देश के 209 जिलों में लोग पी रहे हैं गंदा पानी, जानें इससे किन बीमारियों का बढ़ता है खतरा

संसद में जल शक्ति मंत्रालय द्वारा पेश किए गए दस्तावेजों के मुताबिक, भारत में आज भी 80 फीसदी से ज्यादा आबादी को ग्राउंड वाटर से ही पानी मिलता है। 

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Aug 05, 2022Updated at: Aug 05, 2022
देश के 209 जिलों में लोग पी रहे हैं गंदा पानी, जानें इससे किन बीमारियों का बढ़ता है खतरा

हर इंसान को जिंदा रहने के लिए पानी की जरूरत होती है। किसी महान व्यक्ति ने भी कहा है जल ही जीवन है। हमारा शरीर भी लगभग 70 फीसदी पानी से बना हुआ है। दिल, दिमाग, हड्डियों के विकास, खून बनाने के लिए शरीर को पानी की जरूरत होती है। एक इंसान पूरा दिन बिना खाने के रह सकता है, लेकिन बिना पानी दिन काटना मुश्किल है। लेकिन हम जो पानी पी रहे हैं क्या वो वाकई हमारे लिए अमृत है? वर्तमान में भारत के लोग जो पानी पी रहे हैं वो जहर बन चुका है। पानी के जहर बनने की बात खुद केंद्र सरकार ने स्वीकार की है। संसद के मॉनसून सत्र में राज्यसभा में केंद्र सरकार द्वारा पेश किए गए आंकड़ों के अनुसार देश में ग्राउंड वाटर में जहरीली धातुओं की मात्रा तय मानक से ज्यादा पाई गई है।

संसद में जल शक्ति मंत्रालय द्वारा पेश किए गए दस्तावेजों के मुताबिक, भारत में आज भी 80 फीसदी से ज्यादा आबादी को ग्राउंड वाटर से ही पानी मिलता है। लिहाजा ग्राउंड वाटर में खतरनाक धातुओं का मिलना इस बात का संकेत है कि पानी अब जहर बन चुका है और पीने लायक नहीं बचा है। इसमें ये भी कहा गया है कि भारत की आधी आबादी आज भी गांव में रहती है। ग्रामीण भारत के लोग आज भी पानी पीने के लिए हैंडपंप, कुआं और नदी का इस्तेमाल करते हैं। यहां पानी को साफ करने के लिए कोई उपकरण भी मौजूद नहीं है। लिहाजा, ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोग जहरीला पानी पीने को मजबूर हैं।

side effect of dirty water

केंद्र सरकार ने अपने बयान में ये भी कहा है कि सिर्फ ग्रामीण ही नहीं बल्कि रिहायशी इलाकों में भी पानी प्रदूषित हो चुका है। इसमें फ्लोराइड, आर्सेनिक, आयरन, खारा पानी और भारी धातु मौजूद हैं। केंद्र सरकार की इस रिपोर्ट के बाद गंदे पानी से होने वाली बीमारियों के बारे में जानना बहुत जरूरी हो गया है।

गंदा पानी पीने से होती हैं ये बीमारियां

दस्त (Diarrhea)

जब भी आप कुछ खाते या पीते हैं, तो ये सीधा पेट में जाता है। पेट में किसी भी चीज के जाने का असर पाचन क्रिया, खून और दिमाग पर पड़ता है। गंदा पानी पीने से पाचन क्रिया प्रभावित होती है। जिसकी वजह से उल्टी, दस्त और पेट संबंधित अन्य समस्याएं हो सकती हैं।

डिहाइड्रेशन (Dehydration)

गर्मी, सर्दी और बारिश के मौसम में भी शरीर को हाइड्रेटेड रखने के लिए पानी पीने की सलाह दी जाती है। लेकिन दूषित पानी पीने से डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है। गंदे पानी में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जिसका सेवन करने से गला बार-बार सूखता है और प्यास बढ़ती है। इस स्थिति में चक्कर आना, बेहोशी और कई सारी समस्याएं जन्म लेती हैं।

किडनी की समस्या

पानी में कैडमियम की मात्रा ज्यादा होने से किडनी संबंधित बीमारियों का खतरा ज्यादा रहता है। कैडमियम एक हार्ड तत्व है, जब किसी बीमारी से संक्रमित व्यक्ति कैडमियम युक्त पानी पाती है, तो इससे किडनी स्टोन के आसार बढ़ जाते हैं। दिन में पेट रोग के 10 मरीज पहुंच रहे हैं तो इनमें से दो-तीन मरीज पथरी के होते हैं।

 

Disclaimer