इन 5 तरीकों से खिलाएं तो चाव से हरी सब्जियां खाएंगे बच्चे, मिलेगा पोषण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 06, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बच्चे रंगों के प्रति जल्दी आकर्षित होते हैं इसलिए रंगीन सब्जियां खिलाएं।
  • बच्चों को हर दिन कुछ नया खिलाएं तो बना रहेगा आकर्षण।
  • बच्चों को खिलाने के क्रिएटिव तरीके खोजें।

बच्चों का स्वभाव जिद्दी होता है। ज्यादातर बच्चे खाने-पीने में आनाकानी करते हैं। बच्चों को तेल-मसाले वाली चटपटी चीजें या खट्टी-मीठी चीजें ज्यादा पसंद आती हैं ऐसे में उन्हें पौष्टिक खाना खिलाना अपने आप में एक कठिन काम है। ज्यादातर मांओं की शिकायत होती है कि उनका बच्चा हरी सब्जियां नहीं खाता है। चूंकि हरी सब्जियों में ढेर सारे विटामिन्स, मिनरल्स और एंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं इसलिए ये बच्चों की सेहत के लिए बहुत जरूरी हैं। बच्चों को खाना खिलाने के लिेए अगर आप इन तरीकों का सहारा लें, तो बच्चे चाव से हरी सब्जियां खाएंगे।

रोज बनाएं अलग खाना

बच्चों को जल्दी-जल्दी एक ही चीज खिलाएंगी, तो वो उस चीज से बोर हो जाएंगे। इसलिए कोशिश कीजिए की एक सप्ताह में कोई चीज एक ही बार बनाएं। अगर बच्चे को कोई चीज बहुत पसंद है फिर भी उन्हें जल्दी-जल्दी न खिलाएं। बच्चों को रोटी या पराठे में हरी सब्जियां भरकर सॉस के साथ वेज रोल के रूप में दे सकती हैं। इसके अलावा अगर बच्चे नूडल्स या पास्ता की जिद करें, तो इनमें ढेर सारी सब्जियां डालकर बनाएं।

रंग-बिरंगी सब्जियां खिलाएं

बच्चे रंगों के प्रति जल्दी आकर्षित होते हैं इसलिए कोशिश करें कि बच्चों के खाने में रंग-बिरंगी सब्जियों को शामिल करें। इन सब्जियों को भी आप अलग-अलग दिन, अलग-अलग शेप में काटकर बना सकती हैं। इससे बच्चे का उस सब्जी के लिए आकर्षण बना रहेगा और वो उसे चाव से खाएगा।

इसे भी पढ़ें:- बढ़ने की उम्र में बच्चों को जरूर खिलाएं ये 5 आहार, बनेंगे स्मार्ट और लंबे

क्रिएटिव तरीके खोजें

बच्‍चों को खिलाने के लिए क्रिएटिविटी बहुत जरूरी है। क्रिएटिविटी यानी बच्‍चों के खाने में वैराइटी के साथ ही शेप, रूप और बनावट बहुत जरूरी होता है। बच्‍चों के खाने में बनावट यानी टेक्सचर बहुत जरूरी होता है। टेक्सचर को बदलना बहुत जरूरी है। आपने देखा होगा कि आजकल के बच्‍चे स्‍मूथ चीजों, बहुत ही आसानी से निगलने वाली चीजों, फ्रूट जूस को ज्‍यादा पसंद करते हैं, जिसमें दांतों को ज्‍यादा मेहनत न करनी पड़े।

सलाद खिलाएं

सलाद भी प्रोटीन और विटामिन्स का बेहतर स्रोत हैं। ब्रोकली, ककड़ी, गाजर, चुकंदर, टमाटर आदि को काटकर बच्चों को खिलाएं। अगर बच्चे इन्हें नहीं खाते हैं तो इनके बहुत छोटे-छोटे टुकड़े करके खाने-पीने की चीजों में मिला सकते हैं। इससे बच्चों को पोषण भी मिलेगा और वो आसानी से ये सलाद और खाना खा भी लेंगे।

इसे भी पढ़ें:- बच्चों की सेहत के लिए जरूरी हैं प्रोबायोटिक्स, जानें इनके फायदे और स्रोत

बच्चों को मनपसंद चीजों का लालच दें

बच्चे अक्सर मनपसंद चीजों को खाने की जिद करते हैं। बचपन से अगर आप बच्चों को उनकी मनपसंद चीजें दिलाने से पहले कुछ शर्त रखेंगे, तो आप उनसे कई जरूरी काम आसानी से करवा पाएंगे। अगर बच्चा पिज्जा खाने की जिद करे तो पहले तो उससे कहें कि अगर वो पूरे हफ्ते हेल्दी चीजें खाएगा, तो वीकेंड्स पर उसे पिज्जा खिला सकते हैं। कोशिश करें कि बाजार से मंगवाने के बजाय ज्यादातर फूड्स को घर पर ही बनाएं। इससे आप उनमें मनपसंद मात्रा में हेल्दी फ्रूट्स और वेजिटेबल्स मिला सकती हैं।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Kids 4-7 In Hindi

Loading...
Write Comment Read ReviewDisclaimer
Is it Helpful Article?YES325 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर