बच्चों में ब्रेन ट्यूमर के लक्षण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 29, 2013

ब्रेन ट्यूमर दिमाग में असामान्य कोशिकाओं की वृद्धि या समूह के बन जाने को कहते है। ब्रेन ट्यूमर कई प्रकार का होता है। कुछ ब्रेन ट्यूमर कैंसर रहित होते हैं, जबकि कुछ घातक यानी कैंसर युक्‍त होते हैं। ब्रेन ट्यूमर (प्राथमिक मस्तिष्क ट्यूमर) आपके दिमाग में बनना शुरू होता है और कैंसर आपके शरीर के अन्य भागों में शुरू होकर आपके मस्तिष्क (माध्यमिक, या मेटास्टिक मस्तिष्क ट्यूमर) में फैल सकता है।

ईसीजी मशीन पर लेटा हुआ बच्चाबच्चों में भी ब्रेन ट्यूमर के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। बच्चों के ब्रेन ट्यूमर से संबधित जानकारी हम आपको इस लेख के माध्‍यम से दे रहे हैं। ब्रेन ट्यूमर बहुत ही चिंताजनक रोग है और यह बच्चों में एक गंभीर समस्या है। जब ट्यूमर दिमाग में विकसित हो जाता है तो आसपास के नाजुक ऊतकों की वजह से इसका इलाज करना भी मुश्किल हो जाता है।

बच्चों में ब्रेन ट्यूमर के विकसित होने की दर वयस्कों के मुकाबले ज्‍यादा तेज देखी गई है। जब ब्रेन ट्यूमर का उपचार शुरू किया जाता है तो रोगी बच्‍चा उपचार के पहले महीने में अन्‍य दिनों के मुकाबले ज्‍यादा अस्‍वस्‍थ्‍य रहता है। यह अस्‍वस्‍थता ब्रेन ट्यूमर के लक्षण शुरू होने से और रोग के निदान तक बनी रहती है।

ब्रेन ट्यूमर के लक्षण
ब्रेन ट्यूमर के लक्षण तब दिखाई दे सकते हैं जब उसके द्वारा ली गई जगह (अवांछित कोशिकाओं की वृद्धि‍) दिमाग पर दबाव डालना शुरू करती है या ट्यूमर के क्षेत्र में कार्य करने की प्रक्रिया में बाधा उत्पन्न होने लगे। यदि शुरूआत में ही ब्रेन ट्यूमर का इलाज नहीं कराया जाता तो यह जानलेवा साबित हो सकता है। ब्रेन ट्यूमर अधिकतर 3 से 15 वर्ष की आयु में अथवा 50 वर्ष की आयु में विकसित होता है। यह रोग पुरुषों या महिलाओं किसी को भी हो सकता है। यह विशेष प्रकार के विषाणु के संक्रमण से होता है। इसके कई लक्षण हैं जैसे- सिर में दर्द, उल्‍टी आना, दौरे पड़ना, सुस्‍ती लगना, एक आंख में परेशानी, चलने में लड़खड़ाना, चेहरे पर कमजोरी, पलक का लटक जाना और बोलने में दिक्कत आदि होना।

 

बच्चों में ब्रेन ट्यूमर के लक्षण

-  सिर में दर्द ब्रेन ट्यूमर के शुरूआती लक्षण में से एक है। इसमें अकसर सुबह उठते ही तेज सिरदर्द शुरू हो जाता है जो दिन में ठीक हो जाता है। झुकने पर और व्यायाम करने पर यह सिरदर्द अधिक हो जाता है।

- ब्रेन ट्यूमर में सुनने में परेशानी होती है। कानों में हमेशा ही कुछ आवाज सुनाई देती रहती है। इसके अलावा कमजोरी, बोलने व चलने में दर्द, मांसपेशियों पर घटता नियंत्रण, दोहरा दिखाई देना और घटती चेतना (सेंसेशन) आदि भी ट्यूमर के कारण हो सकते हैं।

- उल्टी व जी मिचलाना, चक्कर आना, दृष्टि संबंधी तकलीफ, धुंधला दिखाई देना, आंखों की नस (पापिलेडेमा) में सूजन आना भी ब्रेन ट्यूमर का लक्षण है।

- दौरे पड़ना, मांसपेशियों में ऐठन महसूस होना, हाथ या पैर में फड़कन या फिर पूरे शरीर में फड़कन। ऐसे रोगी कभी-कभी बेहोश भी जो जाते हैं।

- ब्रेन ट्यूमर के रोगी की याददाश्त पर भी असर पड़ सकता है। इसके रोगी को चलने में दिक्‍कत या शरीर के एक भाग में कमजोरी महसूस होती है। बोलने में भी परेशानी होती है।

- बोलेने या किसी शब्द को समझने में कठिनाई। लिखने, पढ़ने या मामूली जोड़ घटाव में परेशानी, कुछ गतिविधियों के संचालन में परेशानी भी इसी का लक्षण है।

Loading...
Is it Helpful Article?YES3 Votes 4875 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK