कोलाइटिस से लड़ने में मददगार हो सकती है ब्रोकली

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 02, 2011
Quick Bites

  • कोलाइटिस आंतों से संबंधित गंभीर समस्‍या है।
  • इसके कारण आतों में जलन और सूजन होती है।
  • ब्रोक्‍कोली खाने से इससे लड़ने में मिलती है मदद।
  • लीवरपूल विवि के शोध में हुआ इस बात का खुलासा।

कोलाइटिस आंतों से संबंधित बीमारी है। सामान्‍यतया आंत की सूजन, जलन या दूसरी तरह की तमाम बीमारियों को कोलाइटिस कहते हैं। पेट में होने वाली ऐंठन, दस्त, लगातार डायरिया रहना, नींद न आना, बुखार और वजन कम होना कोलाइटिस के लक्षण हैं।

गर्भ निरोधक गोलियों का इस्तेमाल, खाने पीने में अनियमितता और धूम्रपान भी कोलाइटिस की वजह बन सकते हैं। चूंकि ये कई वजहों से हो सकता है, इसलिए इसके इलाज के लिए भी अलग-अलग होते हैं। लेकिन इस बीमारी के होने पर ब्रोक्‍कोली खाने से आराम मिलता है।

Brocolli can Help Fight Colitis


क्‍या कहता है शोध

ब्रोकली या हरी फूलगोभी खाने से कोलाइटिस जैसी आंत की बीमारी से लड़ने में मदद मिल सकती है। लीवरपूल विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के दल ने पाया है कि कुछ विशेष प्रकार के घुलनशील तंतु या रेशे बैक्टीरिया को आहारनाल की दीवार से चिपकने से रोकते हैं और इस तरह इस बीमारी को बढ़ने नहीं देते।

शोधकर्ताओं ने पाया कि पौधों और हरी फूलगोभी के घुलनशील रेशे कैंसर से लड़ने की क्षमता बढ़ाते हैं और धमनियों में रोएं बनने से रोकते हैं। अध्ययन के दौरान शोधकर्ताओं ने प्रयोगशाला में ई-कोलाई बैक्टीरिया पर घुलनशील रेशों, फलों और सब्जियों का असर देखा।

लीवरपूल विश्वविद्यालय के शोधकर्ता जोनाथन रोड्स कहते हैं कि घुलनशील रेशे हानिकारक बैक्टीरिया को आंत से चिपकने नहीं देते और इस तरह ये लाभदायक हो सकते हैं।

 


क्‍या है कोलाइटिस

आंत की सूजन, जलन या दूसरी तरह की तमाम बीमारियों को कोलाइटिस कहते हैं। यह एक तरह की कोलाइटिस बैक्टीरिया, वायरस या परजीवी के अतिक्रमण से होती है। अगर कोलाइटिस की वजह सालमोनला या कोई दूसरा बैक्टीरिया है तो इससे निजात पाने के लिए एंटी-बॉयोटिक्‍स का सहारा लिया जा सकता है। एंटीबायोटिक्स का सहारा कोलाइटिस के इलाज के साथ ही कुछ मामलों में इसकी पहचान के लिए भी लिया जाता है।

परजीवी या अमीबा से होने वाले कोलाइटिस में एंटीबायटिक के अलावा एंटी पैरासाइट दवाइयों का प्रयोग किया जाता है। वायरस से होने वाले कोलाइटिस का इलाज थोडा मुश्किल होता है। वायरस से होने वाले कोलाइटिस में मरीज के शरीर में पानी कम होने की शिकायत होती है।
Brocolli Help Fight Colitis

 

कोलाइटिस में देखभाल

कोलाइटिस की समस्‍या ज्यादातर बच्चों और बुजुर्गों को होता है। इसमें मरीज को ज्यादा पानी पीने की सलाह दी जाती है। अगर किसी के साथ समस्या बढ़ जाती है तो फिर उसे भर्ती कर नसों के जरिए ग्लूकोज दिया जाता है। कई मामलों में पहले से ही पता लगा जाता है कि ये कोलाइटिस के लक्षण हैं।

जैसे आंत की बीमारी, जिसे क्रोन डिजीज के नाम से जानते हैं, में आंत में लगातार समस्या बनी रहती है। इससे लंबे समय तक प्रभावित रहने वाले मरीज की आंत में छेद भी हो जाते हैं।

अगर किसी व्यक्ति में वायरस कोलाइटिस या आंत में छेद जैसे लक्षणों की आशंका होती है तो उसे तुरंत अपना इलाज कराना चाहिए। इसके अलावा व्यक्ति को डायरिया और दो दिन से ज्यादा बुखार रहता है या साथ ही पेट में दर्द भी उठता है तो ये कोलाइटिस हो सकता है। इस स्थिति में चिकित्‍सक से संपर्क करना चाहिए।

 

Read More Articles on Healthy Eating in Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES13017 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK