Oral Care Tips: चाहते हैं उम्र से पहले न हों बच्‍चों के दांत खराब, तो रखें इन 5 बातों का ख्‍याल

बच्‍चों के दांतों की विशेष देखभाल करने की जरूरत होती है। क्‍योंकि बच्‍चे अधिक मीठी चीजें खाते हैं, जिसकी वजह से दांतों में कैविटी हो जाती हैैै। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Dec 16, 2019Updated at: Dec 16, 2019
Oral Care Tips: चाहते हैं उम्र से पहले न हों बच्‍चों के दांत खराब, तो रखें इन 5 बातों का ख्‍याल

ओरल हेल्‍थ के प्रति न केवल बड़ों को, बल्कि बच्चों को भी बचपन से ही सही देखभाल की जरूरत होती है। इसके लिए जरूरी है कि बच्‍चें के माता-पिता या घर का कोई सदस्‍य, उन्हें अपने दांतों और खाने की आदतों के बारे में सतर्क करता रहे। इसके लिए बच्चे के दांतों की नियमित जांच के साथ-साथ उसकी कुछ आदतों पर आपको ध्‍यान देने की जरूरत होती है। जैसे कि बच्‍चा क्या खाते है और सही ढंग से ब्रश कर रहा है या नहीं आदि। आइए यहां हम आपको 5 बातें बता रहे हैं, जिन्‍हें आपको अपने बच्‍चे की ओरल हेल्‍थ के लिए ध्‍यान में रखना आवश्‍यक है। 

2 बार ब्रश करना है जरूरी

दिन में 2 बार ब्रश करना ओरल हेल्‍थ के लिए सबसे जरूरी है। लेकिन यह सबसे महत्वपूर्ण है कि माता-पिता को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनका बच्चा हर बार दो मिनट के लिए हर बार दांतों को ब्रश करता है, आगे-पीछे और ऊपर-नीचे। दांतों में जमा खाने की वजह से पनपने वाले जीवाणुओं को खत्म करने के लिए जीभ को सही तरह साफ करना और मसूड़ों को अच्‍छे से ब्रश करना जरूरी है। इसके अलावा नरम टूथब्रश का उपयोग करें, जो आपके बच्चे के संवेदनशील मसूड़ों और दांतों के लिए नुकसानदायक न हो। 

दाँत साफ करने के धागे का उपयोग 

स्‍वस्‍थ और मजबूत दांतों के लिए जैसे ब्रश करना जरूरी है, वैसे ही दाँत साफ करने का धागा यानि फ्लॉस का इस्‍तेमाल करना भी उतना ही जरूरी है। सोने से पहले बच्‍चे को फ्लॉस करने की आदत डालें। यदि आपका बच्चे के लिए फ्लॉस का उपयोग करना मुश्किल होता है, तो फ्लॉस पिक्स जैसे बहुत सारे मज़ेदार उपकरण हैं, जो उनके लिए आसान हो सकते हैं।

oral-care-tips-for-kids

इसे भी पढें: भूलकर भी बच्‍चों के साथ बात करने समय न बोंलें ये 4 बातें, पड़ सकता है बच्‍चे पर गलत असर

दांतों के हिसाब से हो खानपान 

आप जो खाते हैं, वह आपके दांतों पर असर डालता है। अब इसमें ठंडा- गरम साथ में खाना हो या फिर  ब्रोकोली, डेयरी उत्पादों, और हरी पत्तेदार सब्जियों जैसे कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थ। यह आपके दांतों पर अच्‍छा और बुरा दोनों तरह‍ के प्रभाव डाल सकते हैं। जैसे यदि बच्‍चा ठंडा-गरम साथ में खाता है, तो दांतों में झनझनाहट की समस्‍या हो सकती है। वहीं डेयरी उत्पादों और हरी पत्तेदार सब्जियों कैल्शियम से भरपूर हैं, जो स्वस्थ दांत और हड्डियों के लिए अच्‍छे हैं। 

डॉक्‍टर से दांतों का चेकअप  

अगर आपके बच्चे के दांतों में कोई भी समस्या नहीं है, तब भी आपको अपने बच्‍चे की दांतों की सफाई और नियमित जांच के लिए हर 6 महीने में डेंटिस्‍ट के पास ले जाना चाहिए। यह किसी भी प्‍लाक जमा होने को हटाने में मदद करेगा, जो कैविटी जैसी समस्याओं को जन्म दे सकता है। यह तब से भी मदद करता है, यदि दांत की कोई समस्‍या है, ऐसे में उसे शुरूआत में ही गंभीर होने से रोका जा सकता है। 

Oral Health Checkup

इसे भी पढें: अगर चाहते हैं आपके बच्चे का कद न रहे छोटा, तो शुरुआत से ही अपनाएं ये 5 आदतें

शुगरी फूड्स को कहें ना   

यदि आप अपने बच्चे के शुगरी फूड्स खाने की आदत को कम कर देते हैं, तो उसके दांतों के लिए यह अच्‍छा निर्णय होगा। चीनी के सेवन को कम करना अच्छा है, क्‍योंकि चीनी दांतों के बैक्टीरिया के लिए एक खाद्य स्रोत के रूप में काम करती है। बैक्टीरिया चीनी को एसिड में परिवर्तित कर देते हैं, जो कि तब दांतों की सड़न और कैविटी की ओर ले जाता है।

Read More Article On Parenting In Hindi 

Disclaimer