जल्दी बढ़ाना है वजन, तो पनीर नहीं टोफू का करें ऐसा सेवन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 12, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सिर्फ आधे कप टोफू से 10 ग्राम प्रोटीन होता है। 
  • वजन बढ़ाने के लिए पानी भी है अच्छा विकल्प।
  • वजन बढ़ाने के लिए साबुत अनाज का सेवन कीजिए।

सिर्फ वजन घटाना ही नहीं बल्कि कई लोग वजन के न बढ़ने से भी परेशान हैं। कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अपने दुबलेपन यानि कि अंडरवेट होने के चलते रोजाना शर्मिंदगी का शिकार होते हैं। ये लोग अच्छी डाइट लेने और घंटों जिम में पसीना बहाने के बाद भी उन लोगों को ये समझ नहीं आता हैं कि आखिर किस प्रकार के आहार के जरिए वे अपना वजन बढ़ा सकते हैं। ऐसे में वे वजन बढ़ाने वाले सप्लीमेंट्स की मदद लेते हैं जो कि शरीर के लिए हानिकारक है। खुद को स्वस्थ और संतुलित वजन के लिए आप प्राकृतिक उपायों की मदद ले सकते हैं। इससे अपाका वजन स्वस्थ तरीके से बढ़ेगा और यह शरीर के लिए नुकसानदेह भी नहीं होगा। आज हम आपको वजन बढ़ाने का ऐसा उपाय बता रहे हैं जिससे आपको बहुत लाभ होगा।

वजन बढ़ाता है टोफू

टोफू वजन बढ़ाने का एक ऐसा साधन है जिसे हर कोई सलाम करता है। डॉक्टर भी इस चीज का दावा करते हैं कि टोफू प्रोटीन का सबसे अच्छा स्त्रोते है। कैल्शियम और प्रोटीन से भरपूर सोया पनीर बढ़ते बच्चों से लेकर गर्भवती महिलाओं और बुजुर्गों तक के लिए बहुत फायदेमंद होता है। टोफू शरीर में कैल्शियम और प्रोटीन के स्तर को संतुलित रखता है। जो लोग जिम करते हैं या फिर अधिक वर्कआउट करते हैं उन्हें टोफू खाने की सलाह दी जाती है। नियमित टोफू का सेवन करने वाले लोगों में मांसाहार का सेवन करने वालों की तुलना से जल्दी वजन बढ़ता है। सिर्फ आधे कप टोफू से 10 ग्राम प्रोटीन होता है। यानि कि 10 ग्राम प्रोटीन में 88 कैलरी एनर्जी होती है। यह एनर्जी बिना त्वचा वाले एक मुर्गे से सिर्फ 45 कैलरी कम होती है। यानि कि अगर आप वजन बढ़ाना चाहते हैं तो टोफू का सेवन शुरू कर दें। आप चाहें तो टोफू को साबुत सेवन भी कर सकते हैं और चाहें तो इसके पकौड़े और भुजिया बना कर भी खा सकते हैं।

डॉक्टर से संपर्क करें  

अधूरा भोजन, भोजन के समय में ज्यादा अंतराल, कम भोजन का सेवन करना और उससे ज्‍यादा मेहनत करना, वजन कम होने के कारणों में से एक है। इसके अलावा अन्य कारण है लंबी बीमारी जिनमें टीबी, कैंसर, हार्मोनल असंतुलन और एनोरेक्सिया नर्वोसा जैसी बीमारियों के कारण हो सकता है। तो ऐसे में आपको डॉक्टर से संपर्क करें और उचित सलाह लें।

इसे भी पढ़ें : तेजी से वजन घटाना है तो रोजाना इस तरह पीएं 1 ग्‍लास दूध

पानी से बढ़ता है वजन

बहुत सारा पानी पीना भी बहुत ज़रूरी है क्योंकि इससे आपमें ताकत आती है जिसकी वजह से आप तरह तरह के काम कर सकते है। कम पानी पीने से आपमें निर्जलीकरण हो सकता है जिसकी वजह से आपमें कसरत करने के लिए स्टेमिना ही नहीं रहेगा।

व्यायाम भी है जरूरी 

वजन बढ़ाने के लिए व्यायाम भी उतना ही जरूरी है जितना कि आहार। इसके लिए आप पुल अप्स, स्वाट्स, डेडलिफट्स आदि व्यायाम कर सकते हैं। इन व्यायामों के मदद से हार्मोन्स की गतिविधि बढ़ती है और आपको भूख लगती है।

पुराने अनाज हैं फायदेमंद 

वजन बढ़ाने के लिए साबुत अनाज का सेवन कीजिए, साबुत अनाज में कार्बोहाइड्रेट प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। साबुत अनाज जैसे - गेहूं, ज्‍वार बाजरा, मकई, जौ, ओट, कट्टू, पास्‍ता आदि का सेवन कीजिए। साबुत अनाज में पिसे हुए अनाज की तुलना में ज्यादा कैलोरी और विटामिन होता है। साबुत अनाज को दूध के साथ भी लिया जा सकता है। यह कई बीमारियों से भी बचाता है।

इसे भी पढ़ें : चिकन-मटन नहीं, इस सस्ती डाइट से बढ़ाए 10kg तक वजन

दूध बढ़ाता है वजन

दूध और डेयरी उत्‍पादों में कैलोरी की ज्यादा मात्रा होती है। लंच और डिनर के साथ मिल्क शेक, मलाईयुक्त दूध और चॉकलेट का प्रयोग करने से शरीर को अतिरिक्त मात्रा में कैलोरी, वसा और पोषक तत्व मिलते हैं जिनसे मोटापा बढ़ता है। लंच और डिनर के बाद दही और आइसक्रीम को डेजर्ट में खाया जा सकता है। पनीर और मक्खन को आलू और अंडे के साथ मिलाकर खने से वजन बढ़ता है।

मूंगफली को करें सलाम

मूंगफली स्वस्थ आहार का बेहतर विकल्प है। इसमें ज्या‍दा मात्रा में कैलोरी और वसा पाया जाता है। लडके मूंगफली को हर प्रकार से प्रयोग कर सकते हैं। लंच और डिनर के बाद भी मूंगफली खाया जा सकता है। इसके प्रयोग से पेट तो नही भरता लेकिन शरीर को ज्यादा मात्रा में कैलोरी और वसा मिलती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Weight Gain In Hindi

Loading...
Write Comment Read ReviewDisclaimer
Is it Helpful Article?YES1351 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर