Health Videos »

नवजात में मोशन की समस्या का समाधान

Onlymyhealth Editorial Team, Date:2017-03-03

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

जिस तरह बड़ों में मोशन की समस्या होती है ठीक उसी तरह नवजात शिशु में भी मोशन की समस्या होती है। हालांकि कई बार हम ये समझ पाते हैं और कई बार नहीं भी समझ पाते हैं। आज डॉक्टर आर जी होल्ला हमें नवजात में मोशन की समस्या के बारे में बता रहे हैं। डॉक्टर कहते हैं कि जब बच्चे की खुराक बड़ों से अलग होती है तो उसका मल की बड़ों से अलग होता है। शुरुआती 2 से 3 दिन तक बच्चे का मल काले रंग का होता है। फिर उसके बाद जब उसके पेट में दूध जाता है तो उसके मल का रंग हरा और बाद में पीला हो जाता है। बच्चे का एक दिन में 8 से 10 बार टट्टी करना आम बात है। अगर बच्चा बहुत ज्यादा पतला मल निकाल रहा हो तो उसे एक बार डॉक्टर को दिखाना चाहिए। जो बच्चे मां का दूध पीते हैं वो थोड़ी ज्यादा टट्टी करते हैं और जो बाहर का या पैकेट वाला दूध पीते हैं वो कम करते हैं। अगर कभी बच्चे का पेट फूल जाए या पॉटी की जगह से टट्टी और हवा दोनों आना बंद हो जाए तो ये एक एमरजेंसी है। इस​ स्थिति में किसी डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

Related Videos
Post Comment

प्रतिक्रिया दें

Disclaimer +

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।