केरल में 'निपाह वायरस' फैलने का कारण हो सकता है रामबुतान फल, 8 मरीजों में दिखे लक्षण, भेजे गए सैंपल

केरल में निपाह वायरस के फैलने का एक कारण कथित तौर पर रामबुतान फल को माना जा रहा है। जांच के लिए मरीजों के साथ-साथ इस फल के सैंपल भी भेजे गए हैं।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Mar 31, 2019Updated at: Sep 06, 2021
केरल में 'निपाह वायरस' फैलने का कारण हो सकता है रामबुतान फल, 8 मरीजों में दिखे लक्षण, भेजे गए सैंपल

केरल के कोझिकोड में रविवार को एक 12 वर्षीय लड़के की निपाह वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि के बाद मौत हो गई। इन दिनों केरल पहले ही कोरोना वायरस की तीसरी लहर का दंश झेल रहा है। केरल में रोजाना कोविड पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। ऐसे में निपाह वायरस के नए-नए मामलों ने सरकार और स्वास्थ्य विशेषज्ञों की चिंता बढ़ा दी है। संक्रमित लड़के की मौत होने के बाद 8 अन्य लोगों, जिनमें निपाह वायरस के लक्षण थे, का सैंपल पुणे के ही नैशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में भेजा गया है। कथित तौर पर इस वायरस के फैलने का कारण रामबुतान फल को माना जा रहा है। दरअसल रविवार को जिस लड़के की निपाह वायरस के कारण मौत हुई, जांच टीम जब उसके घर पहुंची तो उसके परिवार के सदस्यों ने रामबुतान फल खाने के बाद लड़के की स्थिति बिगड़ने की बात कही। ऐसे में स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने मौके पर फल का सैंपल भी ले लिया और जांच के लिए भेज दिया है। आपको बता दें कि निपाह वायरस भी कोरोना वायरस की तरह ही बहुत संक्रामक और खतरनाक होता है।

रामबुतान लीची जैसा दिखने वाला एक खास फल है, जिसके छिलके पर पतले बाल जैसे रेशे लगे होते हैं। ये फल ज्यादा पॉपुलर नहीं है, लेकिन सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है क्योंकि इसमें कुछ खास एंटीऑक्सीडेंट्स और विटामिन्स होते हैं, जो कई तरह की बीमारियों से लड़ने में शरीर की मदद करते हैं। आपको बता दें कि ओनलीमायहेल्थ इस बात की पुष्टि नहीं करता है कि रामबुतान फल खाने से निपाह वायरस का कोई सीधा संबंध है। स्वास्थ्य टीम की जांच के बाद इस बारे में स्थिति और अधिक साफ होगी। लेकिन तब तक हम आपको बताते हैं कि रामबुतान साधारण फल नहीं है, बल्कि इसके सेवन के भी ढेर सारे फायदे हैं।

फल तो सभी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। लेकिन क्या आपने रामबुतान फल के बारे में सुना है? कम ही लोग इस फल के बारे में जानते हैं। लीची जैसा दिखने वाला यह फल भले ही आम बाजार में कम देखने को मिले, लेकिन सुपरमार्केट्स और ऑनलाइन स्टोर से आप इसे आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। इस फल की बाहरी परत पर बाल जैसे रैशे निकले होते हैं। रामबुतान फल विभिन्न औषधीय गुणों से समृद्ध है और आपकी कई शारीरिक समस्याओं का इलाज कर सकता है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन सी, प्रोटीन, पाया जाता है, साथ ही 100 ग्राम रामबुतान फल में सिर्फ 84 कैलोरी पाई जाती हैं। इसके अलावा इस फल में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी मौजूद हैं, जो शरीर की फ्री रेडिकल्स से लड़ने में मदद करता है। इस फल के सेवन से कई गंभीर बीमारियों से सुरक्षित रहा जा सकता है। यह एक ऐसा गुणकारी फल है जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का काम करता है। रामबुतान में कॉपर और आयरन होता है, जो रक्त वाहिकाओं और रक्त कोशिकाओं को स्वस्थ रखने का काम करता है।

रामबुतान फल के फायदे (Benefits of Rambutan Fuits in Hindi)

रामबुतान फल खाने के फायदे कई हैं। यह एंटीऑक्सीडेंट गुणों से समृद्ध है, जो फ्री रेडिकल्स से लड़ने का काम करता है। फ्री रेडिकल्स के कारण कई बीमारियां हो सकती हैं। इनमें कैंसर, इंफ्लेमेशन और हार्ट अटैक शामिल हैं। विटामिन्स की प्रचुरता और स्वाद इसे एक खास फल बनाते हैं। रामबुतान फल के कई फायदे हैं।

1. डायबिटीज में फायदेमंद

एक चीनी स्टडी के मुताबिक, इस फल के साथ इसका छिलका भी काफी गुणकारी है। इसके छिलके में एंटी-डायबिटिक गुण पाए जाते हैं, जो डायबिटीज की बीमारी में फायदेमंद साबित होते हैं।

2. हृदय रोग में फायदेमंद

रामबुतान में मौजूद उच्च फाइबर कोरोनरी हार्ट डिजीज के खतरे को कम कर सकता है। हाई ब्‍लड प्रेशर और कॉलेस्ट्रॉल हृदय को नुकसान पहुंचा सकते हैं। यह खास फल हाई ब्‍लड प्रेशर को कम करने के साथ-साथ कॉलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम कर सकता है।

3. हड्डियों को मजबूत बनाता है 

रामबुतान फल में भरपूर मात्रा में फास्फोरस पाया जाता है, जो हड्डियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह हड्डियों के निर्माण और उनकी मरम्मत में मदद करता है। रामबुतान में विटामिन-सी मौजूद होता है, इसके सेवन से लंबे समय तक हड्डियां मजबूत रहती हैं।

4. स्किन के लिए फायदेमंद

रामबुतान फल का बीज स्किन को हेल्दी बनाने के काम करता है। इसके बीजों से बने पेस्ट को चेहरे पर लगाने से स्किन के दाग-धब्बे दूर होने के साथ स्किन में निखार भी आता है। ये फल स्किन को हाइड्रेट करने का काम भी करता है। रोजाना चेहरे पर इसके बीज का पेस्ट लगाने से स्किन कोमल और मुलायम होती है। इसमें मौजूद मैंगनीज व विटामिन-सी कोलेजन का उत्पादन को बढ़ावा देते हैं और एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करते हैं, जो फ्री रेडिकल्स को दूर करते हैं। ये सब आपकी त्वचा को लंबे समय तक स्वस्थ और जवां बनाए रखते हैं।

5. डाइजेशन को बेहतर करता है

रामबुतान फल में मौजूद फाइबर डाइजेशन में सुधार करता है, जिससे कब्ज की समस्या दूर हो जाती है। इसमें मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण आंतों में मौजूद बैकटीरिया को नष्ट करते हैं। रामबुतान फल दस्त से भी आपको निजात दिला सकता है। 

6. स्कैल्प और बालों के लिए

रामबुतान में मौजूद जीवाणुरोधी गुण रूसी और स्कैल्प की समस्याएं जैसे खुजली में फायदेमंद है। इसमें मौजूद विटामिन-सी बालों और स्कैल्प को पोषण देने का काम कर सकता है और कॉपर बालों को झड़ने से रोक सकता है। आप नहाने से 15 मिनट पहले रामबुतान का रस बालों और स्कैल्प पर लगा सकते हैं, इसमें मौजूद विटामिन-सी आपके बालों को चमक देने का काम भी करता है।

इसे भी पढ़ें:- Weight Loss Tricks: तेजी से वजन घटाते हैं ये 6 प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट फूड कॉम्बिनेशन

7. कैंसर से सुरक्षित रखता है

कई गुणों से भरपूर रामबुतान फल में एंटीऑक्सीडेंट्स भी भारी मात्रा में मौजूद होते हैं, जो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से सुरक्षित रखने मदद करते हैं। इसमें मौजूद विटामिन-सी शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्स को नष्ट करके कैंसर से बचाव करते हैं। एक स्टडी के मुताबिक, रामबुतान फल के छिलके शरीर में कैंसर की कोशिकाओं को बनने से रोकते हैं। रोजाना पांच रामबुतान का सेवन करने से कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। लीवर कैंसर में भी ये फल बहुत फायदेमंद होता है।  

8. ऊर्जा बढ़ाने में सहायक

रामबुतान में कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन दोनों तत्व पाए जाते हैं। ये दोनों तत्व आवश्यकता पड़ने पर शरीर में ऊर्जा बढ़ाने का काम करते हैं।

रामबुतान फल के नुकसान (Side Effects of Rambutan Fruit in Hindi)

हर चीज के दो पहलू होते हैं, ठीक ऐसे ही रामबुतान के भी कुछ नुकसान हैं। रामबुतान फल के अधिकांश दुष्प्रभाव इसके मीठे स्वाद से जुड़े हैं।

इसे भी पढ़ें:- शरीर में सभी पोषक तत्‍वों को पूरा करते हैं ये 7 हेल्‍दी ब्रेकफास्‍ट, इन्‍हें बनाना भी है आसान

  • इसमें एंटी-डायबिटिक गुण होते हैं, लेकिन इसका एक और पहलू भी है। रामबुतान में फ्रक्टोज होता है, जो इंसुलिन को बढ़ा सकता है। 
  • इसका अधिक मात्रा में सेवन करने पर यह शुगर लेवल को बढ़ा सकता है और इससे मधुमेह का खतरा बढ़ सकता है। लेकिन रामबुतान में मौजूद फाइबर ब्लड शुगर को नियंत्रित करने का काम करता है।
  • रामबुतान के बीज विषाक्त होते हैं, इसलिए इन्हें खाने से बचें। फल के अलावा रामबुतान पेड़ के अन्य भागों का प्रयोग किया जा सकता है। इनमें पत्ते, बीज, छिलके और छाल शामिल हैं। 
Read More Articles On Health News in Hindi
 
Disclaimer