क्या सच में ब्लड प्रेशर की दवा से बढ़ता है स्किन कैंसर का खतरा? जानें नई रिसर्च पर डॉक्टर की राय

हाल में एक रिसर्च आई है जिसमें बताया गया है कि ब्लड प्रेशर की दवाओं से स्किन कैंसर का खतरा बढ़ता है, जानें इस बारे में डॉक्टर की क्या राय है।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: May 01, 2021 12:00 IST
क्या सच में ब्लड प्रेशर की दवा से बढ़ता है स्किन कैंसर का खतरा? जानें नई रिसर्च पर डॉक्टर की राय

हाल में यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो ने कैनेडियन मेडिकल एसोसिएशन जर्नल में एक स्टडी प्रकाशित की है, जिसमें बताया गया है कि ब्लड प्रेशर की कुछ खास दवाएं बुजुर्ग लोगों में स्किन कैंसर के खतरे को बढ़ा सकती हैं। रिसर्च के मुताबिक thiazide diuretic ब्लड प्रेशर दवाओं के लंबे समय तक सेवन से ऐसा खतरा हो सकता है। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए हमने कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल के डर्मेटोलॉजिस्ट डॉक्टर भावुक मित्तल से बात की तो उन्होंने बताया, "अगर आप कुछ समय तक हाई ब्लड प्रेशर की दवाई खा रहे हैं, तो उससे आपको स्किन कैंसर का खतरा एकदम नहीं बढ़ता है। हालांकि स्किन कैंसर के खतरे को बढ़ाने वाले दूसरे कई कारण हो सकते हैं, जिनको जानना जरूरी है। कुछ रिसर्च के दौरान यह पाया गया है कि अगर आप 60 साल से ऊपर की उम्र के हैं और बीपी की दवाइयां खा रहे हैं तो हो सकता है आप अपना स्किन कैंसर होने का रिस्क दोगुना कर रहे हों। लेकिन ऐसा कुछ खास परिस्थितियों में ही होता है। इसलिए बहुत जरूरी है किसी भी प्रकार की दवा बिना डॉक्टर की सलाह के न खाई जाए।"

डॉक्टर से बात करें (Talk To Your Doctor In Detail)

डॉ. भावुक आगे बताते हैं, "अगर आप अपने डॉक्टर को अपने रिस्क या समस्या के बारे में बताएंगे तो उन्हें आपकी समस्या को समझने में ज्यादा आसानी होगी। इसके साथ ही अगर आपके परिवार में किसी को ब्लड या स्किन कैंसर रही है तो उसके बारे में भी बताएं, अगर आप बाहर अधिक समय व्यतीत करते हैं और कोई अन्य दवाइयां लेते हैं तो इस विषय में भी अपने डॉक्टर से जरूर बात करें।"

Blood pressure medicine

कौन सी दवाएं स्किन कैंसर का खतरा बढ़ाती हैं?

शोध के मुताबिक वह ब्लड प्रेशर की दवाइयां जिनमें हाइड्रोक्लोरो थिओजाइड होती हैं केवल उन्हें ही स्किन कैंसर का रिस्क होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि यह दवाई हमारी स्किन को सूर्य से अधिक सेंसिटिव बनाती है। आज के समय में ऐसी बहुत सी दवाइयां उपलब्ध हैं जिनमें हाइड्रोक्लोरोथियाजाइड नहीं शामिल होती। इसलिए अगर आप स्किन कैंसर से बचना चाहते हैं तो इस प्रकार की दवाइयां खाने की बजाए उन दवाइयों का सेवन करें हाइड्रोक्लोरोथियाजाइड न हो। लेकिन जब यह रिसर्च की गई तो उसमें यह नहीं शामिल किया गया कि ऐसे रिस्क के मरीज क्या किसी अन्य रिस्क फैक्टर के भी तो शिकार नहीं थे। ऐसा भी हो सकता है कि जिन मरीजों को ब्लड कैंसर हुआ हो उन्होंने अपनी स्किन को कभी सूर्य से बचाया ही न हो। इसलिए आपको एकदम से अपनी दवाई लेनी नहीं छोड़ देनी हैं।

इसे भी पढ़ें: तुरंत ब्लड प्रेशर घटाने का सबसे आसान तरीका हैंड-ग्रिप एक्सरसाइज, जानें कैसे और क्यों है फायदेमंद

स्किन कैंसर से बचने के लिए टिप्स

1. खुद को सूर्य से बचाएं (Protect Skin From The Sun)

अगर आप अपनी स्किन को सूर्य से बचा कर रखते हैं तो आप खुद को स्किन कैंसर से भी बचा सकते हैं। अगर आपको स्किन कैंसर होने का अधिक रिस्क भी है तो भी स्किन का सूर्य से बचाव आपके रिस्क को कम कर सकता है।

2. टैनिंग डिवाइस या सन लैंप का प्रयोग न करें (Do Not Use Tanning Device or Lamp)

शोध ने यह साबित किया है कि अगर आप टैनिंग डिवाइस या सन लैंप जैसे यंत्रों का प्रयोग करते हैं तो इससे आपका स्किन कैंसर का रिस्क अधिक बढ़ जाता है इसलिए इनका प्रयोग करने से बचें।

3. स्किन कैंसर के लक्षण दिख रहे हैं तो उन्हें जांचें (Examine All The Symptoms)

बहुत से लोग जिन्हें स्किन कैंसर होता है अचानक से अपनी स्किन में एक बड़ा बदलाव देखते हैं। वह यह गलती करते हैं कि इस बदलाव को नजरंदाज कर देते हैं। अगर आप शुरुआती स्टेज में ही कैंसर को पकड़ लेते हैं तो उसे आसानी से ठीक किया जा सकता है।

skin cancer symptoms

4. त्वचा विशेषज्ञ से बात करें (Talk to The Specialist)

अगर स्किन कैंसर की संभावना अधिक है तो फौरन किसी अच्छे त्वचा रोग विशेषज्ञ से मिलें ताकि वह हर संभव जांच का इलाज कर सकें।

इसे भी पढ़ें: हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) के मरीजों के लिए आहार और ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने के लिए घरेलू नुस्खे

अगर आप भी ब्लड प्रेशर की दवाइयां ले रहे हैं तो उनके बारे में अपने डॉक्टर से जरूर पूछें कि वह कहीं आपके लिए स्किन कैंसर जैसी मुसीबतें तो नहीं खड़ी कर देंगी। अगर उनमें ऐसी संभावना है तो आपको उन दवाइयों का सेवन बंद करके किसी अन्य दवाइयों की ओर शिफ्ट कर लेना चाहिए ताकि आप कैंसर के रिस्क से खुद को बचा सकें। इसके साथ ही बीपी की समस्या को खत्म करने के लिए अपने लाइफस्टाइल में भी कुछ हेल्दी बदलाव करें ताकि आपको ज्यादा दवाइयों का सेवन करना ही न पड़े।

डॉक्टर भावुक मित्तल, डर्मेटोलॉजिस्ट, कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल गाजियाबाद से बातचीत पर आधारित।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer