Ayurvedic Ubtans: स्किन ऑयली हो या ड्राई आयुर्वेद के मुताबिक बनाए घर पर उबटन, चमक उठेगी स्किन और खिलेगा चेहरा

घर पर बेसन, चोकर, हल्दी , दही, मलाई जैसी आम सामग्री के साथ उबटन बना सकता है और चेहरे पर निखार ला सकता है। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: May 12, 2020
Ayurvedic Ubtans: स्किन ऑयली हो या ड्राई आयुर्वेद के मुताबिक बनाए घर पर उबटन, चमक उठेगी स्किन और खिलेगा चेहरा

हम भारतीयों के रोजमर्या के जीवन में अच्छे स्क्रब यानी के उबटन का अलग ही महत्व है। बच्चे के जन्म लेने से भारतीय शादियों तक में हल्दी से पवित्र अनुष्ठान किए जाते हैं और इन सबमें उबटन की अच्छाईयों को पूरा विश्व ही स्वीकार करता है। वास्तव में त्वचा विशेषज्ञ इसे दुनिया का पहला कॉस्मेटिक उपचार मानते हैं। स्किन के लिए बेहतर औषधि और उपचार के रूप में उबटन किसी सौंदर्य स्त्रोत से कम नहीं हैं। शुक्र है सोशल डिस्टेंसिग का कि लोगों को अपनी स्किन की देखभाल करने का समय मिला है। उबटन बनाने के लिए आपको घर से बाहर निकलने की जरूरत नहीं है। इसे बनाने के लिए आपको रसोई की सामग्री का सावधानीपूर्वक इस्तेमाल करना होता है, जो त्वचा को एक्सफोलिएट करने और उसे सॉफ्ट बनाने की एक पुरानी पद्धति है। घर में बने ये उबटन मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाने से लेकर त्वचा को कोमल बनाने, टैन हटाने, त्वचा की चमक को बढ़ाने और चेहरे के काले धब्बों को कम करने के लिए फायदेमंद हैं। कोई भी व्यक्ति घर पर आसानी से बेसन, गेहूं की भूसी (चोकर), हल्दी, दही, मलाई जैसी आम घरेलू सामग्री के साथ उबटन बना सकता है और चेहरे पर निखार ला सकता है।   

ubtan

आयुर्वेद में त्वचा को इंजेशन का एक स्रोत भी माना जाता है। इसलिए त्वचा पर लगाई जाने वाली किसी भी चीज को शरीर द्वारा अवशोषित किया जाना चाहिए। यही कारण है कि आयुर्वेद में चेहरे पर रसायनों का प्रयोग नहीं करने की सलाह दी जाती है। आयुर्वेद एक्सपर्ट का कहना है कि उबटन को सही अनुपात में मिलाने से अधिक से अधिक लाभ प्राप्त किया जा सकता है। अगर आप जानते हैं कि आपके लिए क्या चीज सबसे अच्छा काम करेगी और आपको सामग्री का अच्छा ज्ञान है तो घर के बने उबटन से बेहतर कुछ भी नहीं है। हालांकि, ज्यादातर लोग ऑनलाइन वीडियो देखते हैं, जिसमें ऑबटन को तैयार करने का उचित आयुर्वेदिक तरीका नहीं दिखाया जाता है। एक प्रभावी उबटन को उच्च गुणवत्ता वाली सामग्री की आवश्यकता होती है और अगर आप इनपर खर्च नहीं करना चाहते हैं तो एक अच्छा ओटीसी उत्पाद का उपयोग आपके लिए बेहतर होगा।

उबटन में उपयोग किए जाने वाले कई सामान्य तत्व एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल होते हैं। किसी भी उबटन का उपयोग करने के लिए मुट्ठी भर चीजें लें और अपने चेहरे पर लगाएं और अच्छी तरह से मालिश करें। इसे कम से कम 5 से 10 मिनट तक चेहरे पर लगा रहने दें और गुनगुने पानी से धोएं। उबटन का उपयोग करने के बाद अपने चेहरे पर साबुन न लगाएं।

उबटन लगाने से पहलें करें पैच टेस्ट

स्टोर से खरीदे गए उत्पाद को प्रयोग के लिए पैच टेस्ट (अपने कान के पीछे लगाकर) करें। उबटन का एक्सफ़ोलीएटिंग प्रभाव होता है, इसलिए उबटन को धोने के बाद आपकी त्वचा को मॉइस्चराइज करना बहुत महत्वपूर्ण है। स्किन एक्सपर्ट भी जले, चकत्ते या पिंपल पर उबटन का उपयोग करने के खिलाफ सलाह देते हैं। एक्सपर्ट की सलाह है कि अपने स्नान से पहले उबटन का उपयोग करें, तिल का तेल या जैतून का तेल लगाएं और फिर त्वचा पर मालिश करें।

इसे भी पढ़ेंः बिना पैसे खर्च किए भी पा सकती हैं निखरी त्वचा, बस करें ये 10 छोटे- छोटे काम

सभी प्रकार की त्वचा के लिए उबटन का प्रयोग

चेहरे के समान भागों में, सूखे संतरे, नींबू के छिलके, ओट्स और बादाम लें। इसका पेस्ट बनाने के लिए शहद और दही को बराबर मात्रा में मिलाएं। धीरे-धीरे चेहरे पर गोले के आकार के साथ रगड़ें और पानी से धो लें। आप इसमें अंडे का सफेद भाग भी मिला सकते हैं।

AYURVEDA

एलोवेरा के साथ कैसे बनाएं उबटन

1 बड़ा चम्मच ओट्स या मुल्तानी मिट्टी और एलोवेरा जेल लें। इसमें 1 चम्मच संतरे के छिलके का पाउडर डालें और उसमें दही मिलाएं। 30 मिनट के बाद चेहरे पर लगाएं और धो लें।

सूखी त्वचा के लिए उबटन 

चोकर (गेहूं की भूसी) को शहद, दूध और 1 चम्मच बादाम के तेल में मिलाकर पेस्ट बना लें। चेहरे पर लगाएं और 15 मिनट बाद, दूध की हल्की हल्की थपकी मारें और उसके बाद पानी से चेहरा साफ कर लें। अगर त्वचा बहुत शुष्क हो तो नारियल का तेल, एक नींबू का रस और 2 चम्मच एलोवेरा जेल मिलाएं। चेहरे पर लगाएं और 30 मिनट के बाद धो लें।

इसे भी पढ़ेंः इस तरह खाएंगे अलसी के बीज तो चंद दिनों में संवर जाएगी आपकी स्किन, जानें आसान तरीका

सामान्य से लेकर ऑयली स्किन के लिए

3 कप तिल के बीज (मोटे कुचले हुए), 6 चम्मच सूखे पुदीने के पत्ते (पाउडर), जैतून का तेल, शहद और दही मिलाएं। तिल के बीज सूरज से क्षतिग्रस्त त्वचा को शांत करते हैं। गर्दन, हाथ और पैरों पर धीरे से रगड़ें। कुछ मिनट बाद पानी से धो लें।

स्ट्रेचमार्क के लिए

प्रभावित क्षेत्रों पर जैतून के तेल से मालिश करें। फिर उस हिस्से पर बेसन, दही और हल्दी का पेस्ट लगाएं। आधे घंटे बाद धो लें।

फूलों से बनाएं उबटन

कमल के फूल को 3-4 चम्मच गर्म दूध में एक घंटे के लिए भिगो दें। उन्हें उंगलियों से कुचलें। पेस्ट बनाने के लिए पर्याप्त दूध में 3 चम्मच बेसन मिलाएं। चेहरे और बांहों पर लगाएं, होंठ और आंखों के नीचे के क्षेत्र पर इस उबटन को लगाने से बचें। 20 मिनट बाद धो लें। कमल चेहरे के सूखेपन से छुटकारा दिलाता है और टैन को दूर करता है। ये उबटन सभी प्रकार की त्वचा को सूट करता है।

Read More Articles On Skin Care in Hindi

Disclaimer