माता-पिता कैसे चुनें बच्चों के लिए सही स्कूल और सही सबजेक्ट्स? जानें जरूरी बातें

नए स्कूल में बच्चे का एडमिशन करवाना हो या बच्चा नई क्लास में जा रहा हो, हर बार मां-बाप बच्चों को लेकर परेशान होते हैं। सही स्कूल का चुनाव, सही सबजेक्ट्स का चुनाव और सही करियर का चुनाव बच्चों के साथ-साथ मां-बाप को भी परेशान करता है। हर मां-बाप चाहत

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Jan 17, 2019 00:00 IST
माता-पिता कैसे चुनें बच्चों के लिए सही स्कूल और सही सबजेक्ट्स? जानें जरूरी बातें

नए स्कूल में बच्चे का एडमिशन करवाना हो या बच्चा नई क्लास में जा रहा हो, हर बार मां-बाप बच्चों को लेकर परेशान होते हैं। सही स्कूल का चुनाव, सही सबजेक्ट्स का चुनाव और सही करियर का चुनाव बच्चों के साथ-साथ मां-बाप को भी परेशान करता है। हर मां-बाप चाहते हैं कि उनका बच्चा अच्छे से अच्छे स्कूल में जाए और ऐसे सबजेक्ट्स या कोर्स चुने, जिससे उसका करियर अच्छा हो। अगर आप भी अपने बच्चे की पढ़ाई और करियर से जुड़ी इन समस्याओं को लेकर परेशान हैं, तो आइए हम आपको बताते हैं कुछ बातें, जो इस परेशानी से निकलने में आपकी मदद करेंगी।

स्कूल चुनते समय रखें इन बातों का ध्यान

  • अगर आपका बच्चा छोटा है तो सबसे पहले घर से स्कूल की दूरी देखें।
  • थोड़े बड़े बच्चों के लिए स्कूल का चुनाव करते समय स्कूल की प्रतिष्ठा और पढ़ाई के तरीकों को भी ध्यान में रखें।
  • अपने आसपास के लोगों, रिश्तेदारों और इंटरनेट के माध्यम से लोगों के रिव्यू जरूर पढ़ लें।
  • आजकल नौकरियों में मांग के मुताबिक बच्चों को शुरुआत से अंग्रेजी की जानकारी जरूरी है। इसलिए अगर आप बच्चे की पढ़ाई किसी और माध्यम से भी करवा रहे हैं फिर भी उसकी अंग्रजी और तकनीकी विषयों पर मजबूती पर ध्यान दें।
  • स्कूल में होने वाली एक्सट्रा कर्रिकुलर एक्टिविटीज का भी ध्यान दें ताकि आपके बच्चे को पढ़ाई के साथ-साथ अपने अंदर छिपी प्रतिभा को पहचानने और समझने का मौका मिले।

कैसे चुनें बच्चे के लिए सही विषय

किसी भी बच्चे की पढ़ाई के लिए सबसे अच्छे विषय वो होते हैं, जिनमें बच्चे की रूचि होती है। जिस विषय में बच्चे की रूचि होगी, उसमें पढ़ाई के लिए बच्चे पर न तो आपको दबाव बनाना पड़ेगा और न ही उसे परेशानी आएगी। कई बार बच्चे की रुचि माता-पिता की रूचि से मेल नहीं खाती है। ऐसे में अक्सर बच्चा कुछ और चुनना चाहता है मगर माता-पिता उस पर कुछ और चुनने का दबाव बनाते हैं।

ऐसी स्थिति में ज्यादातर बच्चे दोनों ही तरह के फैसलों पर खरे नहीं उतर पाते हैं और ज्यादातर उन्हें असफलता हाथ लगती है। हर बच्चे में एक नैसर्गिक प्रतिभा छिपी होती है, जो उसे बचपन से ही उस क्षेत्र में प्रेरित करती रहती है। अगर आप बचपन से ध्यान दें, तो आप उस प्रतिभा का पता लगा सकते हैं और वही आपके बच्चे के लिए सबसे अच्छा कैरियर ऑप्शन हो सकता है। इसलिए कभी भी बच्चे पर बहुत ज्यादा दबाव न बनाएं।

करियर के विकल्पों के बारे में खुद भी जानें

पेरेंट्स की यह जिम्मेदारी बनती है कि वे खुद भी करियर के विभिन्न विकल्पों के प्रति जागरूक बनें। अपने बच्चे का रिज़ल्ट और उसका रुझान देखते हुए उसे सही दिशा में आगे बढऩे के लिए प्रेरित करें। बच्चे से पूछें कि भविष्य में वो क्या बनना चाहता है और इसी आधार पर उसे कैरियर चुनने के लिए प्रेरित करें। अगर बच्चे को दो या दो से ज्यादा चीजों में रूचि है, तो उसे समझाएं कि किसी एक को वो मुख्य विषय या मुख्य करियर के रूप में चुने जबकि अन्य चीजों को अपने शौक या एक्स्ट्रा क्वालिटीज के रूप में सीखता रहे या पढ़ता रहे। इसके बावजूद अगर उसके मन में कोई दुविधा हो तो किसी करियर काउंसलर से अपने बच्चे का एप्टीट्यूड टेस्ट कराएं।

इसे भी पढ़ें:- आखिर क्यों कुछ बच्चे देर से बोलते हैं या हकलाते हैं, जानें कारण और इलाज

करियर को लेकर क्यों भ्रमित रहते हैं बच्चे

उम्र के इस दौर में कुछ बच्चे करियर के चुनाव को लेकर बहुत दुविधाग्रस्त रहते हैं। उनकी पसंद और रुचियां अकसर बदलती रहती हैं। किसी एक प्रोफेशनल कोर्स में एडमिशन लेने के कुछ ही महीने बाद वे वहां जाने से मना करने लगते हैं। इससे पेरेंट्स उनके भविष्य को लेकर बहुत चिंतित रहते हैं।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Tips For Parents In Hindi

Disclaimer