सूजन कम करने के लिए इन 6 तरीकों से करें हल्दी का प्रयोग, जानें एक दिन में कितनी मात्रा में ले सकते हैं हल्दी

हल्दी के इस्तेमाल से शरीर में सूजन को दूर किया जा सकता है। चलिए जानते हैं सूजन को कम करने के लिए कैसे और कितनी मात्रा में इस्तेमाल करें हल्दी

 
Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Oct 12, 2021
सूजन कम करने के लिए इन 6 तरीकों से करें हल्दी का प्रयोग, जानें एक दिन में कितनी मात्रा में ले सकते हैं हल्दी

हल्दी का इस्तेमाल कई भारतीय व्यंजनों में प्रमुख रूप से किया जाता है। इसके साथ ही हल्दी में कई ऐसे गुण मौजूद होते हैं, हमारे शरीर की कई बीमारियों को दूर करने में असरकारी साबित हो सकते हैं। खासतौर पर हल्दी के इस्तेमाल से सूजन की परेशानी को दूर किया जा सकता है। सिरसा के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर श्रेय शर्मा बताते हैं कि हल्दी में करक्यूमिन नामक यौगिक मौजूद होता है, जो एक सूजन का अवरोधक माना (Does turmeric really reduce inflammation) जाता है. ऐसे में आप शरीर में होने वाले सूजन को कम कर सकते हैं। हल्दी न सिर्फ ज्वॉइंट्स में होने वाले सूजन, बल्कि शरीर के अलग-अलग अंगों के सूजन को दूर करने में असरकारी माना जाता है। इसके अलावा यह मानव स्वास्थ्य से जुड़ी कई परेशानी को कंट्रोल कर सकता है। 

NCBI पर छपी रिपोर्ट के मुताबिक, हल्दी में मौजूद करक्यूमिन (Curcumin) में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory)  का गुण मौजूद होता है, जो शरीर में होने वाले सूजन को कम करता है। साथ ही इस यौगिक से कई तरह की परेशानी जैसे- अर्थराइटिस, मेटाबॉलिज्म सिंड्रोम, कोलेस्ट्रॉल लेवल और स्ट्रेस को कम करने में मददगार होता है। आज हम इस लेख में जानेंगे कि सूजन को कम करने के लिए हल्दी का इस्तेमाल किन तरीकों से किया जाता है? 

सूजन को कम करने के लिए हल्दी का कैसे करें इस्तेमाल (how to take turmeric for inflammation)

सूजन को कम करने के लिए आप हल्दी का सेवन सीधे तौर पर नहीं कर सकते हैं। इसका इसेवन आपको किसी अन्य सामाग्री जैसे- खाने या फिर अन्य चीजों के साथ मिलाकर करना होता है। दरअसल, शरीर को हल्दी अवशोषित करने में कठिनाई होती है। ऐसी स्थिति में आपको हल्दी का इस्तेमाल किसी न किसी चीजे के साथ करना होता है। आइए जानते हैं कैसे करें हल्दी का इस्तेमाल?

1.  काली मिर्च, ऑलिव ऑयल और हल्दी का लेप 

अर्थराइटिस की समस्या से ग्रसित लोगों के हाथ-पैरों और ज्वाइंट्स में लगातार सूजन की परेशानी बनी रहती है।  ऐसे में हल्दी का लेप अर्थराइटिस मरीजों के लिए अच्छा होता है। हल्दाी का लेप तैयार करने के लिए 1 चम्मच हल्दी पाउडर लें। इसमें 1 चुटकी काली मिर्च और ऑलिव ऑयल डालें। ध्यान रखें कि इसमें आपको हल्दी इतनी मात्रा में डालती हैं, जितनी मात्रा में यह एक गाढ़ा लेप बनकर तैयार हो जाए। अब इस लेप को अपने प्रभावित हिस्से पर लगाएं। इससे शरीर के सूजन को कम किया जा सकता है।  

इसे भी पढ़ें - हाथों की सूजन को दूर करने के लिए अपनाएं ये 8 घरेलू उपाय

2. हल्दी और दूध 

आंतरिक रूप से शरीर में होने वाले सूजन को कम करने के लिए आप हल्दी वाला दूध पी सकते हैँ। हल्दी वाला दूध पीने से न सिर्फ शरीर की सूजन को कम किया जा सकता है। बल्कि इससे स्ट्रेस भी कम होता है। साथ ही यह आपके दिमाग को शांत करके गहरी नींद लाने में मददगार हो सकती है। 

3. सूप के रूप में 

शरीर में सूजन को कम करने के लिए आप हल्दी का सेवन सूप के रूप में भी कर सकते हैं। सूप तैयार करने के लिए कच्ची हल्दी  का इस्तेमाल सबसे बेहतर हो  सकता है। इसके लिए आप किसी भी वेजीटेबल या फ्रूट सूप में 1 टुकड़ा कच्ची हल्दी का डाल दें। इससे आपको काफी फायदा हो सकता है।  

4. हल्दी की चाय  

खाने-पीने की चीजों के अलावा आप हल्दी के चाय का भी सेवन कर सकते है। यह अर्थराइटिस मरीजों के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। हल्दी की चाय को तैयार करने के लिए 1 पैन में 2 कप पानी डालकर इस उबालें। अब इसमें 2 चुटकी हल्दी, 1 चुटकी काली मिर्च डालें और करीब 15 मिनट तक उबालें। जब पानी आधा रह जाए, तो इसे छानकर अपने स्वादानुसार नींबू या शहद मिक्स करके पी जाएं। इससे शरीर की सूजन को कम किया जा सकता है।

5. सोंठ के साथ हल्दी 

सूजन से आराम पाने के लिए सोंठ के साथ हल्दी का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए हल्दी, पाठा, सोंठ, पिप्पली, छोटी कटेरी, चित्रकमूल, जीरा पाउडर और मोथा को बराबर मात्रा में मिलाकर चूर्ण तैयार कर लें। तैयार चूर्ण का नियमित रूप से 2-2 ग्राम गुनगुने पानी के साथ सेवन करें। इससे शरीर का सूजन कम हो सकता है। 

6. हल्दी और पानी

अगर आपको कहीं चोट लगी है, तो इस स्थिति में तत्काल रूप से हल्दी का इस्तेमाल करने के लिए 1 चम्मच हल्दी पाउडर में पानी की कुछ बूंदे मिक्स करके इसका लेप बना लें। अब इस लेप को अपने प्रभावित हिस्से पर लगाएं। इससे सूजन तुरंत कम हो सकेगा। 

इसे भी पढ़ें - गठिया के कारण सूजन से हैं परेशान तो आजमाएं ये 6 घरेलू उपचार

सूजन को कम करने के लिए कितनी मात्रा में ले हल्दी (how much turmeric per day) 

NCBI पर छपी रिपोर्ट के मुताबिक, एक स्वस्थ व्यक्ति पूरे दिन में करक्यूमिन 0.3 मिलीग्राम प्रति किलोग्राम शरीर का वजन के हिसाब से ले सकता है। करक्यूमिन से शरीर को कई फायदे हो सकते हैं। वहीं, कुछ अध्ययनों में गठिया रोगियों को प्रतिदिन 1 ग्राम करक्यूमिन यानि आधा चम्मच हल्दी लेने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा ऑस्टियोआर्थराइटिस (osteoarthritis) से ग्रसित मरीजों को पूरे दिन में दो बार 500 mg हल्दी  पूरक के रूप में और 4 बार किसी खाद्य पदार्थों के साथ लेना चाहिए। वहीं, रूमेटाइड गठिया (Rheumatoid Arthritis) से ग्रसित मरीजों को दिन में दो बार करक्यूमिन (Curcumin) के अर्क का सेवन करना चाहिए। लेकिन ध्यान रखें कि आपको कभी भी 2,000 मिली ग्राम से अधिक करम्यूमिन का सेवन नहीं करना है, इससे आपके शरीर में कई तरह की परेशानी हो सकती है। जैसे- डायरिया, कब्ज, नजला इत्यादि।  

करक्यूमिन साइड-इफेक्ट्स  (Side effects of Curcumin)

एनसीबीआई पर छपी रिपोर्ट के मुताबिक, अगर आप लगातार कई महीनों तक 2000 मिलीग्राम से अधिक हल्दी का सेवन करते हैं, तो आपको कई तरह की परेशानी हो सकती है। खासतौर पर पेट से जुड़ी परेशानी जैसे- पेट में जलन, डायरिया, सूजन इत्यादि। दरसल, हल्दी की तासीर गर्म होती है, जिसके कारण आपको पेट से जुड़ी परेशानी हो सकती है। वहीं, कुछ स्थितियों में उल्टी और दस्त की भी शिकायत हो सकती है। इसलिए अधिक मात्रा में हल्दी का सेवन न करेँ।  

ध्यान रखें कि हल्दी स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है, लेकिन इसका सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए। इसके अलावा अगर आपको किसी तरह की परेशानी है, तो डॉक्टर की सलाह पर ही हल्दी का इस्तेमाल करें। जरूरत से ज्यादा खाने में हल्दी का इस्तेमाल न करें। अगर आपके शरीर में सूजन की शिकायत है, तो हल्दी का सप्लीमेंट लेने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

 

 
Disclaimer