन डॉ. स्वाती बाथवाल बताती हैं कि सोया प्रोडक्ट्स दुनियाभर में काफी विवादित रहे हैं। सोया में एस्ट्रोजन जरूर होता है, मगर वो एस्ट्रोजन प्लांट बेस्ड यानी पौधों से प्राप्त होता है। इसलिए वो शरीर में बिल्कुल वैसे काम नहीं करता है, जैसे शरीर द्वारा बनाया गया एस्ट्रोजन (एनिमल एस्ट्रोजन) करता है। पौधों से प्राप्त होने वाले एस्ट्रोजन के कोई साइड इफेक्ट नहीं होते हैं। प्रॉसेस्ड सोया से बेहतर ऑर्गेनिक सोया प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल है। इसलिए ऑर्गेनिक सोया प्रोडक्ट्स को आप बिना किसी झिझक के आसानी से खा सकते हैं और फूड्स में इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैंसर का खतरा बढ़ाने के भी नहीं हैं कोई संकेत

कुछ लोग यह भी मानते हैं कि सोयाबीन के सेवन से महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का खथरा बढ़ता है। मगर आपको बता दें कि कैंसर से सोयाबीन को जोड़कर देखी गई सभी रिसर्च अभी तक जानवरों पर लैब में की गई हैं। इंसानों पर ऐसी कोई रिसर्च नहीं आई है। डॉ. स्वाती बाथवाल बताती हैं कि अभी तक ऐसी सिर्फ 5 स्टडीज हैं, जिनमें सोयाबीन खाने से ब्रेस्ट कैंसर के खतरे की आशंका जताई गई है। लेकिन इससे जुड़े वैज्ञानिक साक्ष्यों की कमी है। इसलिए ऐसा मानना फिलहाल सही नहीं है।

इसे भी पढ़ें:- इन 5 रोगों के मरीजों को नहीं खाना चाहिए सोयाबीन प्रोडक्ट्स, बढ़ जाएगी परेशानी

बॉडी बिल्डिंग के लिए सोयाबीन है बेस्ट

जो लोग अपनी बॉडी बनाना चाहते हैं, उन्हें प्रोटीन की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। इसलिए प्रोटीन की कमी पूरी करने के लिए सोया चंक्स या सोया टोफू जैसे सोया प्रोडक्ट्स का सेवन बहुत फायदेमंद हो सकता है। सोयाबीन वाले प्रोडक्ट्स प्रोटीन के दूसरे अच्छे स्रोतों से काफी सस्ते भी मिलते हैं और इनसे आप ढेर सारी स्वादिष्ट और हेल्दी डिशेज बना सकते हैं।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi



Disclaimer