शिशु बीमार हो तो इन 5 प्राकृतिक तरीकों से करें उसकी देखभाल, संक्रमण से मिलेगा छुटकारा

नवजात शिशु की प्रतिरोधक क्षमता तुलनात्मक रूप से काफी कम है। इस प्रकार, माता-पिता होने के नाते, आपको अपने बच्चे की उचित देखभाल करनी चाहिए ताकि उसे विकसित होने के लिए सुरक्षित वातावरण प्रदान किया जा सके। खासकर जब ब

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jan 02, 2019
शिशु बीमार हो तो इन 5 प्राकृतिक तरीकों से करें उसकी देखभाल, संक्रमण से मिलेगा छुटकारा

नवजात शिशु बेहद संवेदनशील होते हैं और संक्रमण से ग्रस्त होते हैं। यदि आप अभी-अभी शिशु का पालन करने में लगे हैं, तो आप पहले ही सावधान हो जाएं। एक नवजात बच्चा परिवार के लिए बहुत खुशी लाता है। लेकिन बच्चे को संभालते समय अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए। चूंकि, संवेदनशील बच्चे, उन्हें बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण के संपर्क में आने से बचाने की आवश्यकता होती है। नवजात शिशु की प्रतिरोधक क्षमता तुलनात्मक रूप से काफी कम है। इस प्रकार, माता-पिता होने के नाते, आपको अपने बच्चे की उचित देखभाल करनी चाहिए ताकि उसे विकसित होने के लिए सुरक्षित वातावरण प्रदान किया जा सके। खासकर जब बच्‍चा बीमार हो तो यहां कुछ युक्तियां दी गई हैं जो आपको अपने बच्चे की बेहतर देखभाल करने में मदद करेंगी।

 

 

1 : बच्चे को गर्म रखें

बाहरी दुनिया में समायोजित करने और बढ़ने के लिए शिशुओं को गर्म तापमान की आवश्यकता होती है। वे अपनी मां के स्पर्श से खुद को जोड़ सकते हैं। इस प्रकार, बच्चे को गर्माहट प्रदान करने के लिए माँ का स्पर्श सबसे सुरक्षित स्पर्श है।

2 : बच्चे को चूमने से दूसरों को मना करें 

चूंकि नवजात शिशु बहुत संवेदनशील होते हैं और संक्रमण से ग्रस्त होते हैं, इसलिए संक्रमित होने का उच्च जोखिम होता है। किसी अजनबी को बच्चे को चूमने या गले लगाने से रोकना चाहिए। इससे संचारी संक्रमण फैल सकता है और बच्चे को परेशानी हो सकती है।

3 : हमेशा अपने हाथ धोएं

हमारे हाथ कई चीजों के संपर्क में आते हैं जो संक्रमित होती हैं। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आप बच्चे को संभालने या उन्हें खिलाने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह से धो लें। अगर आप अपने शिशु को टच भी करें तो इस बात का ध्‍यान रखें आपके हाथ स्‍वच्‍छ हों। 

इसे भी पढ़ें: सर्दी में शिशु को ठंड से बचाना है तो ऐसे लपेटें कपड़ा, जरूरी हैं कुछ सावधानियां

4 : छह माह तक मां को अपना दूध पिलाना चाहिए 

माँ का दूध बच्चे के पोषण का एकमात्र स्रोत है। एक माँ को बच्चे को पोषक तत्वों का उचित सेवन सुनिश्चित करने के लिए कम से कम 6 महीने तक बच्चे को स्तनपान कराना चाहिए। यह बच्चे की प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में भी मदद करता है। इससे शिशु का इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत होता है। उसे किसी तरह की बीमारी से बचाया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें: शिशु के लिए खतरनाक है प्रेग्नेंसी के पहले हफ्ते में होेने वाली उल्टी की समस्या, जानें कैसे? 

5 : बच्चे के कपड़े अलग से धोएं

सुनिश्चित करें कि आप बाकी कपड़ों के साथ-साथ शिशु के कपड़ों को न धोएं। बच्चे को सुरक्षित और मुफ्त फॉर्म संक्रमण से बचाने के लिए बच्चे के कपड़ों को अलग से धोना चाहिए। ये कुछ बेहतरीन बेबी केयर टिप्स हैं जिनका पालन करना चाहिए। इससे बच्चे को ठीक से विकसित होने के लिए स्वस्थ वातावरण प्राप्त करने में मदद मिलेगी। 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Parenting In Hindi

Disclaimer