कोलोरेक्टल कैंसर

कोलोरेक्टल कैंसर

Colorectal Cancer In Hindi - कोलोरेक्टल कैंसर - कोलोरेक्टल कैंसर के विषय में जानकारी व लेख पढ़ें और उसके लक्षण, कारण, चिकित्सा, बचाव के बारे में www.onlymyhealth.com पर संपूर्ण जानकारी पायें|

Health Articles
कोलोरेक्टल कैंसर
  • ट्रीटमेंट के बिना चौथे स्‍टेज पर पहुंचे कैंसर से इस महिला ने ऐसे जी‍ती जंग

    ट्रीटमेंट के बिना चौथे स्‍टेज पर पहुंचे कैंसर से इस महिला ने ऐसे जी‍ती जंग

    कैंसर चौथे स्‍टेज में हो तो उपचार बहुत दर्दनाक और मुश्किल होता है, लेकिन इस महिला ने बिना ट्रीटमेंट के ही कैंसर से जंग जीत ली, आप भी इसके बारे में जानें।

  • कोलोरेक्टल कैंसर से चिकित्सा

    कोलोरेक्टल कैंसर से चिकित्सा

    कोलोरेक्टल कैंसर के मरीज का उपचार कई कारकों पर निर्भर होता है, जिसमें इसका आकार और स्थान, कैन्सर की स्टेज़, यह दोबारा हुआ है या नहीं, मरीज की वर्तमान स्थिति एवं अवस्था आदि शामिल होते हैं। आइए कोलोरेक्‍टल कैंसर की चिकित्‍सा के बारे में जानें।

  • कोलन कैंसर के लक्षणों को कैसे पहचानें

    कोलन कैंसर के लक्षणों को कैसे पहचानें

    कोलन कैंसर को बड़ी आंत का कैंसर भी कहा जाता है। जो महिलाएं फाइबर वाली चीजें कम खाती हैं जिससे उनमें कोलन कैंसर का खतरा अधिक होता है।

  • कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम कारक

    कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम कारक

    कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम कारक : कोलोरेक्टल कैंसर के होने की सम्भावना उम्र बढ़ने के साथ बढ़ जाती है। दूसरे कारक जैसे प‍ारिवारिक इतिहास, आहार, जीवन शैली, धूम्रपान आदि जिनसे कोलोरेक्टल कैंसर की सम्भावना बढ़ जाती है, आइए उनके बारे में हम आपको बताते है।

  • कोलोरेक्टल कैंसर का निदान

    कोलोरेक्टल कैंसर का निदान

    कोलोरेक्टल कैंसर का निदान : कोलोरेक्‍टल कैंसर के निदान के लिए चिकित्सक अक्सर सिग्माइडोस्कोपी या कोलनोस्कोपी की मदद से इस कैंसर का पता लगाने की कोशिश करते हैं। आइए जानें कोलोरक्‍टल कैंसर के निदान के लिए कौन से टेस्‍टों को अपनाया जाता हैं।

  • कोलोरेक्टल कैंसर से बचाव

    कोलोरेक्टल कैंसर से बचाव

    कोलोरेक्टल कैंसर से बचाव : कोलोरेक्टरल कैंसर से बचने के लिए सबसे अच्छा विकल्प है नियमित रूप से इसका टेस्‍ट। टेस्‍ट की मदद से प्रि कैंसरस ग्रोथ का पता लग जाता है, जिससे कि उनके कैंसरस होने से पहले उन्हें निकाला जा सके।

  • कोलोरेक्टल कैंसर में डाक्‍टर को कब सम्पर्क करें

    कोलोरेक्टल कैंसर में डाक्‍टर को कब सम्पर्क करें

    कोलोरेक्टल कैंसर में डाक्‍टर को कब सम्पर्क करें : अगर आपको कोलोरेक्टल कैंसर के लक्षण दिखते हैं जैसे डायरिया, कब्ज, सामान्य से पतले मल, मल में रक्तस्राव, वजन कम होना, लगातार उल्टी होना आदि। ऐसे लक्षण दिखते ही तुरंत अपने डाक्‍टर से सम्पर्क करें।

  • कोलोरेक्टल कैंसर क्‍या है

    कोलोरेक्टल कैंसर क्‍या है

    कोलोरेक्टल कैंसर क्‍या है : असामान्य कोशिकाओं की वृद्धि जब कोलन, रेक्टम या दोनों में ही फैलती हैं, तो इस फैलाव को कोलोरेक्‍टल कैंसर कहते है, आइए कोलोरेक्‍टल कैंसर के बारे में विस्‍तार से जानें। 

  • कोलोरेक्टल कैंसर का पूर्वानुमान

    कोलोरेक्टल कैंसर का पूर्वानुमान

    कोलोरेक्टल कैंसर का पूर्वानुमान : कोलोरेक्‍टल कैंसर का पूर्वानुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि लगभग 6% कोलोरेक्टल कैंसर पैतृक या वंश से मिले जीन की तेजी से होने वाली उत्पत्ति के कारण होते हैं।

  • कोलोरेक्टल कैंसर के लक्षण

    कोलोरेक्टल कैंसर के लक्षण

    कोलोरेक्टल कैंसर के लक्षण : कोलोरेक्टल कैंसर के शुरूआत में अस्‍पष्‍ट लक्षण देखने को मिलते है जिनमें रक्तस्राव, वजन घटना, और थकान शामिल है। परन्‍तु बाद की स्‍टेज में इसमें डायरिया, कब्ज, सामान्य से पतले मल, मल में रक्तस्राव, लगातार उल्टी होना आदि लक्षण दिखाई देते हैं, जानिए कैसे। 

कोलोरेक्टल कैंसर पर कुल लेख :10
संबंधित जानकारी कोलोरेक्टल कैंसर