एक्‍यूट इनवेसिव फंगल साइनसाइटिस और इसका उपचार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 06, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • यह कवक संक्रमण के कारण होने वाली बीमारी है।
  • इम्‍यून सिस्‍टम कमजोर होने पर होती है समस्‍या।  
  • कवक संक्रमण सीधे ऊतकों को संक्रमित करते हैं।
  • मिनिमली इनवैसिव सर्जरी से इसका उपचार होता है।

एक्‍यूट इनवेसिव फंगल साइनसाइटिस ऐसी बीमारी है जो कवक के संक्रमण के कारण होती है और हर साल लाखों लोग इसकी चपेट में आते हैं। इनवेसिव फंगल साइनस संक्रमण के दो प्रकार होते हैं - एक्‍यूट यानी तीव्र और क्रोनिक यानी जीर्ण।

एक्‍यूट इनवेसिव फंगल साइनस संक्रमण अधिक गंभीर समस्‍या है। इसकी गिरफ्त में अधिकतर ऐसे लोग आते हैं जिनका प्रतिरक्षा तंत्र यानी इम्‍यून सिस्‍टम कमजोर होता है। दरअसल कवक हमारे शरीर में मौजूद होते हैं और अगर प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाये तो यह तुरंत प्रभावी हो जाते हैं। यह बड़ी तेजी से रक्‍त वाहिकाओं, आंखों के पास, और केंदीय तंत्रिका तंत्र के आसपास फैलते हैं। यह बहुत ही गंभीर समस्‍या है और इसके कारण मौत भी हो सकती है।

कवक संक्रमण सांसों के जरिये मुंह और नाक के रास्‍ते शरीर में प्रवेश करते हैं, अगर एक बार कवक आपके शरीर में प्रवेश कर जाये तो बिना किसी सहायता के ये शरीर में हमेशा के लिए जीवित रहते हैं और इम्‍यून सिस्‍टम कमजोर होने के साथ ही ये हमला भी कर देते हैं।
Sinusitis and its Treatment in Hindi

इनवेसिव फंगल के लक्षण

दोनों प्रकार के साइन संक्रमण के लक्षण लगभग एक जैसे होते हैं। चेहरे पर सूजन और दर्द, शरीर के अन्‍य हिस्‍सों में दर्द और सूजन, खून का थक्‍का बनना, रक्‍त का स्राव होने जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। कुछ लोगों में ये लक्षण सामान्‍य न होकर गंभीर हो सकते हैं और इसके कारण मरीज की स्थिति बहुत गंभीर हो सकती है। इसके अलावा खांसी, बुखार, सिरदर्द, दिमागी उलझन, दिखने में समस्‍या आदि इसके अन्‍य लक्षण हैं।

 

इनवेसिव फंगल का निदान

ऊपर दिये गये लक्षण में से अगर आप किसी से ग्रस्‍त हैं तो उसी आधार पर चिकत्‍सक आपका परीक्षण करेगा और इन परीक्षणों के नतीजे इस बीमारी के बारे में बतायेंगे।

 

इनवेसिव फंगल का उपचार

एक्‍यूट इनवेसिव फंगल साइनसाइटिस एक गंभीर समस्‍या है इसका निदान होने के तुरंत बाद चिकित्‍सक सर्जरी के जरिये इससे संक्र‍मित ऊतकों को निकालते हैं। सर्जरी के जरिये सभी मृत और संक्रमित ऊतकों को निकाला जाता है।

Acute Invasive Fungal Sinusitis in Hindi
मिनिमली इनवैसिव सर्जरी

इनवेसिव फंगल साइनसाइटिस से संक्रमित ऊतकों को निकालने के लिए सीधे तौर पर इंडोस्‍कोपिक इंडोनजल एप्रोच (ईईए) का प्रयोग किया जा सकता है। इस तरीके की सर्जरी में चीर-फाड़ की जरूरत नहीं पड़ती, इसमें नाक के जरिये सर्जरी की जाती है। इसे एक तरह की प्राकृतिक सर्जरी भी मानी जाती है क्‍योंकि इसमें चीरा नहीं लगता।


ईईए तकनीक से न तो चीरा लगता है और न ही इसके कारण त्‍वचा में कोई दाग पड़ते हैं और सर्जरी के बाद बहुत जल्‍दी मरीज को आराम भी मिल जाता है।

image source - getty images

 

Read More Articles on Infectional Disease in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES11 Votes 2040 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर