अन्य़ बीमारियांBy Onlymyhealth editorial teamMar 11, 2020

चीन समेत दुनियाभर में नोवेल कोरोनोवायरस से होने वाली मौतों की संख्‍या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। जबकि विभिन्न देशों में वायरस तेजी से फैल रहा है, इसलिए अफवाहें भी हैं। सोशल मीडिया और इंटरनेट पर फैली कोरोनावायरस से जुड़ी भ्रांतियों को तोड़ रहे हैं डॉ विवेक नांगिया। उनमें से कुछ निम्‍न हैं: 

1. सामान्य एंटीबायोटिक्स नए कोरोनोवायरस को ठीक कर सकते हैं! 

कोरोनावायरस एक म्‍यूटेटेड वायरस है। एंटीबायोटिक्स केवल बैक्टीरिया को मारते हैं, वायरस को मारने में सक्षम नहीं है। क्‍योंकि वे जीवाणुरोधी होते हैं। इसलिए एंटीबायोटिक्स से बचा जाता है। लेकिन अगर वायरस के साथ-साथ सेकेंड्री इंफेक्‍शन हो, तो आप इन दवाओं का सेवन कर सकते हैं। 

2. न्यूमोनिया के टीके नोवेल कोरोनोवायरस से बचाते हैं:

ये टीके आपको केवल निमोनिया बैक्टीरिया से बचा सकते हैं। निमोनिया वायरस या बैक्टीरिया के माध्यम से हो सकता है। निमोनिया वायरस के विभिन्न प्रकार हैं, और केवल कुछ टीके विशेष रूप से निमोनिया के लिए काम करते हैं। इसलिए टीके का संबंध कोरोनावायरस से नहीं है। हाल के इन्फ्लूएंजा के टीके कोरोनावायरस के खिलाफ कोई सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं।

3. कोरोनावायरस जानवरों के मांस से फैलता है:

चाहे वह शाकाहारी हो या मांसाहारी, यह मांस के माध्यम से नहीं फैल सकता है। इसके कोई साइड इफेक्ट नहीं है, लेकिन ध्यान रखें कि कच्चे मांस का सेवन न करें और उचित रूप से पकाया जाना चाहिए।

4. लहसुन खाने से कोरोनावायरस का इलाज किया जा सकता है:

ये बात वायरस के लिए तर्कहीन है। लहसुन एंटीऑक्सिडेंट गुणों के कारण आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली का निर्माण कर सकते हैं, लेकिन जब कोरोनोवायरस का इलाज करने की बात आती है तो कोई भूमिका नहीं होती है।

Watch More Videos on Health Talk In Hindi

Disclaimer