Ayurveda: हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल का आयुर्वेदिक इलाज है गुग्गुल, मगर सेवन में बरतें ये 6 सावधानियां

आयुर्वेद में गुग्गुल को हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल घटाने के लिए बहुत फायदेमंद दवा माना जाता है। मगर इसका सही प्रयोग जरूरी है। जानें कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर घटाने के लिए कैसे करें गुग्गुल का सेवन और क्या हो सकते हैं इसके नुकसान।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Sep 13, 2019Updated at: Sep 13, 2019
Ayurveda: हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल का आयुर्वेदिक इलाज है गुग्गुल, मगर सेवन में बरतें ये 6 सावधानियां

गुग्गुल एक लोकप्रिय आयुर्वेदिक औषधि है, जिसे सैकड़ों सालों से तमाम तरह के रोगों के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। आयुर्वेद में गुग्गुल का विशेष महत्व है। गुग्गुल एक पेड़ होता है, जिससे निकलने वाले लार या गोंद को आयुर्वेदिक दवाओं में इस्तेमाल किया जाता है। भारत में इसे पवित्र माना जाता है और हवन-पूजन में धुंआ और सुगंध के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।

गुग्गुल में ढेर सारे एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं। इसके अलावा इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटी इंफ्लेमेट्री गुण भी पाए जाते हैं, जिसके कारण ये कई रोगों का रामबाण इलाज है। आयुर्वेद के अनुसार गुग्गुल शरीर में वात, पित्त और कफ के दोषों को दूर करता है।

हाई ब्लड प्रेशर और हाई कोलेस्ट्रॉल के मरीजों के लिए गुग्गुल को बहुत फायदेमंद माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि गुग्गुल के सही इस्तेमाल से हार्ट अटैक और स्ट्रोक की बीमारी को ठीक किया जा सकता है। इसके अलावा गुग्गुल वजन घटाने में भी मदद करता है। मगर आयुर्वेद में इसके इस्तेमाल के लिए कुछ विशेष सावधानियां बताई गई हैं। अगर गलत तरीके से इस्तेमाल करें, तो गुग्गुल का सेवन नुकसानदायक भी हो सकता है। आइए आपको बातते हैं हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए गुग्गुल का प्रयोग कैसे करें।

इसे भी पढ़ें:- हाई ब्लड प्रेशर और पायरिया का रामबाण इलाज है 'पहाड़ी नीम' या टेमरू (तिमूर), जानें इसके 5 फायदे

कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर कम करने के लिए गुग्गुल

बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल को घटाने और बंद धमनियों को खोलने के लिए गुग्गुल का प्रयोग किया जाता है। गुग्गुल के सेवन से बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL) की मात्रा घटती है और गुड कोलेस्ट्रॉल (HDL) की मात्रा बढ़ती है। इसके अलावा हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए भी गुग्गुल का सेवन फायदेमंद होता है। हालांकि इसका सही तरीके से प्रयोग करना बहुत जरूरी है। आयुर्वेदिक चिकित्सकों के अनुसार एक दिन में 75-150 मिलीग्राम गुग्गुल का सेवन ही करना चाहिए। कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर की समस्या में आप 25 मिलीग्राम शुद्ध गुग्गुल के पाउडर को 1 ग्लास गुनगुने पानी के साथ दिन में 2 या 3 बार ले सकते हैं। अगर आपको कोलेस्ट्रॉल के अलावा कोई अन्य रोग है, तो इसे लेने से पहले किसी आयुर्वेद के जानकार से सलाह ले लें, क्योंकि कुछ रोगों में गुग्गुल का सेवन नुकसानदायक हो सकता है। इसके अलावा आप इसे त्रिफला के काढ़े के साथ भी ले सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:- कैंसर, हाई कोलेस्ट्रॉल और डिप्रेशन जैसी समस्याओं से बचाता है लेमनग्रास

गुग्गुल का सेवन करें तो ध्यान रखें ये बातें

  • बाजार में मिलने वाले गुग्गुल पाउडर में मिलावट हो सकती है, इसलिए अच्छा होगा कि आप किसी अच्छे आयुर्वेदिक ब्रांड का गुग्गुल खरीदें या बाजार से साबुत गुग्गुल लाकर इसे घर पर स्वयं पीस लें।
  • गुग्गुल का सेवन करें, तो एसिडिक चीजें जैसे- कोल्ड ड्रिंक, नींबू, खट्टे फल आदि का सेवन न करें या बहुत कम मात्रा में करें।
  • बहुत अधिक मिर्च-मसाले वाले भोजन से दूर रहें।
  • शराब का सेवन बिल्कुल न करें। गुग्गुल का सेवन करने पर ये हानिकारक हो सकता है।
  • डायबिटीज के मरीजों को गुग्गुल का प्रयोग करने से पहले चिकित्सक की सलाह ले लेनी चाहिए।
  • अगर आप कोलेस्ट्रॉल घटाने की अंग्रेजी दवा ले रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से इस बारे में पूछ लें कि क्या आपको गुग्गुल लेना चाहिए या नहीं।

गुग्गुल का ज्यादा सेवन है नुकसानदायक

आयुर्वेद के अनुसार एक दिन में 150 मिलीग्राम से ज्यादा गुग्गुल का सेवन करना शरीर और सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। इसका ज्यादा सेवन करने से व्यक्ति को लिवर की बीमारियां और मोतियाबिंद हो सकता है या त्वचा रोग हो सकते हैं। बिना आयुर्वेद के जानकार से सलाह लिए इसका प्रयोग न करें। अगर आप प्रयोग करना चाहते हैं, तो 1-2 दिन गुग्गुल का सेवन करके देख लें। अगर आपको किसी तरह का साइड इफेक्ट नहीं दिखाई देता है, तो आप इसका सेवन कर सकते हैं।

Read more articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer