महिला को गर्भावस्‍था से पहले और बाद में करना चाहिए नियमित जांच

गर्भावस्था परीक्षण के लिए कुछ निर्देशों का पालन करना आवश्यक है। आइए जानें गर्भावस्था परीक्षण के निर्देशों के बारे में।

अनुराधा गोयल
गर्भावस्‍था Written by: अनुराधा गोयलPublished at: May 31, 2011
महिला को गर्भावस्‍था से पहले और बाद में करना चाहिए नियमित जांच

गर्भावस्था परीक्षण के लिए कुछ निर्देशों का पालन करना आवश्यक है। गर्भावस्था परीक्षण के लिए बहुत से उपकरण होते हैं लेकिन गर्भावस्था जांच से पहले सामान्य निर्देशों का पालन करना भी जरूरी है। कई चरणों पर गर्भावस्था परीक्षण करवाने की आवश्यकता होती है।

guidelines of pregnancy testगर्भधारण के बाद और गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को कई परीक्षण करवाने पड़ते हैं। ये परीक्षण सही समय पर सही तरीके से हो इसके लिए जरूरी है पूरी जानकारी होना। आइए जानें गर्भावस्था परीक्षण के निर्देशों के बारे में।

 

गर्भावस्‍था जांच के लिए निर्देश

  • गर्भावस्था परीक्षण के लिए जरूरी है कि गर्भवती महिला को पता हो कि उसके लिए कौन-कौन से परीक्षण जरूरी हैं और कब-कब करवाने चाहिए। निम्न चरणों पर गर्भावस्था परीक्षण कराया जाता है जिसमें यूरिन, ब्लड और पेल्विक एग्जामिनेशन सभी को शामिल किया जाता है।
  • गर्भावस्था परीक्षण के दौरान गर्भावस्था परीक्षण के प्रकार और गर्भावस्‍था परीक्षण उपकरणों के बारे में भी गर्भवती महिला को जानकारी होनी चाहिए जिससे वह कोई चूक न करें।
  • गर्भावस्था के सामान्य निर्देशों में इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए कि यदि गर्भवती महिला को किसी परीक्षण से पहले खाली पेट आने की सलाह दी गई है तो वह पहली रात को जल्दी खाना खा लें जिससे जांच के दौरान कोई तकलीफ न हो और सभी रिपोर्ट भी सकारात्मक आएं।
  • गर्भावस्था किसी भी महिला के लिए बहुत महत्वपूर्ण क्षण होता है ,ऐसे में जरूरी है कि किसी मान्यता प्राप्त अस्पताल या डॉक्टर से संपर्क करें और मान्यता प्राप्त लैब में ही गर्भावस्था जांच करवाएं।
  • गर्भावस्था परीक्षण के दौरान यदि किसी तकलीफ का सामना करना पड़ता है तो घर में घरेलू दवाईयां न लें बल्कि तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • गर्भावस्था परीक्षण से पहले व बाद में डॉक्टर के संपर्क में रहे व बाहर के खाने से परहेज़ करें । समय-समय पर डॉक्टर से सलाह लेते रहें।
  • ध्यान रहे जब भी आप परीक्षण करवाएं तो नई सीरिंज का प्रयोग किया जाना अनिवार्य है।
  • परीक्षण के बाद और रिपोर्ट आने के बाद बिना घबराए डॉक्टर से सारी रिपोर्ट्स की जानकारी खुलकर लें।
  • आपके क्षेत्र में यदि कोई संक्रमित बीमारी फैली हुई है तो अपने डॉक्टर से सलाह लेते हुए आप परीक्षण करवा सकते हैं।
  • डॉक्टर द्वारा दिए हुए समय पर और निश्चित दिन पर परीक्षण करना अच्छा रहता है।
  • डॉक्टर से कुछ भी न छिपाएं और बेझिझक अपनी समस्याओं, अंदरूनी बीमारियों और परेशानियों के बारे में बतायें।

 

 

थोड़ी सी सावधानियां और देखभाल न सिर्फ आपको भविष्य में स्वस्थ रखेगी बल्कि आपका बच्चा भी स्वस्थ रहेगा।

 

 

Read more articles on Pregnancy Test in Hindi

 

 


 

 

 

 

Disclaimer