अच्छे मूड, अच्छी सेहत और फिट बॉडी के लिए महत्वपूर्ण हैं ये 6 हार्मोन, जानें इन्हें बूस्ट करने का तरीका

आपके शरीर में रिलीज होने वाले ये 6 हार्मोन्स हैं अच्छी सेहत, अच्छे स्वास्थ्य, फिट बॉडी और खुशहाल जीवन का आधार, जानें इनका महत्व और बूस्ट करने का तरीका

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 04, 2020Updated at: Jun 04, 2020
अच्छे मूड, अच्छी सेहत और फिट बॉडी के लिए महत्वपूर्ण हैं ये 6 हार्मोन, जानें इन्हें बूस्ट करने का तरीका

हार्मोन्स हमारे शरीर में अंदर ही अंदर रिलीज होने वाले केमिकल्स होते हैं, जो शरीर के अलग-अलग फंक्शन्स में मदद करते हैं। ये एक तरह से मैसेंजर का काम करते हैं यानी इनके आदेश पर ही हमारा शरीर अलग-अलग तरह से फंक्शन करता है। वैसे तो इंसान के शरीर में लगभग 50 हार्मोन्स बनते हैं। लेकिन इनमें से 6 सबसे महत्वपूर्ण हार्मोन हैं, जो हमारे रोजाना के मूड, सेहत और सेक्स लाइफ को प्रभावित करते हैं। इन 6 हार्मोन्स का बैलेंस बिगड़ने पर आपकी सेहत पर इशका असर दिखाई देता है। इसलिए इन्हें मैनेज करना और बूस्ट करना बेहद जरूरी है। आइए आपको बताते हैं कौन से 6 हार्मोन हैं आपके शरीर के लिए महत्वपूर्ण।

अच्छे मूड के लिए: ओएस्ट्रोजन

ओएस्ट्रोजन हार्मोन हमारे मूड और इमोशन के लिए जिम्मेदार होता है। आपको गुस्सा आता है, दया आती है, मूड खराब होता है या चिड़चिड़ापन आता है, तो उसमें इसी हार्मोन की भूमिका होती है। महिलाओं में ओएस्ट्रोजन एक महत्वपूर्ण हार्मोन है क्योंकि उनके शरीर को पुरुषों से अलग विकसित करने की जिम्मेदारी भी इसी हार्मोन के कंधे पर है। यही कारण है कि जिन महिलाओं में ओएस्ट्रोजन हार्मोन क कमी होती है, उनमें हड्डियों की कमजोरी, मसल्स लॉस, हार्ट की बीमारियां, जल्दी मेनोपॉज जैसी समस्याएं देखने को मिलती हैं। हमें खुश रखने वाले हार्मोन्स जैसे- सेरोटोनिन और डोपामाइन भी इसी हार्मोन के प्रभाव से रिलीज होते हैं।

ओएस्ट्रोजन हार्मोन को बूस्ट करने के लिए रेगुलर एक्सरसाइज करना और बैलेंस डाइट लेना बहुत जरूरी है।

happy hormones

स्ट्रेस हार्मोन: कॉर्टिसोल

जब आप तनाव लेते हैं या चिंता करते हैं तो आपका शरीर कॉर्टिसोल हार्मोन रिलीज करता है। ये हार्मोन ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने, ब्लड शुगर को मैनेज करने और मेटाबॉलिज्म में भी बड़ी भूमिका निभाता है। लेकिन इस हार्मोन की ज्यादा मात्रा तनाव, चिंता और डिप्रेशन जैसी मानसिक समस्याओं का तो कारण बनती ही है, साथ ही वजन बढ़ने का भी कारण बनती है। कॉर्टिसोल हार्मोन की कमी भी खतरनाक है क्योंकि इसके कारण थकान, वजन घटने और मूड खराब रहने की शिकायत होती है। इसलिए इस हार्मोन का शरीर में बैलेंस होना जरूरी है।

इस हार्मोन को बैलेंस रखने के लिए भी एक्सरसाइज करना बेहद जरूरी है। तनाव कम लेने से भी ये हार्मोन नहीं बढ़ता है।

इसे भी पढ़ें: शरीर में घटे-बढ़े हार्मोन्स को संतुलित कर देते हैं ये 5 देसी आहार, असंतुलित हार्मोन्स से होती हैं कई बीमारियां

नींद के लिए जिम्मेदार हार्मोन: मेलाटोनिन

अच्छी और गहरी नींद के लिए जिस हार्मोन की शरीर को सबसे ज्यादा जरूरत होती है, वो है मेलाटोनिन। आपके शरीर में प्राकृतिक रूप से एक घड़ी होती है। जैसे-जैसे दिन ढलता है रात होती है, आपका शरीर मेलाटोनिन हार्मोन की मात्रा ज्यादा रिलीज करता जाता है। इससे आप शाम तक थकान महसूस करते हैं, और फिर शरीर रिचार्ज होने के लिए नींद में चला जाता है। अगर आप प्राकृतिक नियम के विरुद्ध रात में जागते हैं या देर से सोते हैं, तो इस हार्मोन का बैलेंस बिगड़ता है। इसीलिए अगली सुबह आपको आलस, थकान और सिर में भारीपन की समस्या होती है।

इस हार्मोन को रिलीज करने के लिए अच्छा खानपान और एक्सरसाइज महत्वपूर्ण है। एक्टिव रहें, भले ही कोई काम करते रहें।

फैट और एनर्जी के लिए जिम्मेदार हार्मोन: इंसुलिन

इंसुलिन हार्मोन आपके खाने की चीजों से मिले शुगर को खून में घोलने का काम करता है, ताकि ये ग्लूकोज मांसपेशियों और कोशिकाओं तक पहुंच सके, जिससे वो जिंदा रह सकें। जिस शुगर का शरीर इस्तेमाल नहीं कर पाता है उसे फैट में बदलकर शरीर में स्टोर करने का काम भी यही हार्मोन करता है। लेकिन जब इस हार्मोन को शरीर ठीक से नहीं बना पाता है, तो आपको एनर्जी की कमी, थकान, गुस्सा, चिड़चिड़ापन महसूस होता है। दूसरी बात यह है कि इंसुलिन हार्मोन न बनने पर खून में शुगर ज्यादा घुलने लगता है, जिससे टाइप-2 डायबिटीज होने का खतरा पैदा हो जाता है।

इंसुलिन हार्मोन को बैलेंस करने में भी खानपान, एक्सरसाइज और रोज 7 से 9 घंटे की नींद सबसे महत्वपूर्ण है।

इसे भी पढ़ें: हार्मोन्स की गड़बड़ी को प्राकृतिक तरीके से बैलेंस करेगा ये खास जूस, जानें बनाने की विधि

मेटाबॉलिज्म वाला हार्मोन: थायरॉक्सिन

मेटाबॉलिज्म में शरीर के कुछ मूलभूत फंक्शन आते हैं, जिसे थायरॉक्सिन हार्मोन मैनेज करता है। थायरॉक्सिन हार्मोन दिल की धड़कन, पाचनतंत्र, दिमाग के कुछ फंक्शन्स, फैट बर्न करके एनर्जी बनाने जैसे महत्वपूर्ण काम करता है। ये हार्मोन थायरॉइड ग्लैंड के द्वारा रिलीज किया जाता है, जो गले में है। अगर किसी व्यक्ति का शरीर ठीक तरह से थायरॉक्सिन हार्मोन नहीं बना पाता है, तो उसे थकान, वजन बढ़ने या घटने, डिप्रेशन आदि की समस्या होती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि हर 20 में से 1 व्यक्ति को थायरॉइड की समस्या होती है।

महिलाओं को थायरॉाइड की समस्या पुरुषों से ज्यादा होती है।

testosteron hormone

सेक्स हार्मोन: टेस्टोस्टेरॉन

टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन पुरुषों और महिलाओं दोनों में ही रिलीज होता है, मगर पुरुषों में इसकी मात्रा ज्यादा होती है। पुरुषों में होने वाले बदलावों के लिए ये हार्मोन जिम्मेदार होता है। टेस्टोस्टेरॉन को सेक्स हार्मोन कहते हैं क्योंकि ये उनमें कामुकता, क्षमता और स्पर्म बढ़ाता है। पुरुषों के शरीर में इस हार्मोन की कमी खतरनाक होती है क्योंकि इससे उनकी सेक्स लाइफ प्रभावित होती है और कई परेशानियां होती हैं। महिलाओं के शरीर में इस हार्मोन की अधिकता से चेहरे पर बाल या पीसीओडी की समस्या होती है।

इस हार्मोन को बढ़ाने में भी एक्सरसाइज, डाइट और नींद का बड़ा महत्व है।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer