कई अद्भुत फायदों से भरपूर है ये स्‍पेशल इंडोनेशियाई बालिनी मसाज, जानें इसके फायदे और मसाज का तरीका

बालिनी मसाज एक इंडोनेशियाई मसाज थेरेपी है, जो पूरे शरीर में को शांति और आराम देने में मदद करती है। आइए यहां इस खास मसाज के कई स्वास्थ्य लाभ जानें। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Jul 24, 2020
कई अद्भुत फायदों से भरपूर है ये स्‍पेशल इंडोनेशियाई बालिनी मसाज, जानें इसके फायदे और मसाज का तरीका

विज्ञान ने कहा है कि मसाज थेरेपी आपके मन और शरीर दोनों के लिए सबसे अच्छी चिकित्सा पद्धति है। मसाज या मालिश न केवल आपके शरीर को आराम देती है, बल्कि शरीर में सेरोटोनिन हार्मोन को रिलीज करके मन को भी तनावमुक्त करती है। दुनिया भर में बहुत सी मसाज थेरेपी हैं, लेकिन यहाँ हम बालिनी मालिश के बारे में बात करेंगे। यह बालिनी मसाज कई स्पा और मसाज सेंटर में आसानी से ली जा सकती है। आइए यहां इस मसाज थेरेपी के बारे में विस्‍तार से जानें।  

बाली या बालिनी मसाज क्या है?

जैसा कि नाम से पता चलता है, इस मालिश की उत्पत्ति इंडोनेशिया बाली से हुई है। इस इंडोनेशियाई मालिश का यह प्राचीन रूप चीनी एक्यूप्रेशर और आयुर्वेद से प्रेरित है। इस मसाज थेरेपी में रक्त परिसंचरण, लसीका प्रणाली और शरीर के ऊतकों को उत्तेजित करने के लिए आवश्यक तेलों का उपयोग करके अरोमाथेरेपी, रिफ्लेक्सोलॉजी, स्ट्रेचिंग शामिल हैं।

Balinese Massage Benefits

इस मालिश तकनीक में दबाव बिंदुओं के जोरदार उत्तेजना के साथ-साथ आरामदायक कोमल स्ट्रोक शामिल हैं। यह थेरेपी पैरों से शुरू होती है और फिर वापस, हाथों और सिर तक पहुंचती हैं। इसमें विभिन्न तकनीकों के संयोजन का उपयोग करते हैं जैसे कि सौम्य स्ट्रेच, थपथपाकर, त्वचा को रोल करना, और रक्त प्रवाह, लसीका और ऊर्जा को बढ़ाने के लिए दबाव बिंदु उत्तेजना।

यह गहरी ऊतक मालिश हथेलियों का उपयोग करके की जाती है। चिकित्सक शरीर पर आवश्यक तेल लगाता है, जो शरीर में रक्त और ऑक्सीजन के प्रवाह को प्रोत्साहित करने में मदद करता है। आमतौर पर, यह मालिश फर्श के गद्दे या सोफे पर की जाती है। अरोमाथेरेपी तकनीक को शांतता को बढ़ावा देने के लिए मालिश के साथ जोड़ा जाता है और यह मांसपेशियों के नुकसान को रोकने के लिए गाँठ वाले ऊतकों को खोलता है।

 Massage Benefits

बालिनी मसाज के फायदे 

बालिनी मसाज के यहां कुछ प्रमुख स्‍वास्‍थ्‍य लाभ इस प्रकार हैं:

  • मन और शरीर को मिलाने और शांत रखने में मददगार है
  • जोड़ों के दर्द और मांसपेशियों में खिंचाव से राहत दिलाती है
  • क्षतिग्रस्त ऊतकों के नुकसान को कम करने में सहायक 
  • रक्त परिसंचरण में सुधार करती है
  • तनाव दूर करने में सहायक है
  • मूड को बेहतर बनाए 
  • क्षतिग्रस्‍त मांसपेशियों की मरम्मत में सहायक 
  • खेल के कारण लगने वाली चोटों का इलाज करती है।

हालांकि, यदि आप गर्भवती हैं या किसी बीमारी से पीड़ित हैं, तो इस बालिनी मालिश के लिए जाने से पहले अपने डॉक्‍टर से परामर्श लें। 

इसे भी पढ़ें: सिर्फ तनाव ही नहीं मांसपेशियों के दर्द को दूर करने में भी मददगार है स्‍ट्रेस बॉल, जानें इसके अन्‍य फायदे

विभिन्न प्रकार की होती है बालिनी मसाज

बाली सर्वश्रेष्ठ इंडोनेशियाई द्वीपों में से एक है, जिसने अपने स्वयं के मालिश संस्करण बनाए हैं। बालिनी मालिश उनमें से एक पारंपरिक और आधुनिक मालिश तकनीकों का एक संस्‍करण है, जो शरीर को शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्‍वस्‍थ करने में मददगार है। यह आपके तनाव के स्तर को कम करते हुए आपको आराम महसूस कराती है। यहाँ विभिन्न प्रकार के बालिनी मसाज हैं:

Balinese Massage

  • लोम्बोक मसाज 
  • सशक मसाज
  • जावानीस लूलुर (यह एक परंपरा है, जो अपनी शादी से कुछ दिन पहले दुल्हन के लिए निभाई जाती है)
  • बालिनी बोरे (यह मालिश तकनीक चावल के किसानों द्वारा दर्द को कम करने के लिए ईजाद की गई थी। इसे मसालों का पेस्ट बनाकर किया जाता है)

बालिनी मसाज में किन तेलों का होता है उपयोग?

इस मालिश उपचार को प्रभावी बनाने के लिए, इस थेरेपी में विभिन्न प्रकार के तेलों का उपयोग करते हैं।

बालिनी स्‍पेशल ऑयल : ये स्‍पेशल ऑयल हैं, जो केवल इंडोनेशिया में पाए जा सकते हैं। चम्‍पा का एसेंशियल ऑयल एक ऐसा ही विशेष तेल है।

वेजिटेबल ऑयल: नारियल का तेल, जोजोबा का तेल, तिल का तेल, थायिटियन मोनोई तेल

एसेंशियल ऑयल : गुलाब का तेल और इलंग-इलंग का तेल। 

Read More Article On Mind And Body In Hindi 

Disclaimer

Tags