दर्द निवारक दवाएं कितनी सुरक्षित हैं? एक्सपर्ट से जानें इसके फायदे और नुकसान

विविधBy Onlymyhealth editorial teamFeb 18, 2019

अक्सर यह कहा जाता है कि हमें दर्द निवारक दवाओं का सहारा नहीं लेना चाहिए और जब तक संभव हो दर्द सहना चाहिए। क्‍या दर्द निवारक दवाइयों को खाने के नुकसान हमारी कल्‍पना से ज्‍यादा है? हां, यह सच है कि हमें दर्द निवारक दवाओं का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे कई दुष्प्रभाव होते हैं। जो लोग स्‍टोर से दर्द निवारक ले रहे हैं उन्‍हें इस चीज से रोका जाना चाहिए और दर्द के पीछे के वास्तविक कारणों को जानने और समझने पर जोर देना चाहिए। लोगों को दर्द निवारक दवाओं के लगातार इस्तेमाल से बचना चाहिए। मैक्स हॉस्पिटल के डॉक्टर वहीद जमन (प्रिंसिपल कंसल्टेंट, यूरोलॉजी एंड रेनॉल ट्रांसप्लांटेशन) विस्‍तार से बता रहे हैं कि दर्द निवारक दवाएं हमारे लिए कितनी सुरक्षित हैं?  

दर्द निवारक कैसे काम करते हैं? यह एक इलाज है या सिर्फ एक सप्रेसन्ट (दमनकारी) है?

यह सिर्फ एक दमनकारी है। यह तीन तरीकों से काम करता है- एंटी-इंफ्लेमेटरी, एनाल्जेसिक और एंटीपीयरेटिक। तो, हर दर्द निवारक के काम करने का अपना तरीका है।

इन दर्द निवारक दवाओं के दीर्घकालिक दुष्प्रभाव क्या हैं और लगातार दर्द निवारक दवाओं के सेवन के बाद किन अंगों को नुकसान होने का सबसे अधिक खतरा है?

यह कई अंगों को प्रभावित करता है। पहले व्यक्ति को पेट में दर्द या अल्सर का अनुभव हो सकता है। एक मतली या उल्टी का अनुभव भी हो सकता है। लंबे समय में लिवर, हृदय और गुर्दे को प्रभावित करता है। दर्द निवारक दवाओं के सेवन से किडनी पर प्रतिकूल प्रभाव किसी के स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़ा खतरा है।

क्या दर्द निवारक कैंसरकारी हैं?

कुछ अध्ययन हैं जिन्होंने दावा किया है कि दर्द निवारक से किडनी कैंसर हो सकता है। बाकी लोगों में किडनी कैंसर होने का खतरा भी अधिक है। इसी तरह, एक प्रमुख पत्रिका द्वारा एक और अध्ययन किया गया जिसमें पाया गया कि दर्द निवारक दवाओं के सेवन से स्तन कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है। दर्द निवारक दवाओं के दुष्प्रभावों को साबित करने के लिए कई अन्य शोध भी चल रहे हैं।

क्या दर्द निवारक दवाएं एक नशे की लत हैं?

हाँ यह सच है। दर्द निवारक दवाओं में से कुछ अन्य की तुलना में अधिक नशे की लत हैं। उनमें से कुछ आसानी से उपलब्ध हैं जिन्हें स्‍टोर पर नहीं दिया जाना चाहिए।

दर्द निवारक दवाओं के मिश्रण के दुष्प्रभाव क्या हैं?

जितना संभव हो दवाओं के संयोजन से बचा जाना चाहिए। एक ही दिन में कई दर्द निवारक दवा नहीं लेनी चाहिए। कई बार लोग इन दर्द निवारक दवाओं का सेवन खाली पेट भी करते हैं जिससे पेट में अल्सर हो जाता है। लोगों को खुद से दवा लेने से बचना चाहिए। डॉक्टरों और सरकारों को मिलकर पर्चे के बिना दवा देने पर प्रतिबंध लगाना चाहिए। 

दर्द निवारक दवाओं का सबसे अच्छा विकल्प क्या है? दर्द निवारक दवा के बिना कोई दर्द से कैसे निपट सकता है?

ऐसे कई विकल्प उपलब्ध हैं जो लोगों को दर्द निवारक दवाओं का अधिक सेवन करने से रोक सकते हैं। नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए या फिजियोथेरेपी या योग का प्रयास करना चाहिए। व्यक्ति एक्यूप्रेशर तकनीक भी आजमा सकता है लेकिन प्रशिक्षित व्‍यक्ति से ही करें। 

Disclaimer