टाइप 2 डायबिटीज में बहुत फायदेमंद है ये स्नैक, तुरंत घटाता है ब्लड शुगर और मोटापा

डायबिटीज, मधुमेह या शुगर भले ही सुनने में एक मामूली और सामान्य रोग लगता है लेकिन है यह बहुत खतरनाक रोग। इस रोग में अगर सावधानी न बरती जाए तो जान तक को खतरा होता है। डायबिटीज होने के 2 मुख्य कारण होते हैं। पहला है जैनेटिक और दूसरा है लाइफस्टाइल। जी

Rashmi Upadhyay
Written by: Rashmi UpadhyayUpdated at: Mar 23, 2019 14:39 IST
टाइप 2 डायबिटीज में बहुत फायदेमंद है ये स्नैक, तुरंत घटाता है ब्लड शुगर और मोटापा

डायबिटीज, मधुमेह या शुगर भले ही सुनने में एक मामूली और सामान्य रोग लगता है लेकिन है यह बहुत खतरनाक रोग। इस रोग में अगर सावधानी न बरती जाए तो जान तक को खतरा होता है। डायबिटीज होने के 2 मुख्य कारण होते हैं। पहला है जैनेटिक और दूसरा है लाइफस्टाइल। जी हां, अनियमित लाइफस्टाइल सबसे पहले डायबिटीज को निमंत्रण देता है। डायबिटीज दो तरह की होती है। पहली टाइप 1 डायबिटीज और दूसरी टाइप 2 डायबिटीज। आज हम टाइप 2 डायबिटीज की बात कर रहे हैं जिसमें मरीज को अपनी डाइट लेते वक्त काफी सर्तक रहना पड़ता है। इस डायबिटीज में मरीज को फाइबर, प्रोटीन, कॉर्बोहाइड्रेट और हेल्दी फैट्स से युक्त डाइट लेनी चाहिए। इससे ब्लड शुगर तो कंट्रोल होता ही है साथ ही वजन भी घटता है। आज हम आपको इन्हें कंट्रोल करने के लिए एक ऐसी डाइट बता रहे हैं जो बहुत फायदेमंद है। इस रैसेपी में आपको सिर्फ 2 चीजों की जरूरत पड़ेगी और उनका नाम है दही और बेरिज। तो आइए जानते हैं क्या है इस स्नैक के फायदे और कैसे बनाते हैं इसे।

टाइप 2 डायबिटीज के लिए रैसेपी

दही और बेरिज का मिश्रण न सिर्फ टाइप 2 डायबिटीज में फायदेमंद होता है बल्कि यह वजन घटाने और शरीर को संपूर्ण पोषक तत्व देने के लिए भी अच्छा विकल्प है। बेरिज में कई ऐसे एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो शरीर के अंगों में आई सूजन को कम करने और पैनक्रियाज की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने से रोकने हैं। बता दें कि हमारा पैनक्रियाज ऐसे हार्मोन का निर्माण करने के लिए जिम्मेदार है जो ब्लड शुगर लेवल को कम करने और पाचन शक्ति को दुरुस्त करने में सहायता करते हैं। बेरिज फाइबर का भी एक उत्कृष्ट स्रोत है, जो ब्लड शुगर के स्तर को स्थिर करने और खाने के बाद पाचन धीमा करने के लिए आवश्यक है। फाइबर में उच्च खाद्य पदार्थ आपको वजन कम करने और पेट की चर्बी को बढ़ने से रोकने में मदद कर सकते हैं। इसलिए, सबसे अधिक वजन घटाने वाले आहार में फाइबर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

क्या है टाइप 2 डायबिटीज

टाइप 2 मधुमेह से ग्रस्‍त लोगों का ब्लड शुगर का स्‍तर बहुत ज्यादा बढ़ जाता है जिसको नियंत्रण करना बहुत मुश्किल होता है। इस स्थिति में पीडि़त व्यक्ति को अधिक प्यास लगती है, बार-बार मूत्र लगना और लगातार भूख लगना जैसी समस्‍यायें होती हैं। यह किसी को भी हो सकता है, लेकिन इसे बच्‍चों में अधिक देखा जाता है। टाइप 2 मधुमेह में शरीर इंसुलिन का सही तरीके से प्रयोग नहीं कर पाता है।

इन लोगों को होता है टाइप 2 का ज्यादा खतरा

वर्तमान में व्यायाम के अभाव और फास्ट फूड के अधिक सेवन के कारण बच्चों में भी टाइप 2 डायबिटीज होने लगी है। 15 साल के नीचे के लोग, खासकर 12 या 13 साल के बच्चों में यह दिखाई दे रही है। पुरुषों के मुकाबले यह महिलाओं में अधिक हो रही है। यह बीमारी उन लोगों को अधिक होती है जिनका वजन अधिक होता है, सामान्‍यतया बीएमआई 32 से ज्यादा के लोगों में यह अधिक होती है। आनुवांशिक कारणों से भी यह हो सकता है।

टाइप 2 डायबिटीज के लक्षण क्या हैं

इसके कारण शरीर में ब्‍लड शुगर का स्‍तर बढ़ने से थकान, कम दिखना और सिर दर्द जैसी समस्‍या होती है। चूंकि शरीर से तरल पदार्थ अधिक मात्रा में निकलता है इसकी वजह से रोगी को अधिक प्‍यास लगती है। कोई चोट या घाव लगने पर वह जल्‍दी ठीक नहीं होता है। डायबिटिज के लगातार अधिक बने रहने का प्रभाव आंखों की रोशनी पर पड़ता है, इसके कारण डायबिटिक रेटिनोपैथी नामक बीमारी हो जाती है जिससे आंखों की रोशनी में कमी हो जाती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Healthy Diet In Hindi

Disclaimer