रोजाना तीस मिनट तक पसंदीदा संगीत सुनने से दिल रहता है दुरुस्‍त

संगीत सुनने से दिमाग में एंडोर्फिन्‍स तत्‍व का स्राव होता है जो दिल को दुरुस्‍त रखने में मदद करता है, जानने के लिए पढ़ें यह हेल्‍थ न्‍यूज।

एजेंसी
लेटेस्टWritten by: एजेंसीPublished at: Sep 03, 2013
रोजाना तीस मिनट तक पसंदीदा संगीत सुनने से दिल रहता है दुरुस्‍त

keep heart healthy with musicशायद ही दुनिया का कोई ऐसा व्‍यक्ति हो, जिसे संगीत सुनना पसंद न हो। हर किसी की अपनी अलग पसंद हो सकती है, लेकिन संगीत से लगाव सब लोगों को होता है। कई शोध संगीत से मानसिक तनाव दूर करने की बात स्‍वीकार कर चुके हैं। संगीत आपको शांत बनाए रखने में भी मदद करता है। इसके साथ ही इसके अन्‍य कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ हैं। एक ताजा शोध संगीत के एक और गुण के बारे में बताता है। इसमें कहा गया है कि संगीत आपके लिए के लिए भी काफी फायदेमंद होता है।

 

सर्बिया की यूनिवर्सिटी ऑफ निस के हालिया शोध में संगीत के दिल पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में बताया गया है। संगीत सुनने से दिमाग में एंडोर्फिन्‍स हार्मोन का स्राव होता है। यह दिल को दुरुस्‍त रखता है। शोधकर्ताओं की मानें तो गाने के मुकाबले इंसटूमेंटल संगीत अधिक प्रभावी होता है।

 

इस शोध के अनुसार, रोजाना 30 मिनट पंसदीदा संगीत सुनने से दिल की क्षमता बढ़ती है। इसके अलावा जिन्‍हें दिल की बीमारी है, उनके लिए भी यह फायदेमंद है।

 

यह शोध दिल की बीमारी वाले 74 लोग पर किया गया। उन्‍हें तीन टीमों में बांटा गया। इनमें से एक टीम को तीन हफ्ते तक एक्‍सरसाइज कराई गई। दूसरी टीम को एक्‍सरसाइज कराने के साथ संगीत सुनाया गया। तीसरी टीम को सिर्फ संगीत सुनने के लिए कहा गया।

 

शोध समाप्‍त होने के बाद, जिन लोगों के एक्‍सरसाइज के साथ संगीत भी सुना उनके दिल की कार्यक्षमता में आश्‍चर्यजनक रूप से 39 फीसदी का इजाफा देखा गया। जिस ग्रुप को केवल एरोबिक्‍स एक्‍सरसाइज करवायी गयी उसके दिल की क्षमता में 29 फीसदी इजाफा देखा गया। और वे लोग जिन्‍होंने रोजाना केवल तीस मिनट अपना पसंदीदा संगीत सुना और कोई व्‍यायाम नहीं किया, के दिल की क्षमता में भी 19 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुयी।

 

एम्‍सटड्रम स्थित यूरोपियन सोसायटी ऑफ कार्डियोलॉजी की वार्षिक कांग्रेस में यह शोध पेश किया गया कि संगीत सुनने से दिल के लिए लाभकारी हार्मोन का स्राव होता है।

 

 

 

Read More Health News In Hindi

Disclaimer