मुंहासों का कारण कहीं आपका आहार तो नहीं? जानें क्या खाएं, क्या न खाएं

कुछ आहार ऐसे होते हैं जिनको ज्यादा खाने से आपकी त्वचा खराब हो जाती है और कील-मुंहासों की समस्याएं शुरू हो जाती हैं। हालांकि मुंहासे निकल आएं, तो उन्हें ठीक करने के लिए भी कुछ आहारों का ही सहारा लेना पड़ता है। यानी आहार का सीधा प्रभाव आपकी त्वचा

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 06, 2018Updated at: Jun 06, 2018
मुंहासों का कारण कहीं आपका आहार तो नहीं? जानें क्या खाएं, क्या न खाएं

मुंहासे हमारी त्वचा की एक आम समस्या है। कील-मुंहासे ज्यादातर हार्मोनल बदलावों या खान-पान की गड़बड़ी के कारण निकलते हैं। इसके अलावा तनाव, प्रदूषण, तैलीय त्वचा, मेकअप के साइड इफेक्ट आदि के कारण भी कई बार कील-मुंहासे हो जाते हैं।
कुछ आहार ऐसे होते हैं जिनको ज्यादा खाने से आपकी त्वचा खराब हो जाती है और कील-मुंहासों की समस्याएं शुरू हो जाती हैं। हालांकि मुंहासे निकल आएं, तो उन्हें ठीक करने के लिए भी कुछ आहारों का ही सहारा लेना पड़ता है। यानी आहार का सीधा प्रभाव आपकी त्वचा पर पड़ता है। अगर आपका आहार अच्छा है, तो आपकी त्वचा भी अच्छी रहेगी। आइये आज हम आपको बताते हैं मुंहासों के लिए कुछ फायदेमंद है कुछ नुकसानदायक आहार।

फैटी फिश है- फायदेमंद

सैलमन, सरडाइंस और ट्यूना जैसी मछलियों में ओमेगा-3 फैटी एसिड भरपूर होता है। ये फैटी एसिड शरीर में सेल्स के निर्माण में महत्वपू्र्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए त्वचा के लिए ये फैटी एसिड्स बहुत फायेदमंद होते हैं। फैटी एसिड की संतुलित मात्रा लेने से पिंपल्स खत्म होने में आसानी होती है।

खीरा और तरबूज- फायदेमंद

खीरा और तरबूज में भरपूर मात्रा में पानी होता है। ये पानी आपके शरीर को हाइड्रेट रखता है। इससे त्वचा में नमी रहती है। कुछ लोगों में त्वचा के रूखेपन के कारण भी पिंपल की समस्या हो जाती है। इसके अलावा अगर चेहरे पर पिंपल हैं तो आप लिक्विड आहारों का सेवन ज्यादा करें और खूब पानी पिएं।

काजू- फायदेमंद

काजू सभी ड्राईफ्रूट्स में खास होता है क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में जिंक होता है। कई बार शरीर में मिनरल्स की कमी के कारण भी पिंपल निकल आते हैं। जिंक शरीर की सूजन को कम करता है और इम्यूनिटी को बढ़ाता है इसलिए इसे खाने से कील-मुंहासों में राहत मिलती है।

इसे भी पढ़ें:- मुंहासों की समस्या से झटपट छुटकारा दिलाएगा आयुर्वेद, जानिए कैसे

प्रोबायोटिक फूड्स

प्रोबॉयोटिक फूड में न्यूट्रीशन्स बहुत ज्यादा होते हैं। इसके अलावा ये शरीर में मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया और कीटाणुओं को एक्टिव होने से रोकते हैं। प्रोबायोटिक्स के सेवन से शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता यानि इम्यूनिटी बढ़ती है। इसलिए ये भी पिंपल्स के लिए अच्छा फूड है।

अंडा- फायदेमंद

कई लोग सोचते हैं कि अंडे की तासीर गर्म होती है इसलिए इसे खाने से पिंपल निकल आएंगे। मगर आपको बता दें कि अंडे में इतनी मात्रा में प्रोटीन और विटामिन्स होते हैं कि रोजाना एक अंडा खाकर आप अपने शरीर को सभी जरूरी पोषक तत्व दे सकते हैं। अंडा खाने से पिंपल की समस्या में राहत मिलती है।

रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट- नुकसानदायक

जल्दी पचने वाले खाद्य पदार्थों में ख़ास तौर पर रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट होता है जैसे कैंडी, कुकीज़ या व्हाइट ब्रेड। इन उत्पादों के सेवन से पिंपल होते हैं क्यों कि इनसे ब्लड शुगर की मात्रा बढ़ती है और हार्मोंस में उतार चढ़ाव होता है।

स्पाइसी फूड्स- नुकसानदायक

यदि आपको मुंहासे हैं तो तेज मसालेदार चीजों के सेवन से ये बढ़ सकते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि तेज मिर्च वाले खाने से शरीर का तापमान बढ़ता है और ये त्वचा में जलन पैदा करते हैं और मुंहासे पैदा करते हैं। हां, अगर आपको मुंहासे नहीं हैं तो आप स्‍वाद के लिए कभी*कभार मसालेदार भोजन कर सकती हैं।

इसे भी पढ़ें:- पीठ में एक्ने से परेशान हैं तो आजमाएं आसान और लाभदायक घरेलू उपाय

पिज्जा, बर्गर- नुकसानदायक

पिज्जा में सैचुरेटेड फैट की मात्रा ज्यादा होती है इसलिए ये आपकी सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। सैचुरेटेड फैट से आंतों में सूजन आ जाती है और आंतों की सूजन पिंपल का मुख्य कारण है।

कैफीन का सेवन- नुकसानदायक

कैफीन उत्पाद, जैसे चाय और कॉफी भी पिंपल का कारण बन सकते हैं। इसके कारण एड्रिनल ग्रंथि से स्ट्रेस हर्मोन का स्राव होता है जो कि त्वचा के लिए अच्छा नहीं हैं। कैफीन उत्‍पाद हमारी नींद पर भी विपरीत असर डालते हैं। और शरीर के उत्‍तकों की मरम्‍मत के लिए नींद बहुत जरूरी है।

चॉकलेट- नुकसानदायक

चॉकलेट पिंपल पैदा करने वाले मुख्य कारणों में से एक है। चॉकलेट में डेयरी उत्पाद, रिफाइंड शुगर और कैफीन की अधिकता होती है और ये सब पिंपल पैदा करने वाले कारकों में से है। थोड़ी बहुत चॉकलेट खाने में कोई बुराई नहीं है लेकिन इसे आदत बनाना अच्छा नहीं है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Acne in Hindi

Disclaimer