स्‍पाइसी खाने के बाद दूध पीना हो सकता है नुकसानदेह

ऐसा माना जाता है कि मसालेदार खाने के तुरंत बाद दूध का सेवन बिल‍कुल भी नहीं करना चाहिए, इस लेख में हम बताते हैं आखिर इसके पीछे क्‍या कारण हैं।

Aditi Singh
स्वस्थ आहारWritten by: Aditi Singh Published at: Oct 09, 2015
स्‍पाइसी खाने के बाद दूध पीना हो सकता है नुकसानदेह

कई लोगों को मसालेदार खाना खाने का शौक होता है। मसालेदार खाना स्वाद के लिए भले ही कितना भी अच्छा क्यों ना हो ये सेहत को नुकसान पहुंचाता है। ज्यादा मसालेदार खाने से पेट में एसिड की मात्रा बढ़ जाती है जिससे अल्सर हो सकता है। कुछ लोग तेल मसालेदार खाना खाने के बाद ठंडे दूध का सेवन करना भी पंसद करते है। अगर आपको भी यही आदत है तो संभल जाइयें। क्योंकि ये आपकी पाचन क्रिया को प्रभावित कर सकती है।

मसालेदार खाने के बाद दूध

मसालेदार खाने के तुरंत बाद दूध पीते हैं तो आपकी पाचन क्रिया इससे प्रभावित हो सकती है।दरअसल, दूध पाचन संबंधी एंजाइम्स को पतला कर देता है जिससे कि पाचन क्रिया धीमी पड़ जाती है।ऐसे में खुद दूध का प्रोटीन भी पच नहीं पाता जिससे कि अपच की समस्या हो सकती है।मसालेदार खाना न सिर्फ शरीर में एसिड का निर्माण बढ़ाता है बल्कि पेट की आंतों में भी जलन होने लगती है। और जब इसी मसालेदार खाने के बाद दूध पिया जाता है तो ये समस्या और बढ़ जाती है। यहां तक कि खाने के बाद 15-20 मिनट तक तो आपको पानी तक नहीं पीना चाहिए। इससे भी पाचन क्रिया धीमी हो जाती है।आप खाने के आख़िर में दही या फिर कर्ड राइस भी खा सकते हैं, ये एक प्रोबायोटिक की तरह काम करता है जो पाचन क्रिया में सहायक होता है।


मसालेदार खाने के नुकसान

मसालेदार खाने से भूख समाप्त हो जाती है, बुखार भी हो सकता है, मसूढ़ों में सूजन और नाक से खून भी निकल सकता है। मिर्च और मसाला गर्भवती महिलाओं और बवासीर के रोगियों को तो बिल्कुल नहीं खाना चाहिए। इस तरह के खाने सिर्फ पेट में अम्लों के स्त्राव को बढ़ा सकते हैं जो पहले से ही मौजूद घावों में जलन पैदा करता है और उनके भराव की प्रकिया को धीमा कर देता है।ज्यादा मसालेदार खाना या मिर्च युक्त खाना भी रात के समय शरीर में पित्त बढ़ाने का काम करता है।


अगर आप दूध पीना चाहते हैं तो मसालेदार भारी खाने के कम से कम 30 मिनट बाद पियें। ऐसा करने से शरीर में एसिड निर्माण कम होता और पाचन बढ़ेगा।

 

Image Source-Getty

Read More Article On Healthy Eating in Hindi

Disclaimer