Health Misconception : सेहत से जुड़ी इन 8 गलतफहमियों को अक्सर लोग मान लेते हैं सच, कहीं आप तो नहीं कर रहे यकीन

सिर्फ फूड को लेकर ही नहीं ऐसी तमाम चीजें हैं, जिन्हें हम सही मानते हैं लेकिन वह कहीं न कहीं हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित कर रही हैं। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Apr 15, 2020
Health Misconception : सेहत से जुड़ी इन 8 गलतफहमियों को अक्सर लोग मान लेते हैं सच, कहीं आप तो नहीं कर रहे यकीन

अक्सर हम अपनी सेहत को लेकर बेहद चिंता में रहते हैं कि हमारे लिए क्या खाना सही और क्या नहीं। इस बात  को लेकर चिंता होना स्वभाविक है कि हमारी सेहत के लिए कौन सी चीजें अच्छी हैं और कौन सी चीजें बुरी। बीमार होने पर भी हम जब डॉक्टर से दवाई लेने जाते हैं तब भी हम यही पूछते हैं कि किन चीजों का सेवन करें और किन चीज से परहेज करे। सिर्फ फूड को लेकर ही नहीं ऐसी तमाम चीजें हैं, जिन्हें हम सही मानते हैं लेकिन वह कहीं न कहीं हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित कर रही हैं। अनजाने में ही सही कहीं न कहीं हम इन बातों को सच मानकर अपने जीवन में लागू करते हैं और उनका खामियाजा हमें भुगतना पड़ता है। इस लेख में हम आपको ऐसी ही 8 गलतफहमियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें आप सच मानते हैं और कहीं न कहीं अपने स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाते हैं। तो आइए जानते हैं कि कौन सी हैं गलतफहमियां, जिन्हें आप सच मान रहे हैं।

misconception

आपकी सेहत से जुड़ी हैं 8 गलतफहमियां 

सिर्फ पानी और कुछ नहीं 

लोगों के बीच एक आम गलतफहमी है कि उन्हें रोजाना दिन में 8 गिलास पानी पीना चाहिए और हां दूसरे पेय पदार्थ को इसमें कोई गिनती नहीं है। जबकि ऐसा नहीं है सभी पेय पदार्थ हमारे शरीर में तरलता को पूरा करती हैं। इसलिए ये लोगों की गलतफहमी है कि सिर्फ पानी पीने से ही शरीर में तरावट आती है। 

नुचरल थेरेपी सबसे सेफ

लोगों के बीच एक आम धारणा है कि नेचुरल थेरेपी बिल्कुल सेफ होती हैं और दूसरे रसायनों से बेहतर होती है। जबकि ऐसा नहीं है क्योंकि रसायन इंसानी शरीर पर प्राकृतिक उपायों की तुलना में जल्दी असर करते हैं। कुछ स्थितियों में लोगों को रसायनों की जरूरत प्राकृतिक थेरेपी से ज्यादा होती है।

इसे भी पढ़ेंः दूध, दही और पनीर ही नहीं ये 7 सस्ते फूड हैं कैल्शियम से भरपूर, जानें कितनी मात्रा से मिलता है कितना कैल्शियम

ज्यादा खाने से मिलता है ज्यादा फायदा 

लोगों के बीच ऐसी मान्यता है कि अगर थोड़ा खाना आपकी सेहत के लिए अच्छा साबित होता है तो ज्यादा खाना उससे ज्यादा अच्छा साबित हो सकता है। ऐसी बातों पर विश्वास करना आपके लिए घातक साबित हो सकता है क्योंकि किसी भी चीज को जरूरत से ज्यादा खाना आपकी सेहत को नुकसान पहुंचाता है। इसलिए थोड़ा खाएं और हेल्दी रहें। 

शरीर विषाक्त पदार्थों से भरा हुआ है

कई लोग इस बात का दावा करते हैं कि हमारा शरीर विषाक्त पदार्थों से भरा होता है और उन्हें बाहर निकालना बेहद जरूरी होता है। लेकिन ऐसा नहीं है क्योंकि शरीर में कुछ विषाक्त पदार्थ अच्छे भी होते हैं, जो बाहरी बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते हैं और हमारी सेहत को बनाए रखते हैं। 

health misconception

टीके से होता है फ्लू

लोगों के बीच एक गलत धारणा ये भी है कि फ्लू के टीके से फ्लू हो सकता है। ऐसा नहीं है क्योंकि फ्लू का टीका आपको संक्रमण से बचाने में मदद करता है और आपको बीमारियों से भी दूर रखता है। 

इसे भी पढ़ेंः आम साबुन या एंटी-बैक्टीरियल साबुनः कीटाणुओं को मारने के लिए कौन सा साबुन है बेहतर, जानें इन साबुन की सच्चाई

डॉक्टर ही सब कुछ

कुछ लोगों का मानना है कि जो डॉक्टर ने कह दिया उसे बिल्कुल सही मान लेना हालांकि लोगों को ऐसा करना चाहिए लेकिन जब फायदा न हो तो आपको दूसरे डॉक्टर से भी सलाह लेनी चाहिए। 

लोगों के लेने चाहिए मल्टीविटामिन 

सेहत को बनाएं रखने के लिए बहुत से लोग मल्टीविटामिन का सेवन करते हैं लेकिन इसका ज्यादा मात्रा में सेवन आपके शरीर के लिए घातक हो सकता है। इसके साथ ही ये भी जरूरी है कि सभी लोगों को मल्टीविटाामिन नहीं लेने चाहिए। 

कैलोरी कम करने से घटेगा वजन

वजन घटाना सिर्फ आपके कैलोरी इनटेक पर ही निर्भर नहीं करता बल्कि आपको अपने भीतर इच्छाशक्ति भी जगाने की जरूरत होती है ताकि आप तेजी से वजन कम कर सकें। 

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

Disclaimer