ऑर्गेजम बढ़ा सकता है प्रेग्नेंसी की संभावना? जानिए सच

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 06, 2016
Quick Bites

  • ऑर्गेजम से प्रेग्नेंसी की संभावना 15 फीसदी बढ़ जाती है
  • 6 महिलाओं के ऑर्गेजम को दो महीने तक किया गया रिकॉर्ड।
  • ऑर्गेजम वाली महिलाओं में प्रेग्नेंट होने की संभावना ज्यादा दिखी।

अभी तक मेल ऑर्गेजम (पुरुष चरम प्राप्ति) को प्रजनन क्षमता से जोड़कर देखा जाता रहा है, वहीं महिलाओं में ऑर्गेजम को सुख प्रप्ति का माध्यम ही माना जाता था। लेकिन एक नए शोध से पता चला है कि महिला ऑर्गेजम भी प्रेग्नेंसी की संभावनाओं में अहम भूमिका निभाता है।

इस शोध के मुताबिक महिला ऑर्गेजम का प्रेग्नेंसी से गहरा संबंध है और ऑर्गेजम की प्राप्ति से महिलाओं में प्रजनन की संभावनाएं 15 फीसदी तक बढ़ जाती हैं। तो चलिए विस्तार से इस शोध के बारे में जानें और ये समझें कि कैसे महिला ऑर्गेजम गर्भधारण की संभावनाओं को बढ़ा सकता है।

इसे भी पढ़ें: रेड वाइन बढ़ाती है महिलाओं में प्रेग्नेंसी की संभावना

orgasm

ऑर्गेजम से बढ़ जाती है प्रेग्नेंसी की संभावना!

शोध में 26 से लेकर 52 साल तक की उम्र के 6 महिला प्रतिभागी शामिल की गईं। इन प्रतिभागियों को ऑर्गेजम का ब्यौरा रखने तथा सीमेन सिमुलेंट्स कलेक्शन डिवाइस का इस्तेमाल करने को कहा गया। परिणामों से पता चला कि वे महिलाएं जिन्हें ऑर्गेजम की प्राप्ति हुई, उनमें सीमन सिमुलेंट अधिक हुआ।

इसे भी पढ़ें: पुरुषों को क्यों भाता है महिलाओं का ऑर्गेजम

जर्नल सोशियोआफ्फेक्टिवे न्यूरोसाइंस एंड साइकोलॉजी में प्रकाशित शोध के अनुसार, "ऐसा देखा गया कि महिला ऑर्गेजम से वीर्य को धारण करने की एक प्रक्रिया जैसी होती है।"

उपरोक्त शोध के मुताबिक शोधकर्ताओं का ऐसा मत है कि ऑर्गेजम के चलते अधिक वीर्य धारण कर पाने से महिलाओं में गर्भधारण की संभावना अधिक हो जाती है।

यूनिवर्सिटी कॉलेज कॉर्क के शोधकर्ताओं ने महिलाओं में आत्म-प्रेरित ऑर्गेजम की दर को दो महीनों तक दर्ज किया था। उन्होंने निश्चित तौर पर ये पाया कि ऑर्गेजम प्राप्त करने के बाद महिलाओं में प्रेग्नेंसी की संभावनाओं में नाटकीय रूप से वृद्धि हुई। तो कम से कम ये शोध तो ये साफ करता है कि महिलाओं में ऑर्गेजम की प्राप्ति उनके मां बनने की संभावना को काफी बढ़ा देती है।

 

Image source: Pregnant Natural&Khoobsurati.com

Read More Articles on Pregnency in Hindi

 

 

Loading...
Is it Helpful Article?YES1 Vote 3784 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK