क्या आपके बाल भी धोते समय बहुत टूटते हैं? जानें हेयर वॉश का सही तरीका, जिससे नहीं गिरेंगे बाल

बालों के टूटने व झड़ने की समस्या को दूर करने के लिए उनकी सफाई पर विशेष ध्यान देना होता है। बालों को सही तरह से धोने से उनकी कई परेशानियां कम होती है। 

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Jan 22, 2023 08:00 IST
क्या आपके बाल भी धोते समय बहुत टूटते हैं? जानें हेयर वॉश का सही तरीका, जिससे नहीं गिरेंगे बाल

बालों के झड़ने व टूटने के समस्या से आज हर दूसरा व्यक्ति परेशान है। लेकिन अगर आप सही तरह से बालों को धोते हैं तो मात्र इस उपाय से ही बालों को टूटने से बचा सकते हैं। वहीं बालों को गलत तरीके से धोने से वह ड्राई और कमजोर हो सकते हैं। इससे बालों के टूटने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। कई मामलों में आपके बाल डैमेज भी हो सकते हैं। बालों को धोने से पहले आप अपने बालों के टेक्‍स्‍चर के बारे में अवश्य जान लें। चलिए जानते हैं बालों को टूटने से बचाने के लिए आपको क्या उपाय अपनाने चाहिए? 

हेयर वॉश करना क्‍यों है जरूरी 

स्‍कैल्‍प पर लगने वाले तेल और अन्‍य प्रोडक्‍ट एक समय के बाद मोटी परत में बदलने लगते हैं। इस वजह से सिर के रोम छिद्र बंद हो सकते हैं। इसके कारण आपके बालों का बढ़ना रुक सकता है। इससे बचने के लिए आपको बालों को नियमित तौर पर धोना जरूरी होता है। 

इसे भी पढ़ें : झड़ते बालों (हेयर फॉल) से छुटकारा पाना है तो आज से अपनाएं ये 7 आदतें, जल्द दूर होगी समस्या   

hair fall inside

हेयर वॉश रूटीन को कैसे करें फॉलो? 

बालों को टूटने से बचाने के लिए आप हेयर वॉश रूटीन को फॉलों कर सकते हैं।   

डिटेंग्‍लिंग हेयर ब्रश (Detangling Brush) 

अन्‍य ब्रश की तुलना में डिटेंग्लिंग हेयर ब्रश में चौड़े ब्रिसल्‍स होते हैं जो बालों को तोड़े बगैर उन्‍हें आसानी से सुलझाने में मदद करते हैं।  

प्री-शैम्‍पू (Pre Shampoo) 

नेचुरल हेयर को वॉश करने से पहले प्री-शैम्‍पू करना बहुत जरूरी है। ये एक तरह से प्रोटेक्‍टर के रूप में काम करता है और बालों से बहुत अधिक मॉइश्‍चर को बाहर निकलने से रोकता है।  

हाइड्रेटिंग शैम्‍पू (Hydrating Shampoo) 

नेचुरल हेयर फॉल ड्राई हेयर कैटेगरी में आते हैं। धोने पर ये बाल और ज्‍यादा सूख सकते हैं। हाइड्रेटिंग शैम्‍पू की मदद से मॉइश्‍चर लॉस को पूरा किया जा सकता है। इसलिए हमेशा लो या नो सल्‍फेट कंटेंट वाले उत्‍पादों का ही चयन करें।  

मॉइश्‍चराइजिंग कंडीशनर (moisturizing conditioner) 

पानी से बाल हाइड्रेट हो सकते हैं, शैम्‍पू का मुख्‍य काम बालों और स्‍कैल्‍प को साफ करना है। दूसरी ओर, कंडीशनर का मुख्‍य काम बालों में मॉइश्‍चर कंटेंट को बढ़ाना है। इसलिए एलोवेरा, कोकोनट ऑयल और हनी जैसे इंग्रीडिएंट्स से भरपूर मॉइश्‍चराजिंग प्रोडक्ट का ही चुनाव करना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें : सारी कोशिशों के बावजूद बालों का झड़ना नहीं हुआ बंद? फॉलो करें ये आसान टिप्स और रोकें बालों का झड़ना

डीप कंडीशनिंग मास्‍क (Deep conditioning mask)

बालों को डीप कंडीशनिंग हर हफ्ते करने की जरूरत नहीं है, इसे दो सप्‍ताह में कम से कम एक बार किया जा सकता है। ऐसा करना तब ज्‍यादा जरूरी होता है जब नेचुरल हेयर को कलर किया गया हो। इसके लिए शिया बटर और ऑलिव ऑयल युक्त प्रोडक्‍ट का इस्‍तेमाल करना चाहिए, इससे बालों को पोषण मिलता है और मॉइश्‍चर भी बढ़ता है। 

नियमित हेयर वॉश न करने के नुकसान 

हेयर वॉश रूटीन फॉलो न करने से माइक्रोफौना जैसे बैक्‍टीरिया और फंगी को पोषण स्रोत मिलने लगता है, जिससे बाद में स्‍कैल्‍प पर डैंड्रफ को बढ़ावा मिलता है। इसके अलावा, विभिन्‍न प्रोडक्‍ट्स से निकलने वाले अवशेष भी स्‍कैल्‍प पर जमने लगते हैं। इस वजह से बाल सूखे और कमजोर होने लगते हैं। जब आपकी स्‍कैल्‍प पर हेयर प्रोडक्ट के अवेशषों की परत जम जाती है तो बालों की जड़ों तक नमी बहुत कम मात्रा में पहुंच पाती है। अत्‍यधिक मोटी परत सबसे पहले आपके बालों को सूखा करने लगती है।

 
Disclaimer