टीबी के मरीज जरूर खाएं ये 5 आहार, बढ़ेगी रोग प्रतिरोधक क्षमता और जल्द मिलेगा आराम

टीबी (Tuberculosis) या क्षय की संक्रामक बीमारी है, जो मुख्य रूप से फेफड़ों को प्रभावित करता है और व्‍यक्ति को कमजोर बनाता जाता है। फेफड़ों के अलावा, मस्तिष्क, हड्डियों, जोड़ों, गुर्दे, त्वचा और हृदय भी टीबी से ग्रसित हो सकते हैं। क्षयरोग को कई

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Aug 27, 2019
टीबी के मरीज जरूर खाएं ये 5 आहार, बढ़ेगी रोग प्रतिरोधक क्षमता और जल्द मिलेगा आराम

टीबी (Tuberculosis) यानि तपेदिक एक घातक बीमारी है, यदि समय रहते व्‍यक्ति को उचित देखभाल व इलाज नहीं दिया जाए, तो यह काफी गंभीर समस्‍या बन सकती है। टीबी रोग माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस नामक बैक्टीरिया के कारण होता है और कमजोर प्रतिरक्षा वाले लोगों को टीबी होने का खतरा अधिक होता है। वास्तव में, तपेदिक विश्व स्तर पर दूसरा सबसे बड़ी जानलेवा बीमारियों में से एक है। टीबी से निपटने के लिए कुछ समय के लिए पर्याप्त आराम और दवा की आवश्यकता होती है। टीबी का इलाज संभव है लेकिन जब भी टी.बी से ग्रसित व्‍यक्ति कहीं बाहर जाता है, तो उसे मास्क पहनना चाहिए, जब तक वे पूरी तरह से ठीक न हो जाए। ताकि वह खुद को अनचाहे संक्रमणों से बचा सकें।

टीबी के कुछ सामान्‍य लक्षणों में लगातार खासीं, वजन में कमी, कमजोरी और सांस लेने में तकलीफ शामिल हैं। हालाँकि, कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन टीबी रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकता है। आइए जानते हैं टीबी से ग्रसित व्‍यक्ति को अपने आहार में किन जरूरी चीजों को शामिल करना चाहिए। 

फल 

टीबी की बीमारी से पीडि़त व्‍यक्ति को अपनी डाइट में विटामिन ए, ई, और विटामिन सी से भरपूर फलों जैसे संतरा, आम, पपीता, अमरूद, आंवला और नींबू का सेवन करना बहुत जरूरी है। यह सभी फल पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं, जो कि टीबी रोगी के लिए फायदेमंद हैं और रोग प्रतिरक्षा बढ़ाने में मददगार हैं। 

लहसुन 

लहसुन टीबी के मरीजों के लिए चमत्कार के समान है। रोजाना सुबह लहसुन की दो या तीन कलियों को चबाना चाहिए, इससे यह शरीर से एक नहीं, कई बीमारियों को खत्म करने में मदद करेगा। इसके अलावा, लहसुन टीबी के इलाज में भी प्रभावी है, इसमें मौजूद एलिसिन का सीधा प्रभाव टीबी के कीटाणु पर पड़ता है। लहसुन को यदि दो-तीन मिनट तक चबाया जाए तो उससे टीबी पर काबू पाया जा सकता है।

इसे भी पढें: इन 5 फल-सब्जियों के छिलके खाएं और पाएं डिप्रेशन- दिल की बीमारियों से छुटकारा, जानें अन्य फायदे

दूध 

दूध कैल्शियम से भरपूर होता है इसलिए दूध का सेवन टी.बी. के मरीजों के लिए काफी गुणकारी माना जाता है। दूध प्रोटीन से भरपूर है, यदि टी.बी मरीज रोजान दूध का सेवन करता है, तो इससे उसकी रोग प्रतिरक्षा बढ़ाने और शरीर को ताकत मिलती है। इसलिए टी.बी. की बीमारी से जल्‍द छुटकारा पाने के लिए रोगी को बादाम के दूध का सेवन करना चाहिए क्योंकि यह हल्का, पचने में आसान और विटामिन्‍स से समृद्ध होता है।

सब्जियां व अनाज 

टीबी रोगी को अपने आहार में गाजर, टमाटर, शकरकंद और ब्रोकोली जैसी सब्जियों को शामिल करना चाहिए क्‍योंकि यह एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होती हैं, जो आपके स्वास्थ्य को वापस ट्रैक पर लाने के लिए महत्वपूर्ण हैं। इसके अलावा, टीबी की बीमारी में अनाज जैसे ब्रेड आदि साबुत अनाज को अपने आहार में शामिल करना चाहिए। ये न केवल आपकी भूख को शांत करने में मदद करेंगे, बल्कि तेजी से आपको वापस रिकवर होने में मदद करेंगे।

इसे भी पढें: रोजाना ये 5 नट्स खाकर आसानी से सामान्य करें बढ़ा हुआ ब्लड प्रेशर, रहेंगे स्वस्थ

ग्रीन टी 

यदि आप टीबी जैसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं, तो चाय और कॉफी का सेवन कम से कम करें और अपने कोशिश करें कि अपने रूटीन में ग्रीन टी को शामिल करें। टीबी के उपचार में ग्रीन टी फायदेमंद है क्योंकि यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करती है। इन खाद्य पदार्थों के अलावा, टीबी के रोगी के लिए धूप बहुत आवश्यक है क्योंकि इसमें विटामिन डी की कमी होती है, इसलिए उन्हें सुबह की धूप में बैठना चाहिए और विटामिन डी युक्त खाद्य पदार्थ लेने चाहिए।

Read More Article On Healthy Diet In Hindi 

Disclaimer