बारिश के मौसम में कैसा हो आहार? हमारे पास है जवाब!

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 11, 2017
Quick Bites

  • बारिश के मौसम में उबला पानी पिएं
  • आहार में गर्म दाल या सूप शामिल करें
  • कच्चे फलों और सब्जियों का सेवन करने से बचें

बारिश के मौसम में सही से आहार नहीं लेने के कारण पेट संबंधी बीमारी होने की संभावना ज्यादा होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोई भी अपने दैनिक आहार में परिवर्तन कर स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को कम कर सकता है। फिटपास की पोषण व आहार विशेषज्ञ मेहर राजपूत और कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल (गाजियाबाद) की प्रमुख आहार विशेषज्ञ अदिति शर्मा ने पेट संबंधी संक्रमण से बचने के लिए ये सुझाव दिए हैं।

मछली आपके लिए कितनी हानिकारक हो सकती है, जानें

1- भोजन में लहसुन, काली मिर्च, अदरक, हींग, जीरा पाउडर, हल्दी और धनिया को शामिल करें क्योंकि ये पाचन बढ़ाने में मदद करते हैं और प्रतिरक्षा में सुधार करते हैं।

2- बारिश के मौसम में उबला पानी पिएं क्योंकि पानी में रोगाणु मौजूद होते हैं। कम नमक वाला आहार लें और ज्यादा नमक वाले भोजन के सेवन से बचें क्योंकि ये ब्लड प्रेशर (उच्च रक्तचाप) बढ़ा सकते हैं, सूजन बढ़ा सकते हैं।

3- मांसाहारी खाने वोल लोग धीमी आंच पर सही से पका हल्के मीट या सूप का सेवन कर सकते हैं, लेकिन मछली और झींगा के सेवन के समय सावधानी बरतें। इस मौसम में हैवी करी के साथ ज्यादा मछली और मीट खाने से बचें।

4- आहार में गर्म दाल या सूप शामिल करें। हल्दी, लौंग, काली मिर्च और सौफ जैसे मसालों का खाना बनाने में इस्तेमाल करें।

5- मानसून के दौरान सूप का सेवन सूजन कम करता है और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है।

6- कच्चे फलों और सब्जियों का सेवन करने से बचें, जैसे-स्प्राउट। इससे अपच और गैस की समस्या हो सकती है।

7- हल्दी न सिर्फ एक बढ़िया एंटीबायोटिक होता है, बल्कि सूजन भी कम करता है। यह वास्तव में पाचन तंत्र में सूजन कम करने में मददगार साबित होता है।

8- सौफ को खाना खाने के बाद लिया जा सकता है, यह भोजन पचाने में मदद करता है और गैस संबंधी समस्याओं की संभावना को कम करता है।

Source:IANS
ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप
Read Nore Articles On Healthy Eating In Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES1049 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK