हाथ धोते समय अगर ये 5 गलतियां करते हैं, तो आपके हाथ धोने का कोई फायदा नहीं

World Hand Hygiene Day: हाथ धोते समय कुछ गलतियां इतनी सामान्य हैं कि 95% लोग हमेशा गलत तरीके से हाथ धोते हैं और उन्हें इसका पता भी नहीं होता है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Jun 08, 2020 14:36 IST
हाथ धोते समय अगर ये 5 गलतियां करते हैं, तो आपके हाथ धोने का कोई फायदा नहीं

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

World Hand Hygiene Day 2020: हाथ धोने की आदत हमें बचपन से ही डलवाई जाती है। शौच के बाद, खाने के पहले, खाने के बाद या कोई गंदी चीज छूने, उठाने के बाद हाथों को धोना जरूरी बताया जाता है। इसका कारण यह है कि हमारे हाथ जर्म्स (कीटाणुओं) और बैक्टीरिया के सबसे आम वाहक होते हैं। शरीर में ज्यादातर हानिकारक जर्म्स हाथों के द्वारा ही पहुंचते हैं। इसलिए हाथ धोना, थोड़ा बड़े होते-होते हममें से ज्यादातर लोगों की आदत में शामिल हो जाता है। मगर क्या हो अगर आप गलत तरीके से हाथ धोते हों? तब तो आपको हाथ धोने का पूरा फायदा ही नहीं मिलेगा, यानी हाथ धोने के बाद भी जर्म्स आपके शरीर में पहुंच जाएंगे।

अध्ययन बताते हैं कि ज्यादातर लोग हाथ धोते समय कुछ सामान्य गलतियां करते हैं, जिसके कारण उनका हाथ सही तरह से साफ नहीं होता है। मगर इसके बारे में लोगों को सही जानकारी नहीं होती है। डॉक्टर्स ये बताते हैं कि अगर आप सही तरह से हाथ धोएं, तो हजारों तरह के रोगों और इंफेक्शन से आप खुद को बचा सकते हैं। इसलिए आज हम आपको बता रहे हैं हाथ धोने के दौरान की जाने वाली 5 बेहद सामान्य गलतियां, जिनकी तरफ आपका ध्यान शायद नहीं जाता है।

पूरा समय नहीं देते हैं

मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च बताती है कि ज्यादातर लोग हाथ धोते समय पर्याप्त जल्दबाजी में रहते हैं, जिसके कारण उनके हाथों के कीटाणु पूरी तरह मरते नहीं हैं। सेंटर ऑफ डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) के अनुसार आपको अपने हाथों पर साबुन या हैंडवॉश लगाने के बाद कम से कम 20 सेंकड तक झाग से हाथों को रगड़ना चाहिए, तभी आपके हाथों के कीटाणु अच्छी तरह साफ होते हैं।

इसे भी पढ़ें: ज्यादातर लोग नहीं जानते खाने से पहले और शौच के बाद कैसे धुलना चाहिए हाथ

पूरा हाथ नहीं धोते हैं आप

बहुत सारे लोग यह गलती भी करते हैं कि वे सिर्फ हथेली के हिस्से में ही साबुन या हैंडवॉश लगाते हैं और धोकर फुरसत पाते हैं। ऐसे में आपके हाथ के कई हिस्से छूट जाते हैं। इसलिए जरूरी है कि जब आप हाथों को धोएं, तो हथेली के साथ-साथ पीछे के हिस्से, उंगलियों में साबुन लगाते हुए कलाइयों तक लगाएं। इसके बार पानी की धार में पूरे हाथ को रगड़ते हुए सफाई से हाथ धोएं, ताकि आपका पूरा हाथ साफ हो पाए।

गंदे कपड़े में हाथ पोंछ लेते हैं

ये सबसे सामान्य गलती है। ज्यादातर लोग हाथ तो बड़े शौक से धोते हैं, मगर इसके बाद हाथों का पानी पोंछने के लिए ऐसे कपड़े या टॉवेल का इस्तेमाल करते हैं, जो पहले से ही गंदा होता है या 7-8 दिन से ज्यादा समय से धोया नहीं गया होता है। ऐसे में हाथ धोने के बाद कपड़े में लगे हुए जर्म्स दोबारा आपके हाथों में लग जाते हैं और आपको हाथ धोने का कोई फायदा नहीं मिलता है। इसलिए जिस कपड़े में आप हाथों को धोने के बाद पोंछते हैं, उसे रोजाना या कम से कम 1 दिन छोड़कर जरूर धोएं और धूप में सुखाएं। इसके अलावा अपना पर्सनल हैंड टॉवल रखें। कई लोग एक ही कपड़े को हाथ सुखाने के लिए न इस्तेमाल करें।

हाथों को ठीक से नहीं सुखाते हैं

जर्म्स और बैक्टीरिया गीलापन या नमी पाकर तेजी से बढ़ते हैं। यही कारण है कि बरसात के दिनों में इनका अटैक बढ़ जाता है। इसलिए अगर आप हाथों को धोने के बाद इसे सही तरह से साफ नहीं करते हैं, तो आपके हाथों में रह गए कीटाणु तेजी से बढ़ते हैं और दोबारा आपके हाथ गंदे हो जाते हैं, जबकि आपको यही लगता है कि आपके हाथ साफ हैं। इसलिए आप जब भी हाथ धोएं, इसे पूरी तरह और सही तरीके से सुखाएं। हाथों को सुखाने के लिए आप कोई साफ कपड़ा, हैंड टॉवल, हैंड ड्रायर या टिशू पेपर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: सही तरीके से नहीं धोते हैं हाथ, तो हो सकती हैं ये 5 बीमारियां

पब्लिक प्लेस की जाने वाली गलतियां

एक बड़ी गलती आप तब करते हैं जब आप पब्लिक प्लेस पर टॉयलेट, वॉशरूम इस्तेमाल करते हैं। दरअसल पब्लिक प्लेस पर बने वॉशरूम को दिन में सैकड़ों लोग इस्तेमाल करते हैं, इसलिए यहां जर्म्स और बैक्टीरिया सामान्य वॉशरूम के मुकाबले कई गुना ज्यादा होते हैं। इसलिए पब्लिक प्लेस पर हाथों को धोने के बाद जब आप सादे हाथों से कमरे के अंदर की कोई चीज छूते हैं, तो आपके हाथों में फिर ढेर सारे जर्म्स लग जाते हैं। जैसे- नल चलाने के लिए प्रेस करने वाली बटन, गेट खोलने का हैंडल, हैंड वॉश डिस्पेंसर या कोई अन्य जगह। इसलिए जरूरी है कि आप इस दौरान भी सावधानी रखें।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer