आंखों के नीचे काले घेरे (डार्क सर्कल्स) का कारण सिर्फ नींद की खराबी नहीं, डर्मेटोलॉजिस्ट से जानें अन्य कारण

अगर आपकी आंखों के नीचे भी दिखने लगे हैं काले घेरे (डार्क सर्कल्स) तो जानें डर्मेटोलॉजिस्ट इसका क्या कारण मानते हैं और इनसे निजात पाने का तरीका क्या है

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Nov 01, 2020Updated at: Nov 02, 2020
आंखों के नीचे काले घेरे (डार्क सर्कल्स) का कारण सिर्फ नींद की खराबी नहीं, डर्मेटोलॉजिस्ट से जानें अन्य कारण

खूबसूरत चेहरे के लिए आंखों का खूबसूरत होना कितना महत्वपूर्ण है, ये बताने की जरूरत नहीं है। आंखें हमारी पर्सनैलिटी का सबसे अहम हिस्सा होती हैं। आपने भी न्यूज पेपर्स और टीवी में वो ईनामी विज्ञापन देखे होंगे, जिनमें सेलिब्रिटीज की आंखों से उन्हें पहचानना होता है। कुल मिलाकर बताना ये है कि आंखें एक तरह से हमारी व्यक्तिगत पहचान का हिस्सा हैं। लेकिन कई बार आंखों के नीचे दिखने वाले डार्क सर्कल्स आपकी नैचुरल खूबसूरती को खराब कर देते हैं। आमतौर पर लोग मानते हैं कि आंखों के नीचे काले घेरे यानी डार्क सर्कल्स की समस्या उन लोगों को होती है, जो देर रात तक जागते हैं या आधी-अधूरी नींद लेते हैं। लेकिन स्किन स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स ऐसा नहीं मानते हैं। आंखों के नीचे काले घेरे कई और कारणों से भी हो सकते हैं, जिनमें से कई तो वो गलतियां हैं, जिनके बारे में आपको पता भी नहीं होता है। इस बारे में हमने Dr. Nivedita Dadu's Dermatology Clinic की फाउंडर और चेयरमैन डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. निवेदिता दादू से बात की और उन्होंने हमें आंखों के नीचे होने वाले डार्क सर्कल्स के बारे में कुछ अंजानी बातें बताई हैं, जिनके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए।

dark circles under eyes

डार्क सर्कल्स क्यों होते हैं? (Causes of Under Eye Dark Circles)

डॉ. दादू बताती हैं, "आंखों के नीचे काले घेरे (डार्क सर्कल्स) एक आम समस्या है, जिससे बहुत सारे लोग परेशान होते हैं। डार्क सर्कल्स होने के कई कारण हो सकते हैं, जिनके कारण आंखों के नीचे की सेंसिटिव त्वचा का रंग गहरा होने लगता है। इसका एक बड़ा कारण है आंखों के नीचे की त्वचा का पतला होना, जिसके कारण आंखों के आसपास की रक्त वाहिकाएं (Blood Vessels) ज्यादा गहराई से नजर आने लगती हैं। इसका दूसरा कारण है आंखों के नीचे सूजन यानी पफी आइज (Puffy Eyes)। इसके कारण भी आंखों के नीचे काले और अगल-बगल की त्वचा पर काले घेरे नजर आने लगते हैं।"

इसे भी पढ़ें: चेहरे की झुर्रियां, फाइन लाइन्स और डार्क सर्कल्स को दूर करेगी ग्रीन टी से बनी ये होममेड एंटी-एजिंग क्रीम

शरीर में खून की कमी (Anemia and Dark Circles)

अगर आपके शरीर में खून की कमी है, तो ये भी डार्क सर्कल्स का कारण बन सकता है। खून की कमी को दरअसल एनीमिया कहते हैं, जो कम आयरन लेने के कारण होती है। आयरन हमारे शरीर में ऑक्सीजन को बांधकर सभी अंगों तक पहुंचाने का काम करता है। इसलिए शरीर में आयरन की कमी हो, तो त्वचा की चमक कम होने लगती है और त्वचा का रंग गहरा होने लगता है। इसलिए डार्क सर्कल्स हो रहे हैं, तो आपको अपनी डाइट भी सुधारनी चाहिए।

थकान के कारण भी हो सकते हैं डार्क सकर्ल्स (Tiredness and Dark Circles)

अगर आपके आंखों के नीचे परमानेंट डार्क सर्कल्स नहीं हैं, लेकिन कुछ समय से दिखने लगे हैं तो इसका एक कारण आंखों की थकान हो सकता है। हो सकता है कि आपको शारीरिक रूप से थकान न महसूस हो, बल्कि मानसिक रूप से थकान हो, जिसके कारण आंखों में भारीपन और डार्क सर्कल्स होने लगें। ऐसा अक्सर उन लोगों के साथ भी देखने को मिलता है जो बहुत देर तक स्क्रीन वाले गैजेट्स जैसे- लैपटॉप, मोबाइल, कंप्यूटर, टीवी, टैबलेट आदि का इस्तेमाल करते हैं।

सिगरेट और एल्कोहल के सेवन से (Dark Circles Due to Smoking and Alcohol)

बहुत ज्यादा सिगरेट पीने वाले लोगों (चेन स्मोकर्स) और शराब पीने वालों में भी डार्क सर्कल्स की समस्या होती है। शराब आपके शरीर को हाइड्रेट करती है, जिससे त्वचा की सेल्स की नमी खोने लगती है और त्वचा काली दिखने लगती है। चूंकि आंखों के नीचे की त्वचा बहुत ज्यादा सेंसिटिव होती है, इसलिए कालेपन का असर सबसे पहले आंखों के नीचे ही दिखाई देता है।

इसे भी पढ़ें: आंखों के नीचे काले घेरे (Dark Circles) से निजात पाने के लिए घरेलू उपाय बता रही हैं डॉक्‍टर हेमा पन्‍त

dark cicles causes and treatment

डार्क सर्कल्स के इलाज का क्या है तरीका? (Treatment of Dark Circles)

डॉ. निवेदिता दादू बताती हैं, "आजकल ऐसे बहुत सारे ट्रीटमेंट्स मौजूद हैं, जो आपको डार्क सर्कल्स की समस्या से निजात दिला सकते हैं। ऐसे डार्क सर्कल्स जो बहुत ज्यादा मेलानिन के प्रोडक्शन के कारण हो जाते हैं, अनुवांशिक रूप से डार्क पिग्मेंटेशन के कारण हो जाते हैं या धूप में लगातार काम करने के कारण हो जाते हैं, इन्हें ठीक करने के लिए लेजर थेरेपी बहुत अच्छी है। इसके अलावा आंखों के नीचे दिखने वाली काली छाया या त्वचा के डार्क सर्कल्स को कम करने के लिए फिलर्स भी करवाया जा सकता है। लेकिन ध्यान रखें कि ये सभी ट्रीटमेंट्स सिर्फ डर्मेटोलॉजिस्ट की सलाह पर ही किए जाने चाहिए।"

Read More Articles on Skin Care in Hindi

Disclaimer