पुरुषों और महिलाओं को हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी की जरूरत कब पड़ती है? जानें इस थेरेपी के फायदे-नुकसान

महिलाओं और पुरुषों के शरीर में कम हार्मोन्स बनने पर कई समस्याएं शुरू हो जाती हैं। इन्हें बैलेंस करने के लिए हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी दी जाती है।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Mar 01, 2021Updated at: Mar 01, 2021
पुरुषों और महिलाओं को हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी की जरूरत कब पड़ती है? जानें इस थेरेपी के फायदे-नुकसान

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (Hormone Replacement Therapy) शरीर में हार्मोंस को बैलेंस रखने के लिए की जाती है। शरीर में बनने वाले हार्मोन्स की कमी से कई तरह की समस्याएं सामने आती हैं जिनसे निपटने के लिए हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी यानि कि एचआरटी (HRT) की सलाह चिकित्सक देते हैं। यह थेरेपी पुरुष और महिला दोनों को दी जाती है। महिलाओं में मेनोपॉज के दौरान हॉर्मोन की कमी होने लगती है जिसकी वजह से शरीर में कई दिक्कतें पैदा होती हैं। इसी तरह पुरुषों में भी एंड्रोपॉज के समय ऐसी दिक्कतें पैदा होती हैं, जब शरीर में प्राकृतिक हॉर्मोन का निर्माण कम हो जाता है। यह थेरेपी महिलाओं में पोस्टमेनोपॉज़ल फ्रैक्चर को कम करने के लिए भी की जाती है। इस थेरेपी के कई फायदे और नुकसान भी हैं जिसको लेकर हमने बात की एम्स दिल्ली के इंटरनल मेडिसिन विभाग के प्रोफ़ेसर डॉ अनिमेष राय से, आइये जानते हैं हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी को लेकर उन्होंने क्या जानकारियां दी। इसके पहले जानें महिलाओं और पुरुषों में मेनोपॉज और एंड्रोपॉज के लक्षण।

महिलाओं में मेनोपॉज के लक्षण (Menopause Symptoms in Women)

महिलाओं में मेनोपॉज के ये लक्षण हो सकते हैं

  • वजाइना में दिक्कतें
  • योनि और मूत्राशय में संक्रमण
  • सोते वक्त गर्मी और अधिक पसीना
  • नींद में दिक्कतें
  • मूड स्विंग और मेमोरी लॉस
  • सेक्शुअल ड्राइव में कमी
  • धड़कन का अचानक बढ़ जाना
  • बालों का झड़ना या असामान्य बालों का उगना
  • आंखों में सूखापन और खुजली
 hormone replacement therapy

पुरुषों में एंड्रोपॉज के लक्षण (Symptoms of Andropause in Men)

पुरुषों में एंड्रोपॉज जिसे मेल मेनोपॉज भी कहा जाता है कई तरह की दिक्कतें पैदा करते हैं। इसकी वजह से शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की दिक्कतें सामने आ सकती हैं। एंड्रोपॉज के प्रमुख लक्षण इस प्रकार से हैं।

  • स्तनों के आकर में परिवर्तन
  • बोन डेंसिटी की कमी
  • नपुंसकता
  • सेक्शुअल लाइफ की दिक्कतें
  • बांझपन
  • चिंता और उदासी
  • शरीर में एनर्जी की कमी
  • आत्मविश्वास का कम होना
  • अनिद्रा
  • फैट का बढ़ना
  • मांसपेशियों की कमजोरी

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के प्रकार (Hormone Replacement Therapy Types)

महिलाओं में हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी मुख्य रूप से एस्ट्रोजन के निर्माण के लिए की जाती है। यह महिलाओं के शरीर में पाया जाने वाला मुख्य हार्मोन है, जिसका निर्माण मेनोपॉज के बाद कम हो जाता है या बंद हो जाता है। हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (HRT) महिलाओं में मेनोपॉज के बाद एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर को संतुलित करने के लिए की जाती है वहीं पुरुषों को यह थेरेपी एंड्रोपॉज के बाद टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन के संतुलन को बरकरार रखने के लिए दी जाती है। महिलाओं में एस्ट्रोजन थेरेपी दो प्रकार से होती है।

  • सिस्टेमेटिक हार्मोन थेरेपी (Systemic hormone therapy)
  • लो डोज हर्मोन थेरेपी (Low-dose vaginal products)

पुरुषों के लिए हर्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी तीन तरह की होती है। टेस्टोस्टेरॉन के माध्यम से पुरुषों में तीन तरह की हार्मोन थेरेपी की जाती है।

  • इंट्रामस्क्युलर टेस्टोस्टेरोन इंजेक्शन (Intramuscular Testosterone Injections)
  • टेस्टोस्टेरोन पैच (Testosterone Patches)
  • टेस्टोस्टेरोन जेल (Topical Testosterone Gel)
hormone replacement therapy uses

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी में कई तरीके से दवाइयां दी जाती हैं। लोगों की जरूरत और स्थिति के हिसाब से चिकित्सक हर्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी करते हैं। ये दवाएं मुख्यतः इन रूप में आती हैं।

  • नेसल स्प्रे (Nasal Spray)
  • खाने वाली दवाएं (Pills or Tablets)
  • स्किन जेल (Skin Gel)
  • स्किन पैच (Skin Patches)
  • वजाइनल क्रीम (Vaginal Creams)
  • वजाइनल रिंग (Vaginal Suppositories)

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के फायदे (Hormone Replacement Therapy Uses)

benefits of hormone replacement therapy

पुरुषों को टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के फायदे

टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट थेरेपी पुरुषों में एंड्रोपॉज के दौरान की जाती है। यह थेरेपी पुरुषों के शरीर में टेस्टोस्टेरॉन के स्तर को संतुलित रखने में मदद करता है। इस थेरेपी के बाद शरीर में हार्मोन की कमी से होने वाली दिक्कतें जैसे अनावश्यक थकान और सेक्शुअल इच्छा में कमी आदि समस्याओं से राहत मिलती है। इस थेरेपी के प्रमुख लाभ इस प्रकार हैं

  • सेक्शुअल लाइफ सही करना
  • बोन डेंसिटी में सुधार
  • दाढ़ी और मूछों के बाल बढ़ाने में कामयाब
  • शरीर में लाल रक्त कोशिका का उत्पादन
  • मांसपेशियों को मजबूत करना

महिलाओं को हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के लाभ

  • वजाइना से जुड़ी समस्याओं का निदान
  • अधिक पसीने से राहत
  • नींद अच्छी आने में मददगार
  • सेक्शुअल लाइफ को सही करना
  • ऑस्टियोपोरोसिस से बचाव में सहयोगी
  • हृदय रोग से बचाव

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी से होने वाले नुकसान (Side Effects of Hormone Replacement Therapy)

पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन थेरेपी के नुकसान (Side Effects of Testosterone Therapy)

पुरुषों में भी एंड्रोपॉज के समय ऐसी दिक्कतें पैदा होती हैं जब शरीर में प्राकृतिक हॉर्मोन का निर्माण कम हो जाता है तो ऐसे में चिकित्सक हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का विकल्प देता है। इस थेरेपी के कुछ नुकसान भी हैं, आइये जानते हैं इनके बारे में।

  • फ्लूइड रिटेंशन (शरीर में पानी जमा होना)
  • मुहांसे होना
  • पेशाब में वृद्धि
  • स्तनों का आकार बढ़ जाना
  • अंडकोष के साइज़ में बदलाव
  • कोलेस्ट्रॉल के स्तर में वृद्धि
  • शुक्राणुओं की संख्या में कमी
  • बांझपन
  • लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि

महिलाओं में हार्मोन थेरेपी के नुकसान

  • मुँहासे
  • बांझपन
  • आवाज में बदलाव
  • चेहरे पर अनावश्यक बालों का उगना
  • दिल की बीमारी
  • स्तन कैंसर

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी से बचने के विकल्प (Alternatives to HRT)

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी लेने में असमर्थ होने पर या मेनोपॉज और एंड्रोपॉज से होने वाली दिक्कतों से बचने के लिए आपको अपनी जीवनशैली में बदलाव करना पड़ेगा। हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का यूं तो कोई प्रभावशाली चिकित्सीय विकल्प नहीं है लेकिन जीवनशैली में कुछ बदलाव कर इससे बचा जा सकता है। नियमित रूप से व्यायाम और स्वस्थ भोजन कररे तथा कॉफी, शराब, मसालेदार भोजन व धूम्रपान बंद करके मेनोपॉज और एंड्रोपॉज से बचा जा सकता है। मेनोपॉज और एंड्रोपॉज से होने वाली दिक्कतों से बचने के लिए इन आदतों को जीवनशैली में शामिल किया जा सकता है।

नियमित रूप से व्यायाम

रोजाना व्यायाम करने से शरीर स्वस्थ रहेगी और अनिद्रा जैसी समस्याएं भी दूर होंगी। मूड स्विंग के मामले जैसे चिड़चिड़ापन, चिंता और उदासी में भी व्यायाम फायदेमंद होता है। व्यायाम आपके शरीर की मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत रखने में मदद कर सकते हैं।

स्वस्थ और संतुलित भोजन

स्वस्थ और संतुलित भोजन मेनोपॉज और एंड्रोपॉज से होने वाली दिक्कतों में मददगार होता है।

सोने से पहले इन बातों का ध्यान

रात में सोने से पहले ढीले कपड़े पहनें और शांत व हवादार जगह पर ही सोयें।

शराब से दूरी

शराब का सेवन कम करने से ऐसी समस्याओं पर काबू पाया जा सकता है। शराब का सेवन न केवल शरीर को नुकसान पहुंचाता है बल्कि हमारे सेक्स लाइफ पर भी असर करता है ऐसे में शराब से दूरी बनाकर रखना फायदेमंद होता है।

कैफीन और धूम्रपान से बचें

कैफीन और निकोटीन का सेवन कम करना इस स्थिति में फायदेमंद होता है।

मूड स्विंग को करें कंट्रोल

व्यावहारिक परिवर्तनों से बचने के लिए योग आदि का सहारा लें। भरपूर आराम और नियमित व्यायाम से इसमें फायदा मिलता है।

उम्मीद करते हैं इस लेख में हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के बारे में दी गयी जानकारी आपको पसंद आई होगी। मेनोपॉज और एंड्रोपॉज के ऊपर बताए गए लक्षणों के दिखने पर चिकित्सक से जरूर संपर्क करें। इन समस्याओं में हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी एक अच्छा उपाय माना जाता है लेकिन किसी भी तरह का कदम उठाने से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लें।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer