इंडियन सुपरफूड है गाय का घी, रोजाना 2 चम्‍मच खाने से मिलते हैं 10 फायदे

गाय के घी को स्वस्थ वसा माना गया है। गाय के घी को इंडिया को सुपरफूड माना गया है। हम आपको इससे जुड़ी कुछ ऐसी बाते बताने जा रहे हैं जिसके बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं। 

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Aug 08, 2018
इंडियन सुपरफूड है गाय का घी, रोजाना 2 चम्‍मच खाने से मिलते हैं 10 फायदे

स्वास्थ्य के प्रति जागरूक अधिकांश लोगों का मानना है कि वसा मुक्त आहार और व्यायाम वजन कम करने के लिए सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है। हालांकि, आपके स्वास्थ्य के लिए सभी वसा खराब नहीं हैं, और कुछ वसा वास्तव में आपके समग्र कल्याण के लिए अच्छा हो सकता है। गाय के घी को स्वस्थ वसा माना गया है। गाय के घी को इंडिया को सुपरफूड माना गया है। हम आपको इससे जुड़ी कुछ ऐसी बाते बताने जा रहे हैं जिसके बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं। 

 

पाचन में सुधार

विशेषज्ञों के अनुसार, घी मक्खन का एक स्पष्ट रूप है। आयुर्वेद के अनुसार, यह छोटी आंतों की अवशोषण क्षमता में सुधार करता है और हमारे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट के अम्लीय पीएच को कम करता है। घी ओमेगा -3 फैटी एसिड का एक समृद्ध स्रोत है जो एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। 

उम्र बढ़ने से रोके

गाय का घी एक प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट है जो मुक्त कणों को समाप्त करती है और ऑक्सीकरण प्रक्रिया को रोकती है। इस प्रकार, यह हमारे मस्कुलोस्केलेटल सिस्टम में अपरिवर्तनीय परिवर्तन को रोकता है, समय से पहले उम्र बढ़ने से बचाता है और अल्जाइमर रोग को रोकता है। 

बालों और त्वचा के लिए

घी हमारे बॉडी सिस्टम से विषाक्त पदार्थों को हटा देती है। आंत स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है, आपके बालों और त्वचा को स्वस्थ रखता है, जोड़ों को चिकनाई करता है और हमारी हड्डियों को मजबूत करता है 

वजन घटाने में मदद करे

विशेषज्ञों का कहना है कि घी वास्तव में आपके वजन कम करने में मदद करती है। घी में ब्यूटरीक एसिड और मध्यम श्रृंखला ट्राइग्लिसराइड्स जिद्दी शरीर की वसा को इकट्ठा करने और इससे छुटकारा पाने में मदद करते हैं। इसके अलावा घी अच्छे एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में भी मदद कर सकती है। 

बॉडी को शेप में रखे 

यदि आप ओवर वेट नहीं होना चाहते हैं तो देसी घी आपके लिए सबसे अच्‍छा विकल्‍प है। इष्टतम लाभ के लिए रोजाना 2-3 चम्मच (10-15 मिलीलीटर) गाय घी का उपभोग करें। वहीं यदि आप बड़ी मात्रा में हाइड्रोजनीकृत घी (बफेलो घी) का उपभोग करते हैं तो धमनियां मोटी होने लगती है। इससे शरीर में वसा का संचय होने के साथ मेटाबॉलिज्‍म कम होने लगता है। इसलिए कोशिश करें कि गाय का घी खाएं।  

इसे भी पढ़ें: खाने-पीने के शौकीनों को लिवर की इस बीमारी का होता है ज्यादा खतरा

कैसे शरीर को लाभ पहुंचाता है देसी घी  

  • ब्रांकिओल्स (वायुमार्ग मार्ग) में चिकनाई बरकरार रखने के लिए गर्म पानी के साथ गाय के घी का एक चम्मच खाएं। इससे सांस लेने में आसानी होगी और सूखी खांसी ठीक होगी। इसके अलावा ब्रांकिओल्स के मरोड़ को कम किया जा सकता है।  
  • दो बूंद गाय का देसी घी नाक में डालने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। इससे वातावरण में मौजूद धूल, धुंआ और प्रदूषण से होने वाली एलर्जी को कम करता है। यह गले, नाक और सीने के आवर्ती संक्रमण से भी बचा सकता है।
  • रोज सुबह खाली पेट 1 से 2 चम्‍मच गाय का घी खाने से धमनियां मोटी नहीं होती। रक्त परिसंचरण में सुधार करती है और शरीर कोशिकाओं में मुक्त कणों के संचय को कम करती है।
  • चावल और रोटी के साथ गाय के घी के 2-3 चम्मच की दैनिक खपत पाचन प्रक्रिया में सुधार करती है, भोजन से पोषक तत्वों का अवशोषण में सुधार करती है, बड़ी आंतों को चिकनाई देती है और कब्ज को रोकती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Diet & Fitness In Hindi  

Disclaimer