पेट के लिए बहुत फायदेमंद हैं ये 5 प्रीबायोटिक फूड्स, डाइजेशन होता है स्मूथ

प्रीबायोटिक्स और प्रोबायोटिक्स दोनों मानव शरीर में अलग-अलग भूमिका निभाते हैं। आप प्रोबायोटिक के स्वास्थ्य लाभों से अवगत हो सकते हैं। प्रीबायोटिक आपके पाचन स्वास्थ्य के लिए प्रोबायोटिक जितना ही महत्वपूर्ण है। प्रोबायोटिक आपके आंत के लिए अच्छा बैक्ट

Rashmi Upadhyay
अन्य़ बीमारियांWritten by: Rashmi UpadhyayPublished at: Apr 16, 2019
पेट के लिए बहुत फायदेमंद हैं ये 5 प्रीबायोटिक फूड्स, डाइजेशन होता है स्मूथ

प्रीबायोटिक्स और प्रोबायोटिक्स दोनों मानव शरीर में अलग-अलग भूमिका निभाते हैं। आप प्रोबायोटिक के स्वास्थ्य लाभों से अवगत हो सकते हैं। प्रीबायोटिक आपके पाचन स्वास्थ्य के लिए प्रोबायोटिक जितना ही महत्वपूर्ण है। प्रोबायोटिक आपके आंत के लिए अच्छा बैक्टीरिया है जो कई खाद्य पदार्थों में पाया जाता है। जबकि, प्रीबायोटिक अच्छे बैक्टीरिया के लिए पोषण है। यह आपके आंत में अच्छे बैक्टीरिया के विकास को उत्तेजित करता है। इसलिए प्रीबायोटिक्स भी उतना ही महत्वपूर्ण है। आपको प्रीबायोटिक्स की इष्टतम आवश्यकता के लिए प्रीबायोटिक की खुराक पर निर्भर होने की आवश्यकता नहीं है। कुछ खाद्य पदार्थ हैं जो आपको आवश्यक मात्रा में प्रीबायोटिक्स प्रदान कर सकते हैं। यहां कुछ खाद्य पदार्थ हैं जिन्हें आप अपने पेट को स्वस्थ रखने के लिए अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। आइए जानते हैं क्या हैं ये—

प्याज और प्रीबायोटिक्स

प्याज एक चीज है जो हर भारतीय रसोई में पाई जाती है। आप पके हुए और कच्चे प्याज दोनों का सेवन कर सकते हैं। लेकिन कच्चे प्याज का सेवन आपको अधिक प्रीबायोटिक्स प्रदान करेगा। प्याज स्वाद में भी बेहतरीन है जिसका आनंद विभिन्न खाद्य पदार्थों के साथ लिया जा सकता है। कच्चे प्याज में कच्चे फाइबर की उपस्थिति आपके आंत में अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ावा देगी। प्याज में भी सूजन-रोधी गुण होते हैं और कुछ एलर्जी का भी इलाज कर सकते हैं। इसमें विटामिन सी भी होता है जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करेगा।

लहसुन

लहसुन एक भारतीय रसोई का एक और महत्वपूर्ण और सामान्य घटक है। आप लगभग हर भारतीय रसोई में लहसुन पा सकते हैं। लहसुन आमतौर पर विभिन्न व्यंजनों में जोड़ा जाता है जो विभिन्न स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है और भोजन के स्वाद को भी बढ़ाता है। इसे पकाने के अलावा आप सुबह-सुबह कच्चे लहसुन का सेवन भी कर सकते हैं। एक या दो लहसुन की लौंग लें और उन्हें अच्छी तरह से कुचल दें और रोज सुबह खाली पेट एक गिलास पानी के साथ इसका सेवन करें। लहसुन हानिकारक जीवाणुओं को मार देगा और अच्छे जीवाणुओं के विकास को बढ़ावा देगा। 

सेब

जैसा कि आप जानते हैं कि रोज एक सेव खाने से पूरी तरह से स्वस्थ रहा जा सकता है। सेब के प्रीबायोटिक लाभ भी हैं। जब आप सेब का सेवन करते हैं, तो आपके शरीर के अंदर ब्यूटाइरेट बढ़ जाता है जो कि फैटी एसिड की एक छोटी श्रृंखला है। यह शरीर के अंदर अच्छे बैक्टीरिया का समर्थन करता है। यह खराब बैक्टीरिया की आबादी को भी कम करता है। सेब आपको बेहतर पाचन, चयापचय और कोलेस्ट्रॉल के स्तर जैसे अन्य लाभ भी प्रदान करेगा। विभिन्न शोधों से यह भी पता चलता है कि सेब कुछ कैंसर के जोखिम को भी कम करता है।

केला

केले भी एक फल हैं जो आसानी से मिल सकते हैं। ज्यादातर लोग अपने नाश्ते में केले का आनंद लेते हैं। यह कई पोषक तत्वों से भी समृद्ध है जो शरीर को विभिन्न तरीकों से लाभ पहुंचा सकते हैं। केले ने अच्छे जीवाणुओं की वृद्धि और पाचन क्रिया में सुधार दिखाया है। यह सूजन को भी हल कर सकता है। जब प्रीबायोटिक प्रभाव की बात आती है, तो कच्चे केले अधिक फायदेमंद होते हैं।

अलसी

अलसी के बीज बेहद स्वस्थ होते हैं। वे आहार फाइबर और अन्य पोषक तत्वों में उच्च हैं। सन के बीज अच्छे बैक्टीरिया, मल त्याग और पाचन को बढ़ावा देते हैं। आप अपने शेक और स्मूदी में या सलाद ड्रेसिंग के रूप में सन बीज जोड़ सकते हैं।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer