ये 5 संकेत बताते हैं बस आ ही गया हार्ट अटैक, जानें न दिखाई लेने वाले लक्षणों से कैसे बचें

Signs Of An Impending Heart Attack: कुछ स्थितियों में हार्ट अटैक का पता नहीं चलता लेकिन ये 5 संकेत बताते हैं बस आने वाली ही है हार्ट अटैक। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Mar 17, 2020Updated at: Mar 17, 2020
ये 5 संकेत बताते हैं बस आ ही गया हार्ट अटैक, जानें न दिखाई लेने वाले लक्षणों से कैसे बचें

Signs Of An Impending Heart Attack: विश्वभर में ह्रदय रोगों का बढ़ता खतरा किसी चिंता से कम नहीं है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दुनियाभर में होने वाली मौतों का प्रमुख कारण हार्ट अटैक सहित ह्रदय रोग ही है। हार्ट अटैक यानी की दिल का दौरा तब आता है, जब हमारे हार्ट यानी के दिल तक रक्त पहुंचाने वाली किसी एक या एक से अधिक धमनी में फैट जमा हो जाता है और ब्लड सर्कुलेशन में रुकावट पैदा होने लगती है। धमनी में फैट जमा हो जाने से खून का प्रवाह बाधित होता है और रक्त न मिल पाने के कारण हमारे दिल की मांसपेशियों में ऑक्सीजन की कमी होने लगती है। इस स्थिति का सही समय पर उपचार नहीं हो पाना हार्ट अटैक का कारण बनता है। इसके अलावा आपको ये जानकर हैरानी होगी कि हार्ट अटैक से मरने वाले अधिकांश रोगियों को इस बात की जानकारी ही नहीं होती है कि ऐसा कैसे हो गया। इस तरह के हार्ट अटैक वाली स्थिति को साइलेंट हार्ट अटैक कहते हैं, जिसमें लक्षण अस्पष्ट होते हैं और इनका पता ही नहीं चल पाता है।

HEARTATTACK

क्या है 'साइलेंट हार्ट अटैक'

हार्ट अटैक के करीब 25 प्रतिशत मामले साइलेंट हार्ट अटैक जैसी स्थिति के होते हैं। इस स्थिति में ज्यादातर मरीजों की मौत हो जाती है। इस स्थिति में रोगी को पता ही नहीं होता है कि उसे हार्ट अटैक आना वाले है। इस स्थिति में मरीजों को हार्ट अटैक के लक्षण दिखाई नहीं देते या फिर वे इन लक्षणों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं। साइलेंट हार्ट अटैक ज्यादा घातक होता है इसलिए इसके लक्षणों के बारे में जानकारी जरूरी है। हालांकि कुछ स्थितियों में ऐसा होता है कि आपको हार्ट अटैक के बारे में पता नहीं चलता और आपको अस्पताल जाकर पता चलता है कि आप हार्ट अटैक के शिकार हुए हैं। अगर आप भी सोच रहे हैं कि ऐसे कौन से लक्षण हैं, जो बताते हैं कि हार्ट अटैक कब और कैसे बिना बताया आ जाता है तो हम आपको इस बारे में बताने जा रहे हैं।

सामान्य स्थिति में कैसे आता है हार्ट अटैक

40 के बाद अगर आपका ब्लड प्रेशर सामान्य है, कोलेस्ट्रॉल सामान्य है और तो और आपकी नब्ज भी सही से चल रही है तब भी आप हार्ट अटैक की शिकायत से परेशान हो सकते हैं। जी हां, कुछ स्थितियों में ब्लड प्रेशर भी सामान्य रहता है। लेकिन ऐसे कुछ लक्षण हैं, जिन्हें पहचानकर आप पता लगा सकते हैं कि हार्ट अटैक बस आ ही गया। वे लक्षण हैं ये

कंधों के बीच पीठ में होने वाला दर्द

अगर आपको रात को सोनो में दिक्कत हो रही है खासकर आपको दोनों कंधों के बीच कुछ अजीब सा महसूस हो रहा है। कंधों के बीच जकड़न और रह-रह कर दर्द होना भी ये संकेत है कि आपको हार्ट अटैक पड़ने वाला है। इस स्थिति में व्यक्ति को नींद नहीं आती है और बैचेनी व घबराहट होने लगती है। 

blood type

इसे भी पढ़ेंः A, B, AB या O किस ब्लड ग्रुप वाले लोगों को हार्ट अटैक का खतरा ज्यादा? जानें कौन सा ब्लड ग्रुप सबसे ज्यादा सेफ

बाथरूम जाते वक्त चक्कर आना

अगर आप रात भर सो नहीं सके हैं और सुबह उठकर आपके लिए बाथरूम जाना मुश्किल हो जाता है यानी की अगर आपको उठते ही चक्कर आने लगे और आपका किसी काम में मन न लगे तो आपको दिक्कत हो सकती है। ऐसा तब भी होता है जब आप टीवी पर कोई फिल्म या नाटक देख रहे हों और आपको हल्का-हल्का धुंधला दिखाई देने लगे। ये स्थिति पर कभी-कभार हार्ट अटैक का कारण बनती है।

दिल की धड़कन में अचानक बदलाव

साइलेंट हार्ट अटैक की स्थिति में बहुत से लोगों को छाती में दर्द की शिकायत नहीं होती है। लेकिन कुछ वक्त पहले से लोगों के दिल की धड़कन में अचानक बदलाव शुरू हो जाता है। वे महिलाएं, जिनमें जल्दी मेनोपॉज हो जाता है उनमें हार्ट अटैक का खतरा ज्यादा होता है। 45 पार महिलाओं में मेनोपॉज की समस्या के कारण भी दिल की धड़कन में बदलाव होता है, जो कुछ स्थितियों में हार्ट अटैक का कारण बनता है।

इसे भी पढ़ेंः साइलेंट' हार्ट अटैक की वजह है शरीर में होने वाली ये 3 परेशानियां, जानें साइलेंट ह्रदय रोगों के शुरुआती संकेत

ठंडा पसीना आना

आपने पसीना आना तो सुना ही होगा लेकिन ठंड लगकर पसीना आना बहुत ही कम लोग अनुभव करते हैं। इस स्थिति में आपकी स्किन बिल्कुल ठंडी हो जाती है और आपके चेहरे से पसीना टपकने लगता है। अगर आपको ऐसी ही किसी प्रकार की समस्या हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से मिलें।

घूमने लगता है शरीर

हार्ट अटैक से करीब एक सप्ताह पहले आपका शरीर घूमना शुरू कर देता है और ये स्थिति लगभग ज्यादातर लोगों को परेशान करती है। बैठे-बैठे भी आपको ये स्थिति परेशान कर सकती है। इस स्थिति को बिल्कुल भी नजरअंजाद नहीं करना चाहिए और तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए। ऐसी स्थिति निश्चित रूप से हार्ट अटैक का कारण बनती है।

Read more articles on Heart Health in Hindi

Disclaimer