डायबिटीज में वजन घटाने के लिए ऐसी रखें अपनी डाइट और एक्‍सरसाइज

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 08, 2018
Quick Bites

  • मधुमेह में मोटापा खतरनाक हो सकता है।
  • नियमित व्यायाम और वॉक से इसे घटायें।
  • आहारों में परिवर्तन करना भी होता है जरूरी।

मोटापा सभी के लिए नुकसानदायक होता है हो सकता है। । लेकिन डायबिटीज़ के मरीज़ के लिए मोटापे से बचना और भी आवश्यक हो जाता है मधुमेह पीडि़त की सबसे बड़ी चिंता यही रहती है कि आखिर कैसे घटाएं वजन। आमतौर पर आहार परिवर्तन और व्यायाम से मोटापा घटाना आसान होता है।  हर व्यक्ति की कद-काठी, वजन, आकार इत्यादि अलग होते हैं इसीलिए मधुमेह पीडि़तों को अपने वजन और मोटापे के हिसाब से ही आहार परिवर्तन करना चाहिए। आइए जानें कैसे बचे मधुमेह रोगी मोटापे से।

ऐसे करें वजन निंयत्रण

  • मधुमेह रोगियों को मोटापा घटाने के लिए कैलोरीज की मात्रा कम करने की सलाह दी जाती है, लेकिन इसका ये अर्थ नहीं कि कैलोरीज की मात्रा एकदम से ही कम कर दी जाएं।
  • ऐसे में कैलोरीज़ व पोषक तत्वों के सेवन को धीरे-धीरे कम करना बेहतर होता है।
  • मधुमेह रोगी को व्यायाम और आहार परिवर्तन दोनों करना आवश्यक है।
  • मधुमेह पीडि़तों को व्यायाम करना चाहिए और  व्यायाम से पहले डॉक्टधर की सलाह ज़रूर लेनी चाहिए।
  • वजन घटाने के लिए, आप अपनी आहार तालिका किसी डाइटिशियन या डॉक्टर से भी बनवा सकते हैं।
  • वजन घटाने के लिए कम से कम 40-45 मिनट टहलना जरूरी है।
  • एक बार में बहुत सारा खाना खाने की बजाय धीरे-धीरे व थोड़ा-थोड़ा खाना चाहिए।
  • गुड, शक्कर, शहद, मिठाइयाँ, मेवे इत्यादि से परहेज करना जरूरी है।
  • खाना समय पर और रात को सोने से एक घंटा पहले ज़रूर खायें और रात के खाने के बाद टहलें ज़रूर।
  • भोजन में रेशेदार पदार्थों को शामिल करें । इससे रक्त में ग्लूकोज का स्तर धीरे-धीरे बढ़ता है और रक्त ग्लूकोज की मात्रा नियंत्रित रहती है।

तनाव से बचें

मधुमेह रोग में तनाव की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है तनाव से बचने की पूरी कोशिश करें l स्ट्रेस या  तनाव के कारणों को आपसी बात चीत से हल करें, योगा, प्राणायाम,ध्यान  तथा सुबह शाम घूमने से स्ट्रेस कंट्रोल करने में सहायता मिलती  है l

इसे भी पढ़ें: डायबिटिक एक्‍सरसाइज़ में इन 4 तरीकों से करें पैरों की देखभाल

मधुमेह के प्रारंभिक लक्षण

प्यासज्यादा लगना, पेशाब ज्यादा होना, भूख ज्यादा लगना, जननेन्द्रियों में खुजली के अलावा शरीर के किसी भी अंग में हुए घावों का देर से भरना ही इसके प्रारंभिक लक्षण हैं। यह बीमारी अनुवांशिक भी होती है। डायबिटीज की बीमारी दो प्रकार की होती है टाइप वन टाइप टू। टाइप वन बच्चों को भी हो सकता है। टाइप वन के उपचार के लिए अभी तक केवल इंसुलिन ही है। हालांकि मधुमेह का इलाज केवल दवाईयों से ही नहीं, बल्कि व्यायाम, सही खान-पान के नियमों का पालन कर भी किया जा सकता है ।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read more Article on Diabetes in hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES32 Votes 18201 Views 1 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK